पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

किसानों का हल्ला बोल:टिकरी बाॅर्डर का जाम शहर तक पहुंचा, साइन बाेर्ड न होने से रात में भटक किसान सेक्टरों में पहुंचे, आरएएफ ने गलियों में संभाला मोर्चा

बहादुरगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कृषि कानूनाें के विराेध में “दिल्ली चलाे” आंदाेलन में टिकरी बाॅर्डर पर किसानाें का धरना चाैथे दिन भी जारी, इधर-शहर में हालात हो रहे प्रभावित

दिल्ली और दिल्ली की सीमाओं पर कृषि कानूनों के खिलाफ टिकरी बाॅर्डर पर पंजाब और हरियाणा से आए किसानों का हल्ला बोल चाैथे दिन भी जारी है। अब किसानों ने सोमवार से अपनी योजना को फिर से बदल लिया है। अब तक किसान सेक्टर-9 बाईपास पर 9 किलोमीटर लंबे जाम के पीछे नहीं खड़े करके अपने ट्रैक्टर ट्रालियों को शहर के अंदर तक ले जाए हैं।

इससे शहर से झाड़ौदा की तरफ जाने के मार्ग भी प्रभावित होने लगे है। देर रात तक किसान शहर की सड़कों व गलियों में टहलते रहे हैं जिससे विवाद का खतरा भी बढ़ गया है। इसे देखते हुए प्रशासन ने शहर में आरएएफ तैनात कर दी व हर चौक पर पुलिस के जवानों को तैयार किया है।

दिल्ली जाने वाले वाहन चालक हाे रहे परेशान

इस सबके बीच सबसे बड़ी समस्या दूसरे प्रदेश व जिलों से दिल्ली जाने वाले वाहन चालकों को हो रही है। जिस तरह से पंजाब से ट्रालियां बहादुरगढ़ में पहुंच रही है उस स्थिति में मंगलवार को बहादुरगढ़ से जाखौदा व नाहरा-नाहरी रोड की तरफ जाने के मार्ग भी बंद होने की कगार पर है।

प्रशासन के पास फिलहाल इससे निपटने की कोई योजना नहीं है। पहले टिकरी बाॅर्डर बंद किया तो वाहन सेक्टर-9 बाइपास से दिल्ली की तरफ जाने लगे। दूसरे दिन बाइपास भी बंद हो गया तो वाहन चालकों ने दिल्ली के जाड़ाैदा बाॅर्डर व खरखौदा के सैदपुर बाॅर्डर की तरफ से निकलना शुरू किया।

वहीं अब किसानों के ट्रैक्टर इन दोनों सड़कों पर पहुंचने से दिल्ली जाने के लिए सभी मार्ग बंद होने की संभावना बन गई है। टिकरी बाॅर्डर पर वक्ताओं ने साफ कर दिया कि अब दिल्ली को चारों तरफ से जाम करना है।

शहर में भी बढ़ाई गई सुरक्षा: किसान आंदोलन के चलते शहर में भी पुलिस ने सुरक्षा बढ़ा दी है। सोमवार से बाजारों से लेकर अन्य सार्वजनिक स्थानों पर पुलिस बल के साथ आरएएफ की टुकडिया तैनात कर दी गई।

ज्यादा भीड़ भाड़ वाले इलाको में ज्यादा संख्या में पुलिस की तैनाती की गई है। बस स्टैंड पर भी आरएएफ की टुकडिया तैनात कर दी गई है। पुलिस अधिकारियों की माने तो शहर की कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए पुलिस काम कर रही है। इतनी संख्या में पुलिस बल की तैनाती को देख लोग भी सकते है।

वहीं डीसी जितेंद्र कुमार ने विभिन्न किसान संगठनों द्वारा दिल्ली घेराव के मद्देनजर जिले में शांति व कानून व्यवस्था बनाए रखने के तहत 27 जनवरी तक किसी भी प्रकार की अनहोनी को रोकने के लिए धारा-144 लागू कर दी है।

डीसी ने शस्त्र, तलवार, गंडासे, लाठी, बरछी, कुल्हाड़ी, जेली, चाकू अथवा कोई अन्य हथियार लेकर चलते और पांच या पांच से अधिक लोगों के एकत्रित होने पर पाबंदी लगाते हुए धारा-144 को प्रभावी ढंग से लागू करने के आदेश दिए हैं।

बुराड़ी मैदान जाने से किसानाें का फिर इंकार

टिकरी बाॅर्डर पर सोमवार को भी प्रदर्शन कर रहे किसानों ने बुराड़ी स्थित मैदान में जाने के बाद बातचीत शुरू करने के केंद्र के प्रस्ताव को ठुकरा दिया है और अब दिल्ली को पूरी तरह से जाम करने का ऐलान किया है, जिसका असर अब सोमवार दोपहर बाद दिखाई देने लगा है।

