अखिल भारतीय विश्वविद्यालय एथलेटिक्स चैंपियनशिप:डीघल कन्या स्कूल में एनएसएस सात दिवसीय शिविर का समापन

बेरी19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय डीघल में एनएसएस के सात दिवसीय विशेष शिविर के सातवें दिन कैंप के समापन समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्यातिथि डीपीसी सुभाष भारद्वाज के पहुंचने पर प्राचार्य राजकुमार पंघाल ने स्वागत किया। डीपीसी भारद्वाज ने कार्यक्रम में एनएसएस के स्वयं सेविकाओं द्वारा बनाई गई कृतियों की प्रदर्शनी का अवलोकन किया और बच्चों के कार्यों की सराहना की। तत्पश्चात छात्राओं ने कविता-पाठ देशभक्ति गीत व भाषण द्वारा अपने भाव व्यक्त किए।

कुमारी चेतना ने अपने सात दिवसीय विशेष शिविर के अनुभव को व्यक्त किया। डीपीसी साहब ने बच्चों को कैंप के दौरान सीखी गई बातों को अपने जीवन में आत्मसात करने की प्रेरणा दी और कहा कि आप आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ो व एनएसएस के आदर्श सिद्धांत 'नॉट में बट यू' को जीवन में अपनाकर दूसरों की निस्वार्थ भाव से सेवा करो। स्वयं सेविकाओं ने डीपीसी सुभाष भारद्वाज, प्राचार्य राजकुमार व समस्त स्टाफ को स्वयं बनाए गए एनएसएस कार्ड भेंट किए।

कार्यक्रम के दौरान कैरियर काउंसलर विवेक द्वारा छात्राओं को आगे की पढ़ाई हेतु विभिन्न कोर्सों से अवगत करवाया गया व उन्हें कैरियर के क्षेत्र में उचित राय दी।प्राचार्य ने सभी स्टाफ सदस्यों व कैरियर काउंसलर विवेक को स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया व छात्राओं को उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। इस कार्यक्रम में शांति प्रकाश, सुनीता, शशिकिरण, पुष्पा, मुकेश, नीरज, किरण, पूनम, रश्मि, दीपक व अन्य स्टाफ सदस्य भी मौजूद रहे।

एनएसएस शिविर में कैरियर के बारे में दी जानकारी

साल्हावास | राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय मातनहेल में एनएसएस शिविर के सातवें दिन समापन किया गया। समापन के अवसर पर मुख्य रूप से विशिष्ट अतिथि के तौर पर प्राचार्य सुरेश पाल एवं मुख्य वक्ता एव काउंसलर के तौर पर डॉक्टर करण सिंह वाणिज्य संकाय मॉडल स्कूल चरखी दादरी से उपस्थित रहे। डॉक्टर करण सिंह ने बच्चों को कैरियर के बारे में बताया और उन्होंने यह साथ यह बताया कि कक्षा बारहवीं के बाद तीनों संकाय के बच्चे किस दिशा में आगे बढ़ सकते हैं। और किस प्रकार एक सीमित समय के दौरान सीमित पढ़ाई करते हुए अपने जीवन को सफल बना सकते हैं।

इसके साथ विद्यालय प्राचार्य एवं मुख्य वक्ता सुरेश पाल ने बच्चों के साथ आपने जीवन के बिताए गए बहुत ही महत्वपूर्ण पल साझे किए। इस अवसर पर मुख्य रूप से मुख्य वक्ता के तौर पर प्राचार्य सुरेश पाल मेन स्पीकर के तौर पर डॉक्टर करण सिंह एवं प्राध्यापक वर्ग से चांद सिंह, पवन कुमार, जयविंदर, जितेंद्र कुमार, एनएसएस कोऑर्डिनेटर नवीन कुमार व प्राध्यापक समाजशास्त्र मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...