कैप्टन कुलदीप सिंह राठी की 50वीं पुण्यतिथि:वेस्ट जुआ ड्रेन का नाम शहीद कैप्टन कुलदीप सिंह मार्ग रखने की मांग

बहादुरगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सांखोल गांव के कैप्टन कुलदीप सिंह की 50वीं पुण्यतिथि पर गांव की संघर्षशील जनकल्याण सेवा समिति ने उनके वीर भूमि में स्थित स्मारक पर सफाई अभियान चला कर व पुष्प अर्पित करके उन्हें श्रद्धांजलि दी। पुण्यतिथि पर तहसीलदार श्रीनिवास ने भी श्रद्धासुमन अर्पित किए। इस अवसर पर मेजर सुधीर राठी ने बताया कि 7 दिसम्बर का दिन आते ही सभी सांखोल वासियों की आंखें नम हो जाती है।इस दिन उन्होंने अपने गांव के वीर सपूत कैप्टन कुलदीप सिंह को देश पर कुर्बान होते देखा था। कैप्टन कुलदीप राठी जब देश के लिए शहीद हुए तब उनकी उम्र मात्र 23 साल थी। देश सेवा का जज्बा उन्हें एक तरह से विरासत में मिला था। उनके पिता तारीफ सिंह राज राइफल में आनरेरी कैप्टन थे। कुलदीप राठी चार भाई-बहनों में सबसे बड़े थे। 21 दिसंबर 1968 को उन्होंने कमीशन प्राप्त किया और कैप्टन बने।

वीर चक्र प्रदान किया गया था : कैप्टन कुलदीप अविवाहित थे। उनके शहीद होने की खबर अगले दिन घर पहुंच गई थी। दो सप्ताह बाद मेजर पृथ्वी सिंह उनकी अस्थियां लेकर पहुंचे थे। बाद में सरकार की ओर से उन्हें वीर चक्र प्रदान किया गया। यह सम्मान 1972 में तत्कालीन राष्ट्रपति वीवी गिरी से कैप्टन कुलदीप के पिता आनरेरी कैप्टन तारीफ सिंह ने ग्रहण किया था। इस अवसर पर संजय प्रधान ने बताया कि हम सभी गांव वाले चाहते है कि हमारे गांव से गुजर रहे वेस्ट जुआ ड्रेन का नाम “शहीद कैप्टेन कुलदीप सिंह मार्ग” कर दिया जाए। समिति के द्वारा हाल ही में एसडीएम को ज्ञापन भी सौंपा गया है। इस अवसर पर गांव की बेटी संजना को भी कैप्टन कुलदीप सिंह की तस्वीर देकर सम्मानित किया गया। संजना गांव के ही सरकारी स्कूल में निशुल्क रूप से बच्चों को पढ़ा रही है। इस कार्यक्रम में गांव की आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने भी शिरकत की।

खबरें और भी हैं...