पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बाॅर्डर पर किसानों की कबड्‌डी:हरियाणा-पंजाब की 30 टीमों में हुए मुकाबले, 4 घंटे खिलाड़ियों ने दिखाया दमखम

बहादुरगढ़9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • शीत लहर में किसानों ने खिलाड़ियों का हाैसला बढ़ाया, फाइनल मुकाबला अाज

टिकरी बाॅर्डर पर मंगलवार काे किसानाें का आंदाेलन 49वें दिन भी जारी है। बाइपास का हाईवे जहां एक मिनट भी वाहन रुकने पर सैकड़ों वाहनों की लाइनें लग जाती है वहीं पर मंगलवार को जब युवा किसानों के कबड्‌डी मैच हो रहे थे तो वह नजारा देखने लायक था।

जैसे-जैसे खेल प्रेमियों को टिकरी बाॅर्डर पर चल रहे कबड्डी मैच का पता चला तो लोगों का टिकरी बाॅर्डर पर पहुंचने का सिलसिला तेज हो गया। इस तरह से विभिन्न मैचों का क्षेत्र के साथ-साथ किसानों ने जमकर लुफ्त उठाया। सुबह 11 बजे से शाम तीन बजे तक किसानाें ने कबड्डी मैच का आनंद लिया। किसानों की कबड्डी देख ऐसा लगा कि जैसे यह कोई हाईवे का किनारा नहीं कोई खेल मैदान है जहां बरसों से इस तरह से मैच चल रहे है व कई-कई प्रदेशों की टीम यहां चल रही प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेने आती रहती है।

किसानाें के जज्बे में कमी नहीं
सर्दी के मौसम में दो दिनों तक चलने वाली कबड्‌डी प्रतियाेगिता में हरियाणा व पंजाब के गांवों की करीब तीस टीमों को तैयार किया गया जिनके बीच में मैच खेले गए। बॉर्डर पर बच्चों की अलग-अलग टीमें बनाकर कबड्डी मैच का आयोजन किया गया। किसानों के आंदोलन में बच्चे, बुजुर्ग और महिलाएं भी शामिल हैं। आंदोलन में शामिल युवाओं ने शीत लहर के बीच कबड्डी मैच खेलकर सर्दी का आनंद लिया और प्रदर्शनकारियों का मनोरंजन किया।

पहले दिन इन टीमाें ने जीता मैच
मैच के बीच में प्रदर्शनकारी किसान केंद्र सरकार द्वारा लागू तीन कृषि कानूनों को वापस लेने और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर फसलों की खरीद की कानूनी गारंटी की मांग करते रहे व बीच-बीच में हरियाणा पंजाब भाईचारे के नारे भी लगाए जाते थे। पहले दिन हरियाणा व पंजाब की विजेता टीमों में मास्टर बहु अकबरपुर रोहतक, जाडली फतेहाबाद, राजपुरा जींद, खरेती जींद, ओगानल हिसार, अरी झज्जर के साथ-साथ नवां पिंड पंजाब,सिद्धसर जगरेड़ी पंजाब, सरावा पंजाब, फतेहगढ़ छना पंजाब व राेहतक के किलोई की टीमों में अब बुधवार को फाइनल के लिए मैच होगा। इसके आयोजन मं विभिन्न खापों के सदस्यों ने भी भाग लिया।

किसानों ने हौसला बढ़ाया
इस मौके पर हरियाणा, पंजाब एकता संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष सतीश राणा, भारतीय किसान यूनियन रोहतक के अध्यक्ष जयभगवान पहलवान, कुलदीप पहलवान, सतबीर पहलवान, संदीप सरपंच कबूलपुर, पवन पंडित गोधरा, जगदीश गुलिया, अकुपुर, अगजीत सिंह सांघी, दीपक सरपंच आसन, प्रदान देवेंद्र देशवाल व सांखौल का काला आदि सैकड़ों किसान नेताओं ने खिलाड़ियों का हौंसला बढ़ाया।

किसानों ने सरकार से जल्द से जल्द मांगें मानने की अपील की
गौरतलब है कि कि केन्द्र सरकार सितम्बर में पारित किए तीन नए कृषि कानूनों को कृषि क्षेत्र में बड़े सुधार के तौर पर पेश कर रही है, वहीं प्रदर्शन कर रहे किसानों ने आशंका जताई है कि नए कानूनों से एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) और मंडी व्यवस्था खत्म हो जाएगी और वे बड़े कॉरपोरेट पर निर्भर हो जाएंगे। इसी कारण किसान हाल ही बनाए गए तीन नए कृषि कानूनों-द प्रोड्यूसर्स ट्रेड एंड कॉमर्स (प्रमोशन एंड फैसिलिटेशन) एक्ट, 2020, द फार्मर्स (एम्पावरमेंट एंड प्रोटेक्शन) एग्रीमेंट ऑन प्राइस एश्योरेंस एंड फार्म सर्विसेज एक्ट, 2020 और द एसेंशियल कमोडिटीज (एमेंडमेंट) एक्ट, 2020 का विरोध कर रहे हैं।

किसानों को पंडाल में बताया गया कि सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार के तीनों कृषि कानूनों पर अगले आदेश तक रोक लगा दी है। इसके साथ ही कोर्ट ने बातचीत के लिए एक चार सदस्यीय समिति का गठन किया है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बारे में किसानों को बताया गया कि दुनिया की कोई ताकत उसे नए कृषि कानूनों पर जारी गतिरोध को समाप्त करने के लिए समिति का गठन करने से नहीं रोक सकती और उसे समस्या का समाधान करने के लिए कानून को निलंबित करने का अधिकार है। किसानों का आंदोलन आज 48वें दिन भी जारी है।

किसानों ने सरकार से जल्द उनकी मांगें मानने की अपील की है। कानूनों को रद्द कराने की जिद पर अड़े किसान इस मुद्दे पर सरकार के साथ आर-पार की लड़ाई का ऐलान कर चुके हैं। अब सिंघु बॉर्डर पर 26 जनवरी को होने वाले ऐतिहासिक प्रदर्शन की रूपरेखा 15 जनवरी को तय करेंगे वहां से जैसी जानकारी दी जाएगी तो उसे टिकरी बाॅर्डर पर चल रहे धरने पर बैठे लोगों को बताया जाएगा।

किसानों को सुप्रीम कोर्ट में चल रही बहस की भी दी जा रही थी जानकारी
मैच के अलावा टिकरी बाॅर्डर पर चल रहे धरने में किसानों को सुप्रीम कोर्ट में चल रही बहस के अपडेट भी बताए जा रहे थे। जानकारी देने के साथ साथ किसान नेताओं के भाषणों का दौर भी चल रहा था व होने वाले फैसलों की बराबर जानकारी भी दी जा रही थी।

किसानों ने कहा कि उनकी दो अन्य मांगों को सरकार ने बीते सप्ताह बुधवार को मान चुकी है। पर किसान नेताओं का कहना है कि उनकी जो प्रमुख दो मांगें हैं वो अभी पूरी नहीं हुई हैं और जब तक ये दोनों मांगें पूरी नहीं होंगी, उनका आंदोलन जारी रहेगा। प्रदर्शन स्थल पर डटे किसान नताओं ने कहा कि सर्दी के सितम और बारिश के बीच किसानों के जज्बे में कोई कमी नहीं है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपने अपनी दिनचर्या से संबंधित जो योजनाएं बनाई है, उन्हें किसी से भी शेयर ना करें। तथा चुपचाप शांतिपूर्ण तरीके से कार्य करने से आपको अवश्य ही सफलता मिलेगी। परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर ज...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser