नए बस अड्डे पर 50% किसान वापस जा चुके हैं:हरियाणा के संयुक्त किसान मोर्चा ने बिना एमएसपी कानून के पंजाब वापस नहीं जाने का किया आह्वान

बहादुरगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब के किसानों द्वारा रात के अंधेरे मेंं घर जाने का सिलसिला शुरू हो गया है। नए बस अड्डे के साथ-साथ बाइपास पर पचास फीसदी से अधिक किसान वापस अपने घर जा चुका है। इसी तरह से झोपडिय़ां खाली पड़ी है। हरियाणा के संयुक्त किसान मोर्चा के किसानों ने बिना एमएसपी कानून के ही पंजाब वापस नहीं जाने का आह्वान किया है। इसके लिए किसानों ने संयुक्त किसान मोर्चा के पांच सदस्य कमेटी का पुतला भी फूंका है व कुंडली में किसानों को वापस जाने से रोकने का सिलसिला तेज करने के साथ-साथ टिकरी बॉर्डर पर भी बुधवार से भूख हड़ताल शुरू करने की घोषणा की है। एक काॅल पर वापस आ जाएंगे: हरियाणा संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं द्वारा पंजाब के किसानों को घर वापस जाने से रोकने की घोषणा पर पंजाब अपने घर वापस जा रहे किसान किसी विवाद में नहीं आना चाहते व इसी कारण रात को ही वापस जाने लगे हैं। यदि संयुक्त किसान मोर्चा आंदोलन जारी रखने की बात करेगा तो वे एक काल पर तुरंत वापस आ जाएंगे। लंगरों की संख्या हुई कम: गौरतलब है कि हरियाणा के किसान एमएसपी कानून को लागू करवाने की मांग कर रहे हैं जबकि पंजाब के किसानों का कहना है कि उनकी मुख्य मांग तीनों कानून वापस हो चुके हैं व अन्य पर बात चल रही है इस कारण अब लंबे समय से बैठे किसान घर वापस जा रहे हैं। वैसे हरियाणा के किसानों का कहना है कि वे पंजाब वापस जा रहे किसानों को आदरपूर्वक ही रोकेंगे। पंजाब के किसानों के रात के समय जाने पर वे भी हैरान है। इसी कारण मंगलवार को देखा गया कि टिकरी बॉर्डर से लेकर बाईपास तक जहां-जहां भी लंगर व भंडारों की भरमार थी वहां अब दो से तीन लंगर ही बचे हैं। 12 किलोमीटर तक फैले किसानों के टेंटों में एक दो किसान ही बैठे दिखाई दे रहे हैं।

एमएसपी पर कानून के मुद्दों को लेकर पंजाब व हरियाणा के किसानों में टिकरी बाॅर्डर पर किसान नेता हरियाणा व पंजाब के किसानों में भाईचारा बना कर रखने का आह्वान करते दिखाई दिए। दर्शन सिंह रिटायर्ड सूबेदार ने अपने संबोधन में कहा कि इस आंदोलन से हमने बहुत कुछ सीखा है सबसे बड़ा तो हमने भाईचारा बनाना सीखा है आप लोगों के भाईचारे ने अपने तीनों काले कानून रद्द करवा कर सरकार का मुंहतोड़ जवाब दिया है। जब तक सरकार हमारी सारी मांगे नहीं मानती हम यहां पर एकजुटता के साथ बैठे रहेंगे। जोगिंदर सिंह ताल्लू भिवानी बीकेयू हरियाणा ने कहा कि आप लोग आपस में भाईचारा बनाकर रखो हम जीत के बहुत नजदीक है। सरकार ने हमारे ऊपर बहुत ज्यादा षड्यंत्र रचे हैं यह बहुत बड़ी मिसाइल है कि हरियाणा पंजाब के किसानों ने एक जंग जीती थी यह पूरे वर्ल्ड में जाएगा यह आप लोगों की बहुत बड़ी जीत है। रजिंदर सिंह दीप सिंह वाला प्रधान कीर्ति किसान यूनियन पंजाब ने कहा कि कोई भी लड़ाई महिलाओं के सहयोग के बिना पूरी नहीं हो सकती इस आंदोलन में महिलाओं ने बढ़ चढ़कर सहयोग दिया है जिसके चलते हमारी जीत हुई है। आने वाले दिनों में हम मिलकर रहेंगे तो और भी आंदोलन करेंगे। अब किसानों की सियासत यूनियन बनाने की जरूरत है तभी किसानों का भला हो सके।

खबरें और भी हैं...