पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खून की जरूरत:2 युवाओं ने दिखाई मानवता, लॉकडाउन में दिया प्लेटलेट

झज्जर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • महिला को डिलीवरी के दोरान पड़ी खून की जरूरत

कोरोना काल में हर तरफ बने तनाव और दहशत के माहौल के बीच कुछ लोग ऐसे भी हैं जो मानवता दिखाकर इंसानियत के ग्राफ को ऊंचा बढ़ाने में भी जुटे हुए हैं। ऐसे ही एक प्रकरण में दो युवाओं ने उस समय एक महिला और उसके गर्भस्थ बच्चे की जान बचाने का काम किया जब डिलीवरी के दौरान महिला को प्लेटलेट की जरूरत थी तब ग्रामीण क्षेत्र के दो युवाओं ने लॉकडाउन में घर से निकलकर अपना प्लेटलेट्स दिया।

बताया गया कि बहादुरगढ़ के ब्रह्म शक्ति संजीवनी अस्पताल में डिलीवरी के लिए पहुंची महिला के शरीर में बी पॉजिटिव ब्लड ग्रुप की प्लेटलेट्स की भारी कमी थी जिसके लिए स्टाफ सदस्यों ने तत्काल बी पॉजिटिव ब्लड ग्रुप की प्लेटलेट्स अवेलेबल कराने के लिए महिला के परिजनों को कहा।

तब क्षेत्र में काम करने वाली दा हेल्पिंग हैंड सोसाइटी के पास भी यह सूचना पहुंची। सोसाइटी के फाउंडर प्रवीन यादव ने बताया कि रक्तदाता तो हमारे चारों तरफ है, मगर कोरोना के कारण बिगड़े हालातों में कोई बाहर निकलना नहीं चाहता। ऐसे में हमारी टीम के पास सूचना मिली तो टीम के दो साथी कुलदीप एवं मनोज कुमार गर्भवती के लिए प्लेटलेट्स एवं रक्तदान करने के लिए पहुंचे। मनोज कुमार कहते हैं कि यदि आप एक बार रक्त देते हैं तो आपके रक्त में से प्लेटलेट्स और प्लाजमा अलग-अलग करके किसी को रक्त, किसी को प्लाज्मा एवं किसी को प्लेटलेट्स दी जा सकती है। इसलिए किसी भी सरकारी अस्पताल में जाकर अथवा आवश्यकता के अनुसार किसी भी कैंप में रक्तदान करके हम किसी के जीवन को बचा सकते हैं।

खबरें और भी हैं...