पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सीआईए ने बिजली के ताराें से भरा कैंटर पकड़ा:एल्युमिनियम स्क्रैप की आड़ में छिपाकर लाया जा रहा था बिजली के नए ताराें काे

बहादुरगढ़6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पुलिस की एक टीम ने बिजली के तारों से भरे एक कैंटर को काबू किया। पुलिस ने भारी मात्रा में बरामद बिजली की तारों के संबंध में दिल्ली निवासी एक आरोपी को काबू करके चोर गिरोह का पर्दाफाश किया है। मामले की जानकारी देते हुए सीआईए वन से सहायक उप निरीक्षक अशोक कुमार ने बताया कि एसपी राजेश दुग्गल के निर्देशानुसार कार्रवाई करते हुए अपराध जांच शाखा प्रथम बहादुरगढ़ ने बिजली निगम की तार चोरी करने वाले एक गिरोह का भंडाफोड़ किया है। बिजली के तारों के बंडलों से भरे एक कैंटर को पकड़ा गया है।

कैंटर से 70 क्विंटल बिजली की तार बरामद हुई है। एल्युमिनियम स्क्रैप की आड़ में बिजली की नई तारों को छिपाकर कहीं ले जाया जा रहा था। तारों से भरे कैंटर के साथ गाड़ी के चालक को काबू किया गया। ये तारें कहां से चोरी की गई, कहां ले जाई जा रही थी और कौन-कौन इस मामले में शामिल है आदि के संबंध में स्थानीय पुलिस द्वारा गहनता से कार्रवाई जा रही है।

उन्होंने बताया कि सीआईए वन की एक टीम सहायक उपनिरीक्षक तेन सिंह के नेतृत्व में रोहतक-दिल्ली रोड पर थाना सेक्टर 6 बहादुरगढ़ के एरिया में गश्त पर तैनात थी। टीम ने संदेह के आधार पर एक कैंटर को रुकवाया। कैंटर चालक ने अपना नाम अमित निवासी बिहार बताया। पूछने पर उसने कहा कि गाड़ी में एल्युमिनियम स्क्रैप भरा हुआ है। टीम ने जांच की तो ऊपर कुछ एल्युमिनियम के तार दिखाई दिए। लेकिन जब उन्हें हटाकर चेक किया गया तो स्क्रैप के नीचे बिजली की तारों के बंडल पाए गए।

आराेपी काे काेर्ट में पेश कर 5 दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा

कागजाें में स्क्रैप काे दिल्ली से बेरी जाना दिखाया
इन तारों के बंडलों के बारे में आरोपी चालक अमित से पूछा गया तो वह संतोषजनक जवाब नहीं दे सका। इसके बाद बिल्टी, धर्मकांटा पर्ची आदि कागजात की जांच की गई। कांटे की पर्ची में गाड़ी का भार 12095 किलो व तारों का भार 7190 किलो दर्ज पाया गया। बिल्टी जेजेएस शर्मा ट्रांसपोर्ट नाम से कटी थी। तमाम दस्तावेजों में माल एल्युमिनियम स्क्रैप चढ़ाया गया था। माल जीएस ट्रेडिंग कंपनी दिल्ली से आया व भगवती रिसाइकलिंग कंपनी बेरी जाना दिखाया गया है।

ताराें काे कहां से चाेरी किया गया व इसमें काैन-काैन शामिल

पकड़े गए आरोपी अमित से पूछताछ की गई तो उसने बताया कि ये तारों के बंडल शाहबाद डेयरी दिल्ली के नजदीक स्थित एक गोदाम से राजेंद्र गर्ग ने लोड कराए थे। राजेंद्र ने ही बिल्टी व अन्य दस्तावेज दिए। उन्होंने बताया कि सीआईए ने बिजली निगम के अधिकारियों को मौके पर बुलाया। बिजली विभाग के अधिकारियों ने तारों के बंडलों को देखकर कहा कि ये बड़ी टावर लाइन में इस्तेमाल होने वाली तारें हैं। कागजात में बेशक स्क्रैप लिखा हुआ है, लेकिन इन तारों का अभी इस्तेमाल नहीं हुआ है। ये तारे बिल्कुल नई हैं और इन्हें कहीं से चोरी किया गया है। जिसके बाद सीआईए टीम द्वारा कार्रवाई करते हुए मामले के आरोपी राजेंद्र को गुप्त सूचना के आधार पर राई जिला सोनीपत के एरिया से काबू किया गया। पकड़े गए आरोपी ने पूछताछ में इसी मामले का खुलासा किया।

उन्होंने बताया कि बरामद बिजली की तारों को चोरी कहां से किया गया। इस संबंध में गहनता से जांच पड़ताल की जाएगी। बिजली की तारों से भरे कैंटर के सम्बन्ध में कार्रवाई करते हुए थाना सेक्टर 6 बहादुरगढ़ में अपराधिक धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। पकड़े गए आरोपी राजेन्द्र के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उसे कोर्ट में पेश किया गया। जहां से आरोपी को पूछताछ के लिए पांच दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया है। पुलिस रिमांड के दौरान पूछताछ में आरोपी से चोरी के इस अवैध धंधे में और कौन-कौन शामिल है के संबंध में खुलासा होने की संभावना है।

खबरें और भी हैं...