पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

आवारा पशुओं की समस्या:गली में टहल रही महिला को सांड ने मारी टक्कर, मौत

बहादुरगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शहर में गाेवंश का जमावड़ा, अभी तक गाेवंश की टक्कर से छह लाेगाें की हाे चुकी माैत

शहर में गोवंश की भरमार है। आए दिन ये किसी न किसी क्षेत्र में दुर्घटनाओं व हादसों का कारण भी बन रहे हैं। सोमवार को बादली रोड पर एक गोवंश की टक्कर से महिला की माैत हाे गई। इस घटना के बाद से उसके परिजनों व अन्य लोगों में भी रोष है। उन्होंने कहा कि जल्द ही सड़काें व गलियों में घूमने वाले गोवंशों से उन्हें निजात नहीं दिलाई गई तो वे सड़काें पर उतरकर आंदोलन करने के लिए मजबूर होंगे।

जानकारी अनुसार बादली रोड पर रहने वाली महिला कृष्णा सोमवार की सुबह अपनी गली में घूम रही थी। बताया गया है कि इसी दौरान उसे गोवंश ने टक्कर दे मारी। इसमें उसे काफी चोटें आई। परिवार के सदस्य उसे तुरंत इलाज के लिए शहर के एक निजी अस्पताल में लेकर गए, जहां डाॅक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

पहले भी हाे चुकी कई घटनाएं : गोवंश के कारण शहर की विभिन्न कॉलोनियों व सड़काें पर लोगों का सही से निकलना मुश्किल भरा हो रहा है। जहां देखों वहीं गोवंश घूमते रहते हैं। आने-जाने वाले राहगीरों को चोटिल करते रहते हैं वहीं आपस में लड़ कर वाहनों को भी क्षतिग्रस्त कर देते हैं।

लाइनपार क्षेत्र के फ्रैंडस कॉलोनी में शेर सिंह, चंद्र सिंह नांदल की भी गोवंश की टक्कर में मौत भी हो चुकी है। पूर्व पार्षद बलजीत नांदल ने कहा कि गलियों व सड़काें पर घूमने वाले गोवंशों के प्रति सरकार व प्रशासन को उचित ध्यान देते हुए उन्हें नंदीशाला में पहुंचाना चाहिए ताकि किसी तरह से कोई दुर्घटना या हादसा न हो।

इनके गलियों में घूमते रहने के कारण यहां रहने वाले लोगों का सही से निकलना तक मुश्किल हो रहा है। उन्हें यह भय सताता रहता है कि कहीं वे उनकी टक्कर से चोटिल न हो जाए। गौरतलब है कि बहादुरगढ़ में गोवंश के कारण अब तक छह लोगों की मौत हो चुकी जिनमें से तीन लाइन पर मैं तीन शहर की तरफ से हैं इस बारे में नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी अतर सिंह ने बताया कि गोवंश को गौशाला में पहुंचाने की व्यवस्था को लेकर जल्द ही अधिकारियों से विचार-विमर्श किया जाएगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर जाने का प्रोग्राम बन सकता है। साथ ही आराम तथा आमोद-प्रमोद संबंधी कार्यक्रमों में भी समय व्यतीत होगा। संतान को कोई उपलब्धि मिलने से घर में खुशी भरा माहौल ...

और पढ़ें