प्रवासियों की हाेगी पहचान:डॉ.भीम राव अंबेडकर स्टेडियम की जमीन पर किसका कब्जा? प्रशासन बेखबर,अब हटाई जाएंगी सैकड़ों झोपड़ी

बहादुरगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एक सप्ताह पहले राेहतक के आईएमटी में हुए बम ब्लास्ट के बाद बहादुरगढ़ में हाई अलर्ट, अब प्रवासियों की हाेगी पहचान

बहादुरगढ़ के डॉ.भीमराव अंबेडकर स्टेडियम के पास झोपडिय़ों में कई साल से रह रहे बंगाली बोलने वाले करीब दो सौ परिवार कहीं रोहिंग्या तो नहीं है इसे लेकर अब जांच होगी। वहीं स्टेडियम की जमीन पर कब्जा करके रह रहे सभी लोगों को तुरन्त हटाने के आदेश किए गए हैं। खुद जिला उपायुक्त श्यामलाल पुनिया ने मौके पर पहुंचकर देखा तो वे भी हैरान रह गए कि स्टेडियम की जमीन पर बसी इन बिना पहचान के लोगों की झाेपडियां लगातार कैसे बढ़ती जा रही है व प्रशासन के पास इनकी कोई जानकारी भी नहीं है।

इस कारण स्टेडियम की जमीन को पूरी तरह से खाली करवाने के साथ साथ सभी की वेरिफिकेशन भी करवाने को कहा है। इसके साथ-साथ बहादुरगढ़ में कितने प्रवासी है व कब से रह रहे हैं नहीं जानती पुलिस। एक सप्ताह पहले रोहतक में हुए विस्फोट के चलते बहादुरगढ़ में भी हाई अलर्ट के चलते सभी किरायेदारों की भी जानकारी व हर गांव में रह रही हजारों की संख्या में श्रमिकों की भी पहचान के प्रयास शुरू हो गए हैं। इस मामले में वैसे भी स्थानीय पुलिस ने अपने स्तर पर गांवों में रह रहे श्रमिकों की लिस्ट बनाने की कार्रवाई शुरू कर दी है। जिससे प्रशासन के पास एक आंकड़ा तैयार हो सके। डीसी श्याम लाल पुनिया ने कहा कि इस बारे में स्टेडियम की जमीन से सभी झोपडिय़ों व अवैध कब्जों को तुरन्त खाली करवाने को कहा है। गौरतलब है कि तीन साल पहले यहां रहने वालों की वैरिफिकेशन के लिए एसपी कार्यालय से बिहार व आसाम पत्र भेजे गए थे पर कोई जवाब नहीं आया था। अब एक बार फिर से प्रयास तेज कर दिए गए हैं।

खबरें और भी हैं...