जवान की हार्ट अटैक से मौत:माजरी के जवान विकास को राजकीय सम्मान के साथ दी अंतिम विदाई, चार भाइयोंं में सबसे छोटे थे

बादलीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विकास को सशस्त्र सलामी देते सेना के जवान। - Dainik Bhaskar
विकास को सशस्त्र सलामी देते सेना के जवान।
  • श्रीनगर में कुश्ती प्रतियोगिता के लिए आए जवान की हार्ट अटैक से मौत

बादली के निकटवर्ती गांव माजरी निवासी विकास जोकि 27 पंजाब रेजीमेंट आर्मी में नायक के पद पर तैनात था उनका हार्ड अटैक के चलते निधन हो गया। नायक विकास का बुधवार सुबह उसके पैतृक गांव माजरी में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। विकास की अंतिम यात्रा में माजरी गांव के अलावा आसपास के गांव के ग्रामीण पहुंचे। अमर शहीद विकास के नारों के साथ जवान विकास को अंतिम विदाई दी गई।

इस मौके पर पुलिस और सेना के जवानों ने विकास को सशस्त्र सलामी दी। उन्हें पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। विकास फिलहाल रानीखेत उत्तराखंड में तैनात थे। विकास पहलवान के रूप में आर्मी में शामिल हुआ था। विकास फिलहाल भी कुश्ती प्रतियोगिता के लिए जैक लाई सेंटर श्रीनगर आया हुआ था, वहीं पर विकास को हार्ड अटैक हुआ। हार्ड अटैक के चलते उन्हें उधमपुर, जम्मू कश्मीर के आर्मी अस्पताल में दाखिल कराया गया। इलाज के दौरान 11 अक्टूबर को हार्ड अटैक के चलते उनका निधन हो गया।

विकास की एक बेटी व एक बेटा

विकास की एक 8 वर्षीय लड़की और 4 वर्षीय लड़का है। वह अपने पीछे अपने दोनों बच्चों के अलावा अपनी मां सावित्री देवी, पत्नी रेखा, पिता भीम सिंह, बड़ा भाई परमजीत व उनके अन्य परिवार जनों को रोता-बिलखता छोड़कर इस संसार से विदा हो गए। विकास चार भाई-बहनों में सबसे छोटा था। विकास के पिता भीम सिंह भी आर्मी में जवान थे और वे लगभग 20 वर्ष पूर्व सुबेदार के पद से सेवानिवृत्त हुए थे।

बड़े भाई परमजीत ने दी मुखाग्नि

विकास का पार्थिव शरीर बुधवार को उनके पैतृक गांव माजरी में लाया गया, जहां राजकीय सम्मान के साथ सशस्त्र सलामी देते हुए अंतिम संस्कार किया गया। विकास का अंतिम संस्कार उनके बड़े भाई परमजीत ने मुखाग्नि देकर किया। परिजनों के अनुसार विकास मात्र 29 वर्ष का था। लगभग नौ वर्ष पूर्व वह सेना में भर्ती हुआ था। भर्ती होने के कुछ समय बाद ही उनकी शादी यूपी निवासी रेखा के साथ संपन्न हुई थी।

विकास की अंतिम यात्रा में भारी जनसमूह पहुंचा। अमर शहीद विकास के जयकारों के साथ विकास की अंतिम यात्रा निकाली गई। उनके अंतिम यात्रा में बादली उपमंडल के प्रशासनिक व पुलिस के अधिकारी भी पहुंचे। सभी ने पुष्प अर्पित कर विकास को श्रद्धांजलि अर्पित की। उसके बडे़ भाई परमजीत ने उन्हें मुखाग्नि दी।

खबरें और भी हैं...