पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोई साइड इफेक्ट नहीं:होम आइसोलेशन के मरीजों को दे रहे आयुर्वेदिक स्वास्थ्य किट

झज्जर23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना महामारी की रोकथाम में कारगार सिद्ध हो रही

जिला आयुर्वेदिक विभाग से कंटेनमेंट जोन में रह रहे और आइसोलेशन के मरीजों को आयुर्वेदिक स्वास्थ्य किट मिल रही है। जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डाॅ. दलबीर राठी ने बताया कि आयुष चिकित्सा पद्धति सदियों पुरानी प्रमाणित है। कोरोना जैसी महामारी की रोकथाम में बहुत कारगार सिद्ध हो रही है।

सबसे बड़ी बात यह है कि इससे शरीर में कोई साइड इफेक्ट नहीं है। शरीर में वायरल बीमारियों से बचाव के लिए रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाती है। कोरोना संक्रमण के दौरान भी अनुलोम-विलोम व प्राणायाम स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है, लेकिन कोविड संक्रमण से ठीक होने के दो सप्ताह बाद ही अन्य योग अभ्यास करें।

मरीजों को निशुल्क दी रही आयुष किट

जिला आयुर्वेदिक अधिकारी ने बताया कि सरकार के निर्देशानुसार, आयुष विभाग के महानिदेशक व डीसी के मार्गदर्शन में विभाग आपदा के इस दाैर में स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ हर संभव सहयोग कर रहा है। कंटेनमेंट जोन में लाेगाें और होम आइसोलेशन मरीजों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए दी रही स्वास्थ्य किट में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली दवा भी शामिल है। होम आइसोलेशन मरीजों को घर पर उपचार के लिए निशुल्क दी जा रही मेडिकल किट में आयुष औषधि अनु तेल, गिलोय घनवटी और आयुष क्वाथ भी है।

घर में इस तरह बन सकते हैं आयुष क्वाथ

डीएओ ने बताया कि आयुष क्वाथ घर में भी आसानी से बनाया जा सकता है। इसके लिए तुलसी के पत्ते 100 ग्राम, दालचीनी चूर्ण 50 ग्राम, सोंठ चूर्ण 50 ग्राम, काली मिर्च 25 ग्राम का मिश्रण बना लें। मिश्रण का एक ग्राम-एक कप- प्रति व्यक्ति के हिसाब से गर्म पानी में डालें। गर्म पानी मेंं डालने के बाद इसे साफ कपड़े या छलनी से छानकर उसमें नींबू का रस स्वाद अनुसार मिलाकर दिन में एक या दो बार ले सकते हैं। इसमें आवश्यकतानुसार सेंधा नमक, खांड, बूरा, या गुड़ का उपयोग भी किया जा सकता है।

खबरें और भी हैं...