पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

टिकरी बॉर्डर पर आग लगाने की घटना:युवक को जिंदा जलाकर मारने के मामले में पुलिस का दावा- आराेपी ने कबूला, उसने ही मुकेश काे जिंदा जलाया

बहादुरगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गांव में विलाप करते हुए मृतक मुकेश मुदगिल की मां और पत्नी। - Dainik Bhaskar
गांव में विलाप करते हुए मृतक मुकेश मुदगिल की मां और पत्नी।
  • कसार में सन्नाटा, लाेगाें में खामाेशी, ग्रामीण किसानों की झोपड़ियों की तरफ भी नहीं गए, सुरक्षा के लिए 125 जवान किए तैनात

टिकरी बॉर्डर पर किसानों की झोपड़ी में मुकेश मुद्गल को जिंदा जलाकर मारने के मामले में गिरफ्तार आरोपी ने पुलिस पूछताछ में अपना गुनाह कबूल कर लिया है। पुलिस का दावा है कि मुख्य आरोपी जींद के रायचंद गांव निवासी कृष्ण ने बताया कि कसार गांव का मुकेश अक्सर किसानों के साथ बैठकर शराब पीता था। बुधवार को भी किसानों के साथ शराब पीने के दौरान ही किसान आंदोलन को लेकर बहस हो गई थी।

पुलिस पूछताछ में पता चला है कि आरोपी करीब 10 दिन से किसान आंदोलन में शामिल था। बहादुरगढ़ के सेक्टर-6 थाना प्रभारी जय भगवान ने बताया कि वारदात के अन्य तीन आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं। मुख्य आरोपी को रिमांड पर लेकर घटना के बारे में जानकारी और सुबूत जुटाए जा रहे हैं। शुक्रवार को दोपहर को आरोपी का कोरोना टेस्ट हुआ। उसे शनिवार को अदालत में पेश किया जाएगा।

पेट्रोल पंप के सीसीटीवी कैमरे खराब मिले: घटनास्थल के नजदीक स्थित पेट्रोल पंप के सीसीटीवी खराब मिले। लेकिन पुलिस तकनीकी लोगों की मदद से उसके डेटा जुटाने का प्रयास कर रही है। पुलिस ने मुकेश के मरने से पहले अस्पताल में लोगों द्वारा बनाए गए वीडियो को भी जांच में सबूत के तौर पर शामिल किया है।

पत्नी ने कहा- किसानों के जारी किए गए वीडियो में मेरे पति की आवाज नहीं
किसान मोर्चे द्वारा जारी एक वीडियाे में दावा किया गया है कि मुकेश ने पारिवारिक कारणों से तंग हाेकर आत्मदाह किया है। वहीं, मृतक की पत्नी रेणु ने कहा कि किसानों की ओर से जारी वीडियो में उसके पति की आवाज नहीं है। यह केवल हमारी जाति व मेरे पति को बदनाम करने के लिए किया जा रहा है। परिवार में किसी तरह का कोई विवाद नहीं था। पति भले ही इस समय बेरोजगार थे पर किसी को आज तक तंग नहीं किया। वह बुधवार शाम 5 बजे कह कर गए थे कि खाना बनाकर रखो, मैं अभी थोड़ी देर में आता हू्ं। वहीं, वीडियो को लेकर थाना प्रभारी ने कहा कि जांच तो तब होगी जब वीडियो को आधिकारिक रूप से पुलिस को सौंपा जाएगा।

टिकैत या अन्य किसान नेता गांव में नहीं आएं
गांव के सरपंच टोनी ने कहा कि उन्हें पता चला है कि राकेश टिकैत गांव में जाने की तैयारी में हैं। गांव की तरफ से चेतावनी दी जा रही है कि अच्छा होगा कि राकेश टिकैत गांव में नहीं आए। टिकैत ही नहीं भाईचारा बिगाड़ने वाला कोई भी किसान नेता गांव में प्रवेश न करे। नहीं तो यदि कोई हिंसा होती है तो वे खुद जिम्मेदार होंगे। सरपंच ने कहा कि पांच दिनों में प्रशासन ने किसानों की झोपड़ियां नहीं हटाई तो गांव अपने स्तर पर यह करेगा।

बवाल की आशंका पर, 125 जवानों की तैनाती

कसार गांव के मुख्य द्वार पर तैनात सुरक्षा बल
कसार गांव के मुख्य द्वार पर तैनात सुरक्षा बल

गांव में शुक्रवार को सन्नाटा रहा। वहीं, पुलिस व गुप्तचर विभाग पल-पल की खबर रखे हुए हैं। किसानों की झोपड़ियों को गांव से दूर करने के लिए गांव के लोग कोई विरोध प्रदर्शन नहीं करें, इसके लिए सरकार ने आरएएफ के जवानों के साथ पुलिस की टुकड़ी तैनात की है। 125 जवानों को दीवार की तरह से तैनात किया गया है, ताकि किसान भी गांव में प्रवेश नहीं कर सकें और गांव के लोग भी भीड़ के रूप में किसानों की झोपड़ियों की तरफ नहीं जा सकें।

गृह मंत्री बोले- दोषी को बख्शा नहीं जाएगा
गृहमंत्री अनिल विज ने कहा कि दिल्ली सीमा पर पेट्रोल डालकर एक व्यक्ति को जलाकर मारने का मामला गंभीर है। मृतक के भाई के बयान पर केस दर्ज कर लिया गया है। आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि जो दोषी होगा, उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। विज ने कहा कि वास्तविकता यह है कि आंदोलन अब किसान नेताओं के हाथ में नहीं है।

खबरें और भी हैं...