बाॅर्डर खुली:किसानों की बात मानी, दिल्ली पुलिस ने खोला झाड़ौदा बाॅर्डर

बहादुरगढ़9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बहादुरगढ़ से दिल्ली जाना हुआ आसान

दस दिन से दिल्ली के किसान झाड़ौदा बाॅर्डर खुलवाने के लिए प्रदर्शन कर रहे थे। इन किसानों की मांग मानते हुए दिल्ली पुलिस ने रविवार को बहादुरगढ़ से नजफगढ़ जाने वाला झाड़ौदा बाॅर्डर खोल दिया है। इस कारण अब बहादुरगढ़ की तरफ से दिल्ली में जाने का एक मुख्य मार्ग खुल गया। तीन कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे आंदोलन की वजह से बंद किए गए झाड़ौदा बॉर्डर को खोलने की प्रक्रिया तीन दिन से चल रही थी। रविवार दोपहर बाद झाड़ौदा बॉर्डर खोल दिया। 26 जनवरी को दिल्ली में हुई हिंसा के बाद इसे बंद कर दिया था।

सुरक्षा के लिहाज से यहां भी दीवार बना दी गई थी, जिससे वाहनों का आवागमन पूरी तरह से बंद हो गया था। इस कारण बहादुरगढ़ के उद्योगपतियों का सामान दिल्ली में नहीं जा पा रहा था। झाड़ौदा के किसान फसल लेकर बहादुरगढ़ में नहीं आ पा रहे थे। इस कारण किसान झाड़ौदा के ग्रामीण बॉर्डर खोलने की मांग काे लेकर प्रदर्शन कर रहे थे। किसानों ने बॉर्डर खोलने के लिए दिल्ली पुलिस को तीन दिन का अल्टीमेटम दिया था। किसानों का कहना था कि झाड़ौदा बॉर्डर बंद होने से दिल्ली आने जाने वाले वाहन उनके खेतों से गुजरते थे। इससे उनकी फसल खराब हो गई थी। ऐसे में उन्हें काफी नुकसान उठाना पड़ा है।

फसल खराब होने के बाद खोला बाॅर्डर

किसानों का आरोप है कि जब सैकड़ों किसानों की गोभी की फसल खराब हो गई तब दिल्ली पुलिस को किसानों पर दया आई है। अब बाॅर्डर को खोला है। पचास फीसदी किसानों की फसल प्रभावित हो चुकी है। फसलों को बचाने के लिए ही ग्रामीणों ने प्रदर्शन किया था। कहा था कि उनकी यहां हजारों एकड़ में गोभी की फसल है, जो यहां उड़ने वाली मिट्टी के कारण पूरी तरह से बर्बाद हो गई है।

खबरें और भी हैं...