पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नई पॉलिसी:जिले के 7 प्राइमरी व 3 मिडिल स्कूल नहीं होंगे बंद, अन्य गांव के सरकारी स्कूलों से अटैच किया

झज्जरएक महीने पहलेलेखक: देवेंद्र शुक्ला
  • कॉपी लिंक
  • 1 किमी के दायरे में मिडिल स्कूल है तो कम संख्या वाले प्राइमरी स्कूल को वहां अटैच किया जाएगा, 10 स्कूलों में एक-एक ही टीचर रखा जाएगा

शिक्षा विभाग ने अब बच्चों की कम संख्या वाले सरकारी स्कूलों को बंद करने की बजाय यह सिंगल टीचर स्टडी होने के आदेश जारी कर दिए हैं। इस नियम की तहत जिले के 7 प्राइमरी स्कूल और तीन मिडिल स्कूलों को अन्य गांव में मौजूद सरकारी स्कूलों से अटैच कर दिया गया है।

पिछले साल सरकार की एक नीति आई थी कि जिन सरकारी स्कूलों में 25 से कम बच्चे हैं उन्हें बंद कर दिया जाएगा। ऐसे में जिला स्तर पर कम संख्या वाले स्कूलों में बच्चों की संख्या बढ़ाने का भी काम हुआ लेकिन भरपूर प्रयास करने के बाद भी बच्चों की संख्या नहीं बड़ी तब सिंगल टीचर स्टडी की प्लाॅनिंग बना दी गई है।

चपरासी, फोर्थ क्लास व क्लर्क की पोस्ट भी मर्ज होंगी

झज्जर की बात करें तो यहां प्राइमरी स्कूल देशलपुर, गोछी, भदाना, कुकडोला, रामपुरा, अहरी में दो दो टीचर थे, जबकि छात्र संख्या 25 भी नहीं थी। इसी प्रकार मिडिल स्कूल बिरहड़ में पांच टीचर, अहरी में 5 और न्योला में तीन टीचर थे। यहां भी छात्र संख्या 25 नहीं थी। अब नई पॉलिसी के तहत इन सभी 10 स्कूलों में एक ही टीचर रखा जाएगा और 1 किलोमीटर की दायरे में अगर मिडिल स्कूल है तो कम संख्या वाले प्राइमरी स्कूल को वहां अटैच कर दिया गया है। यही नीति मिडिल स्कूल के लिए अपनाई गई है उन्हें सीनियर सेकंडरी से अटैच कर दिया गया है।

इन प्राइमरी व मिडिल स्कूल में टीचर के अलावा और भी कोई स्टाॅफ नहीं रहेगा। किसी स्कूल में अगर चपरासी, फोर्थ क्लास और क्लर्क की पोस्ट पहले से थी तो उसे हटा दिया जाएगा और स्टाॅफ को भी मर्ज कर दिया जाएगा। सिर्फ सिंगल टीचर ही स्कूल का संचालन करेगा और जरूरत पड़ने पर चपरासी, फोर्थ क्लास और क्लर्क की व्यवस्था अटैच हुए स्कूल का हेड मास्टर पूरी करेगा।

सरकार की पॉलिसी की सराहना शिक्षाविदों ने सराहना करते हुए कहा कि इससे न सिर्फ सरकारी स्कूलों का अस्तित्व बचा रहेगा बल्कि बच्चों की कम संख्या होने पर उनकी बेहतर तरीके से पढ़ाई भी हो सकेगी।

सरकारी स्कूलों को बंद करने की बजाय पुणे मर्ज करके टीचिंग स्टाफ कम करने के नीति बहुत बेहतरीन इसे खुल स्कूलों में टीचिंग स्टॉप मिल जाएगा लंबे समय से स्टाफ संकट झेल रहे थे।
-दलजीत सिंह, डीईईओ झज्जर

खबरें और भी हैं...