दो दिवसीय अंत्योदय मेला:अंत्योदय मेले में 44 गांवों से 468 व 163 पात्र परिवारों ने आय बढ़ाने के लिए ली मदद

बहादुरगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

आजादी के अमृत महोत्सव में प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा शुरू की गई गरीब परिवारों की आय बढ़ाने के लिए खंड स्तर पर अंत्योदल मेले आयोजित करने की योजना के तहत बहादुरगढ़ में दो दिवसीय अंत्योदय मेला आयोजित किया गया। अंत्योदय मेले में खंड के 44 गांवों से 468 और नप शहरी क्षेत्र से 163 पात्र परिवारों ने एक ही स्थान पर आमजन से जुड़े 18 विभागों और विभिन्न बैंक के प्रतिनिधियों के साथ अपनी आय बढ़ाने के लिए मदद ली। मेले के नोडल अधिकारी एडीसी जगनिवास,नगर आयुक्त झज्जर प्रदीप कौशिक और बीडीपीओ युद्धवीर सिंह की निगरानी में 18 विभागों के अधिकारी अंत्योदय मेले में लगाई गई अपनी-अपनी स्टॉल पर उपस्थित रहे। मेले में पंहुचे पात्र परिवारों की आय बढ़ाने की दिशा में कौशल विकास के लिए ट्रेनिंग, ऋण सुविधा, बाजार की मांग के अनुसार स्वरोजगार शुरू करने आदि के बारे विस्तार जानकारी दी गई। इच्छुक पात्र परिवारों के योजनाओं का लाभ लेने संबधित कागजात मेले में ही भरवाए गए और लोन संबंधित कागजात तैयार करवाए गए। पात्र परिवारों की आत्मनिर्भरता का आधार बनेगा अंत्योदय मेला : कौशिक : पूर्व विधायक नरेश कौशिक ने अंत्योदल मेले के ग्रामीण क्षेत्र कार्यक्रम में बतौर मुख्यअतिथि शिरकत करते हुए कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव के दौरान खंड के 468 और शहरी क्षेत्र के 163 पात्र परिवारों की आय बढ़ाने के लिए अंत्योदय मेला आयोजित किया गया। मुख्यमंत्री मनोहर लाल की सोच है कि प्रदेश में कोई भी परिवार गरीबी की रेखा से नीचे न रहे। हमारी सरकार का प्रयास है कि हर परिवार की आय कम से कम एक लाख 80 हजार वार्षिक रुपए हो। उन्होंने कहा कि इस तरह के मेले आयोजित होने से पात्र परिवार आत्म निर्भर बन सकेंगे। सभी विभागों को सेवा भावना से पात्र परिवारों की मदद करने का आहवान करते हुए पूर्व विधायक नरेश कौशिक ने अंत्योदय मेले में खंड के पात्र परिवारों को लोन पत्र सौंपे। हर जरूरतमंद तक पहुंचेगा योजनाओं का लाभ : भाजपा प्रदेश प्रवक्ता डॉ. राकेश कुमार ने अंत्योदय मेले में शहरी क्षेत्र के कार्यक्रम में बतौर मुख्यअतिथि शिरकत करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री अंत्योदय परिवार उत्थान योजना प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की महत्वाकांक्षी योजना है। सभी संबधित विभाग, बैंक प्रतिनिधि और पात्र परिवारों को एक ही स्थान पर एकत्रित कर तत्काल योजना का लाभ देने की नीयत से अंत्योदय मेले आयोजित किए जा रहे हैंं। योजना के क्रियान्वयन में किसी प्रकार की ढिलाई न बरती जाए, इसके लिए मुख्यालय से वरिष्ठ अधिकारियों की ड्यूटी अंत्योदय मेले की निगरानी के लिए लगाई गई है। डॉ. राकेश कुमार ने अंत्योदय मेले में शहरी क्षेत्र के पात्र परिवारों को लोन पत्र भी सौंपे। चंडीगढ़ मुख्यालय से अंत्योदय मेले का अवलोकन करने पंहुचे डॉ साकेत कुमार (आईएएस) निदेशक उद्योग विभाग हरियाणा सरकार ने कहा कि सरकार का प्रयास है कि पात्र परिवारों की जीवन स्तर सुधरे । इसके लिए पात्र परिवारों की इच्छा और योग्यता के अनुसार प्रशिक्षण, स्वरोजगार शुरू करने के लिए लोन की सुविधा, मार्केङ्क्षटंग आदि के बारे में जानकारी सभी संबंधित विभागीय अधिकारियों द्वारा दी जा रही है। बैंक प्रतिनिधि भी बुलाए गए हैं। शहरी व ग्रामीण क्षेत्र के गरीब परिवारों की आय बढ़ाना सरकार का लक्ष्य है। पहले चरण में 50 हजार से एक लाख रुपए वार्षिक आय तक के परिवारों की आय दोगुनी करना : डीएमसी प्रदीप कौशिक ने जानकारी देते हुए कहा कि इस योजना का लक्ष्य पंक्ति में खड़े अंतिम परिवार को आगे लाना है। इसके लिए 42 योजनाएं चिह्नित की गई हैं। जो इन परिवारों की आमदनी बढ़ाने में मददगार होंगी। इनमें पात्रता के लिए एससी, बीसी, महिला, दिव्यांग को प्राथमिकता दी जाएगी। उन्होंने कहा कि स्वरोजगार के लिए कृषि, मत्स्य, पशुपालन व डेयरी जैसे व्यापारिक, औद्योगिक क्षेत्रों में व्यवसाय के साथ-साथ स्किलिंग में निपुण करने के लिए कंप्यूटर, चालक, सिलाई कढाई आदि के प्रशिक्षण भी शामिल हैं। उन्होंने कहा कि अभियान के पहले चरण में 50 हजार से एक लाख रुपए वार्षिक आय तक के परिवारों को आय दोगुनी करना है। इस अवसर पर बीडीपीओ युद्धवीर सिंह, बीडीपीओ उमेद सिंह, उपनिदेशक पशुपालन विभाग डॉ. मनीष डबास, नप ईओ संजय रोहिल्ला, सहायक रोजगार अधिकारी डॉ. अंजू नरवाल सहित अन्य विभागाध्यक्ष और बैंक प्रतिनिधि मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...