कृषि कानून के खिलाफ सड़कों पर उतरे किसान अब पीछे हटने का नाम नहीं ले रहे हैं और चारों तरफ से दिल्ली में एंट्री के लिए जोर आजमाइश कर रहे हैं। किसानों की इसी कोशिश को देखते हुए सिंधु और टिकरी बॉर्डर को पहले ही बंद किया गया था।

अब बहादुरगढ़ के अन्य रास्तों को भी बंद करने के लिए टैक्टर-ट्राली शहर के बीच तक लगानी शुरू कर दी है पर प्रशासन व पुलिस किसानों की इस कार्यवाही के बाद भी लोगों की परेशानी को कम करने के लिए कुछ भी करने की स्थिति में नहीं है।

बहादुरगढ़ से इन रास्तों से निकला जा सकता है

बहादुरगढ़ की तरफ से दिल्ली को जाने वाले वाहनों की संख्या भी बराबर बढ़ रही है। विवाह समाराेह में यह संख्या और भी बढ़ गई है। इस कारण रोहतक-सांपला की तरफ से दिल्ली जाने वाले वाहन चालकों को बादली की तरफ से दिल्ली में भेजा जा रहा है।

इसी तरह से गुरुग्राम की तरफ जाने वालों को बादली की तरफ से भेजा जा रहा है। वहां रोहतक-सांपला झज्जर से गुरुग्राम की तरफ जाने वाले वाहनों को दुलीना व फरूखनगर की तरफ से भेजा जा रहा है। इसी तरह से रोहद टोल से गांव रोहद से गुरुग्राम जाने वाले वाहन चालको को मांडौठी, डाबौदा, बुपनिंया, बादली, दिल्ली, व गुरुग्राम जाने का मार्ग है पर यहां कोई साइन बोर्ड नहीं होने से रात के समय विवाह समारोह में जाने वाले वाहनों को रात के अंधेरे में गांव की तंग गलियों से निकलना पड़ रहा है।

इससे कभी भी वारदात होने की संभावना भी बढ़ गई है। इसी तरह से रोहद टोल से आसोदा की तरफ आने वाले वाहनों को दहकौरा, खुरमपुर व सौहटी की तरफ से दिल्ली भेजा जाएगा। वहीं राेहद की तरफ से आसौदा जसौर खेड़ी व लडरावण की तरफ से दिल्ली में प्रवेश दिया गया है।

इसके साथ-साथ भारी वाहनों को रोहद टोल से अासोदा केएमपी दिल्ली व गुरुग्राम भेजा जा जा रहा है। इसी तरह से बड़े वाहनों को राेहद की तरफ से जाखाेदा मोड़, सांखौल व नाले वाले रोड से से अागे भेजा जा रहा है। वहीं रोहद टोल से जाखौदा, नाहरा-नाहरी रोड, बामडौली व निजामपुर व कान्नौंदा से खेरपुर भेजते हुए दिल्ली में प्रवेश दिया जा रहा है।

दिल्ली जाने के लिए वैकल्पिक मार्ग ही चुनें

कृषि कानूनों के खिलाफ हजारों किसान बहादुरगढ़ के टिकरी बॉर्डर पर धरना देकर बैठे हैं। इस कारण बहादुरगढ़ शहर जाम है। इसे देखते हुए झज्जर जिला पुलिस प्रशासन ने ट्रैफिक एडवाइजरी जारी की है, ताकि आम लोगों को परेशानी नहीं हो।

बहादुरगढ़ से दिल्ली जाने का मुख्य मार्ग वाया टिकरी बॉर्डर इस धरने के कारण बाधित है। इसलिए आम जनता से अपील है कि दिल्ली जाने के लिए वाया बहादुरगढ़ टिकरी बॉर्डर का रास्ता नहीं अपनाएं।

दिल्ली जाने के लिए अन्य वैकल्पिक मार्ग जैसे बहादुरगढ़ झाडोदा नजफगढ़ बॉर्डर, बादली ढांसा बॉर्डर, जरगदपुर चौक से मुंडेला दिल्ली, बालोर मोड़ से झाडोदा कैर मुंडेला दिल्ली, गुभाना से बाकरगढ़ दिल्ली, देवरखाना लोहट से गालिबपुर दिल्ली, बाढ़सा से गालिबपुर दिल्ली गांव लुक्सर से मुंडेला दिल्ली या याकूबपुर फरुखनगर गुरुग्राम होते हुए दिल्ली जाना संभव है। आमजन से अपील है कि वे दिल्ली जाने के लिए इन वैकल्पिक मार्गों का उपयोग करें। बहादुरगढ़ टिकरी बॉर्डर पर जाने से बचें।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- जिस काम के लिए आप पिछले कुछ समय से प्रयासरत थे, उस कार्य के लिए कोई उचित संपर्क मिल जाएगा। बातचीत के माध्यम से आप कई मसलों का हल व समाधान खोज लेंगे। किसी जरूरतमंद मित्र की सहायता करने से आपको...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser