पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

बहादुरगढ़:डेयरी संचालकों को दिया समय समाप्त, आज से रजिस्ट्रेशन न कराने पर कार्रवाई करेगी नप

बहादुरगढ़16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

नगर परिषद ने सीवर लाइन व खुले में गोबर डालने वाले डेयरी संचालकों के चालान करने शुरू किए तो अब कैटल डंग मैनेजमेंट पॉलिसी के तहत रजिस्ट्रेशन कराने वालों की संख्या बढ़ गई है। अब तक करीब 100 से अधिक डेयरी संचालकों ने रजिस्ट्रेशन कराया, जबकि बहादुरगढ़ में तीन सौ से अधिक छोटी बड़ी डेयरी है। इस पॉलिसी के तहत रजिस्ट्रेशन कराने वालों की संख्या अब 100 तक पहुंच जाने के बाद भी अन्य लोग सामने नहीं आ रहे हैं।

पॉलिसी के तहत रजिस्ट्रेशन कराने के लिए नगर परिषद ने एक सप्ताह का समय दिया था जो अब समाप्त हो चुका है। इस कारण सोमवार से फिर से कार्रवाई की जाएगी। अब पंजीकरण न कराने वाले डेयरी संचालकों को 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा। इस पॉलिसी के तहत छोटे डेयरी संचालकों के यहां से निर्धारित शुल्क लेकर नगर परिषद डोर-टू-डोर गोबर उठाना है। इस गोबर से गैस बनाएगी तथा वैज्ञानिक तरीके से भी इसका निपटान करेगी।

जैविक खाद व गैस बनाने के लिए नगर परिषद की ओर से बायोगैस प्लांट बनाया जाएगा। इसके अलावा बड़े डेयरी संचालकों को खुद अपने स्तर पर बायोगैस प्लांट लगाना होगा तथा गोबर का निपटान करना होगा। ऐसा न करने वाले डेयरी संचालकों पर पांच हजार रुपए का जुर्माना किया जाएगा।

नगर पालिका अधिनियम की धारा 135 में तो छह माह की सजा का भी प्रावधान है। एनजीटी के आदेश पर नगर परिषद ने पिछले दिनों सर्वे कराया था। सर्वे के दौरान बहादुरगढ़ शहर में करीब 275 डेयरियां मिली थी। ये सभी डेयरियां काॅलोनियों में ही चल रही हैं। इसके अलावा भी 25 के करीब छोटे डेयरी है जो एक दो भैंस ही रखे हुए हैं। इन डेयरियों को शहर से बाहर शिफ्ट करने के लिए नगर परिषद के पास जमीन नहीं है। ऐसे में नप प्रशासन ने गांव मांडोठी व लडरावण में जमीन खरीदने का निर्णय लिया था।

सरकार ने प्रशासन की मांग पर 35 करोड़ की राशि मंजूर करते हुए 10 करोड़ की राशि जारी भी कर दी थी लेकिन अब तक कहीं पर भी जमीन नहीं खरीदी जा सकी। सीवर व खुले में गोबर डालने पर पिछले सप्ताह पटेल नगर, दयानंद नगर, मामन विहार, आर्य नगर में 18 डेयरी संचालकों समेट एक सौ करीब डेयरी संचालकों ने अावेदन किया हुअा है। नगर परिषद से सचिव मुकेश कुमार ने बताया कि ऐसे में कैटल डंग मैनेजमेंट पॉलिसी के तहत पंजीकरण कराने के लिए जो समय दिया था वह समाप्त हो गया है। अब सोमवार से डेयरी का रजिस्ट्रेशन न कराने वाले संचालकों के खिलाफ कार्रवाई शुरू की जाएगी। नप अधिकारियों के अनुसार जिस डेयरी संचालक ने अपनी डेयरी का रजिस्ट्रेशन नहीं कराया उसे अब किसी भी तरह की रियात नहीं दी जाएगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर आप कुछ समय से स्थान परिवर्तन की योजना बना रहे हैं या किसी प्रॉपर्टी से संबंधित कार्य करने से पहले उस पर दोबारा विचार विमर्श कर लें। आपको अवश्य ही सफलता प्राप्त होगी। संतान की तरफ से भी को...

और पढ़ें