किसान प्रोटेस्ट:9 नवंबर को सिंघु बॉर्डर पर होने होने वाली बैठक में टिकरी बॉर्डर को लेकर होगी चर्चा

बहादुरगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ढासा बॉर्डर के किसानों ने धरना स्थल पर गोवर्धन की परिक्रमा कर किया पूजन - Dainik Bhaskar
ढासा बॉर्डर के किसानों ने धरना स्थल पर गोवर्धन की परिक्रमा कर किया पूजन
  • तीन कृषि कानूनों के विराेध में टिकरी बाॅर्डर पर किसान आंदोलन के 26 नवंबर को जाएंगे 12 माह पूरे

तीनों नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के 26 नवंबर को एक साल पूरे होने से पहले छह नवंबर को होने वाली बैठक अब नौ नवंबर को होगी। बैठक में टिकरी बॉर्डर को ढाई ढाई फीट खोले जाने के बाद स्थानीय स्तर के किसानों द्वारा नाराजगी प्रकट करने के मामले पर भी चर्चा हो सकती है। फैसला क्या होगा इसके बारे में नौ नवंबर की बैठक के बाद पता चल पाएगा। पर अब टिकरी बॉर्डर पर पंडाल में किसानों की संख्या लगातार कम होने व पंजाब से किसानों के पहले जैसे जत्थों के नहीं पहुंचने पर भी चर्चा होने लगी है।

इसी कारण तीन केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे धरना प्रदर्शन के मद्देनजर किसान नेताओं ने एक अहम बैठक अगले सप्ताह 9 नवंबर को बुलाई है। दिल्ली-हरियाणा के सिंघू बॉर्डर (कुंडली बॉर्डर) पर बुलाई गई 9 नवंबर की बैठक में आंदोलन को लेकर कोई कठोर फैसला भी लिया जा सकता है। 9 नवंबर को सिंघू बॉर्डर पर होने वाली बैठक में आंदोलन को कैसे पहले जैसी स्थिति में पहुंचाने को लेकर तैयार करनी है इस मुद्दे पर भी कोई फैसला हो सकता है व कोई ऐलान किया जा सकता है।

संयुक्त किसान मोर्चा ने एक बार फिर से प्रयास तेज कर दिए हैं कि तीन कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन में जल्द ही तेजी आए। इसी कारण संयुक्त किसान मोर्चा ने आह्वान किया है कि पंजाब और हरियाणा के अलावा यूपी से भी किसान दिल्ली-एनसीआर के बॉर्डर पर पहुंचे।
मास्टर सुरेंद्र दलाल खाप 84 ने किया समर्थन
संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं ने बताया कि धान की फसल की कटाई के ढलान पर होने के साथ ही बॉर्डर पर प्रदर्शनकारी किसानों की संख्या में हर हाल में इजाफा होगा। किसान संगठनों का कहना है कि जब तक तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को पूरी तरह से केंद्र सरकार वापस नहीं ले लेती, तब तक आंदोलन जारी रहेगा। वहीं शुक्रवार को कुलदीप सिंह डांडा नरवाना जींद ने टिकरी बॉर्डर बहादुरगढ़ पर किसानों को समर्थन दिया और एक पंजाबी गीत सुनाया।

कुलवंत सिंह मौलवी वाला सुभा प्रधान कुल हिंद किसान सभा पंजाब ने टिकरी बॉर्डर पर कहा कि दीपावली का त्यौहार बड़ा धूमधाम से मनाया गया और हमारे टिकरी बॉर्डर पर दिवाली के उपलक्ष्य में बहुत अच्छा प्रदर्शन रहा। जैसे कि सिंघू बॉर्डर पर कल दो तीन टेंट में आग लग गई थी, लेकिन काफी बचाव रहा कोई हताहत होने की कोई खबर नहीं है और हमारा संघर्ष जारी रहेगा। तीन कृषि कानून वापस करा कर ही हम घर वापस जाएंगे।

जीयालाल प्रदेश सचिव बीकेयू हरियाणा ने टिकरी बॉर्डर पर किसानों को समर्थन दिया व अपने संबोधन में कहा कि कल दिवाली मनाई और गोवर्धन पूजा व श्री कृष्ण भगवान के ऊपर प्रकाश डाला। इसके साथ-साथ लाल बहादुर शास्त्री ने जय जवान और जय किसान का नारा दिया।

मास्टर सुरेंद्र सिंह दलाल खाप 84 ने टिकरी बॉर्डर स्टेज पर किसानों का समर्थन दिया। उन्होंने प्रदेश के किसानों को आह्वान किया कि हरियाणा के सभी किसान टिकरी बॉर्डर पर पहुंचे तो यह स्टेज खाली नहीं दिखेगी। उन्होंने कहा कि हम यहां अगले 4 पीढ़ियों तक लड़ाई लड़ने के लिए बैठे हैं। इन लोगों ने अपनी रिश्तेदारी परिवार छोड़कर यही पर बैठे हैं। हम सभी त्योहार यही मना रहे है।

खबरें और भी हैं...