पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भारतीय किसान यूनियन लोकशक्ति ने लिया फैसला:झूठे मुकदमे रद्द कराने के लिए 3 काे दादरी में किसान करेंगे पंचायत

बहादुरगढ़15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भारतीय किसान यूनियन लोकशक्ति ने लिया फैसला - Dainik Bhaskar
भारतीय किसान यूनियन लोकशक्ति ने लिया फैसला

भारतीय किसान यूनियन लोकशक्ति के पदाधिकारियों ने टिकरी बॉर्डर के पास बैठक की। इसमें भाकियू प्रदेश महासचिव रणबीर फौजी घिकाड़ा ने कहा कि बैठक का मुख्य उद्देश्य चरखी दादरी पुलिस व स्थानीय प्रशासन की अाेर से सामाजिक कार्यकर्ताओं पर दर्ज किए गए मुकदमे का विरोध विरोध करना है। इसको लेकर संयुक्त किसान मोर्चा की 3 जून काे चरखी दादरी में किसान पंचायत होगी।

इसमें झूठे मुकदमे रद्द करवाने के लिए किसान एकजुट होकर शक्ति प्रदर्शन करेंगे। उन्होंने कहा कि जातीय द्वेष फैलाने के लिए गुप्त एजेंडे के जरिए किसानों पर स्थानीय पुलिस व चरखी दादरी प्रशासन ने लॉकडाउन के उल्लंघन मुकदमा दर्ज किया है, इसकी निंदा की जाती है।

भाकियू प्रदेशाध्यक्ष जगबीर घसौला ने कहा कि प्रशासन ने जिस प्रकार से मुकदमे का विरोध कर रहे किसानों पर लॉकडाउन उल्लंघन करने का मुकदमा दर्ज किया वह गलत है। किसान आंदोलन के चलते समस्त हरियाणा में लॉकडाउन के उल्लंघन से संबंधित मुकदमे दर्ज किए हैं।

इसलिए हम जिला प्रशासन का ध्यान इस तरफ दिलाना चाहते हैं कि चरखी दादरी प्रदर्शन में शामिल किसी भी व्यक्ति को गिरफ्तार करने से बजाए लॉकडाउन से संबंधित उल्लंघन की धाराओं के मामलों में जब तक पूरे हरियाणा प्रदेश में कार्रवाई नहीं की जाती है तब तक चरखी दादरी जिला प्रशासन भी संयम बरतें। अशांति फैलने पर प्रशासन जिम्मेदार होगा।

समाधान नहीं होने पर महम विधायक नेताओं के साथ पहुंचेंगे: बैठक में रणबीर मांकावास धरना प्रधान, जयपाल कुंडू, प्रदीप धनखड़, हंसराज राणा, जिला प्रभारी यादवेंद्र गुड्डी, जिला संरक्षक मांगेराम निमली, जिला महासचिव धर्मचंद तिवाला, युवा जिला अध्यक्ष सिटी महाडा, युवा मीडिया प्रभारी रवींद्र कुमार, पूर्व सरपंच नरेंद्र आदि ने कहा कि भविष्य में मुकदमे वापस नहीं लेने के साथ दोषी पुलिस उच्च अधिकारियों के निलंबन के लिए आंदोलन का केंद्र दादरी बनाने के लिए टिकरी बॉर्डर जत्थेदारियों से संपर्क किया जा रहा है।

इसी सिलसिले में प्रदेश में बढ़ते आक्रोश को रोकने के लिए महम विधायक बलराज कुंडू ने चंडीगढ़ में संबंधित मंत्रियों से भी मामले में तुरंत हस्तक्षेप के लिए मुलाकात की है। समाधान नहीं होने पर वह स्वयं अधिवक्ता किसान नेताओं के साथ दादरी उपस्थित होंगे।

खबरें और भी हैं...