तैयारी:एक अक्टूबर से होगी बाजरे की खरीद, मंडी में सफाई व गड्ढे भरने का काम शुरू

झज्जर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
खरीद सीजन को देखते हुए नई अनाज मंडी झज्जर में पैच वर्क कराते हुए। - Dainik Bhaskar
खरीद सीजन को देखते हुए नई अनाज मंडी झज्जर में पैच वर्क कराते हुए।
  • बाजरा खरीद सीजन के दो दिन बचे, मंडी में बिजली-पानी की व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए स्टाफ लगाया

बाजरे की खरीद सीजन को देखते हुए अनाज मंडी में तैयारियां शुरू कर दी गई है। आढ़तियों के अनुरोध के बाद मार्केट कमेटी की सचिव ने जरूरी निर्देश दिए हैं। साथ ही मंडी में सफाई का काम शुरू कर दिया है। मंडी में बिजली-पानी की व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए स्टाफ की ड्यूटी लगाई जा रही है।

एक अक्टूबर से सरकार बाजरे की खरीद व्यवस्था ऑनलाइन कराएगी। इसके साथ ही किसानों की उपज मंडी में आने लगेगी। यहां आने फसल को लेकर किसी भी प्रकार की दिक्कत ना हो, इसके लिए मार्केट कमेटी ने मूलभूत सुविधाएं मुहैया कराने के लिए तैयारियां शुरू कर दी है।

दरअसल, पिछले दिनों मंडी के संस्थापक सदस्य चरण सिंह दलाल, पूर्व प्रधान श्रीभगवान खुडन सहित दूसरे आढ़तियों के प्रतिनिधिमंडल ने मंडी में साफ सफाई कराने का मुद्दा उठाया था आढ़तियों की शिकायत की थी बरसात के सीजन के दौरान कच्चे स्थान पर जंगली घास उगा है। इससे मच्छरों का प्रकोप भी बना है।

इसलिए जिसकी सफाई कराना जरूरी है। इसके अलावा, मंडी में फसल आने से पहले सफाई करना काफी जरूरी है। आढ़तियों ने मंडी के अंदर सड़क कई जगह से टूटने की शिकायत की गई थी। इसके बाद मार्केट कमेटी सचिव ने मार्केटिंग बोर्ड के एसडीओ से चर्चा कर काम शुरू कराया है।

खास बात यह है कि इस बार पेचवर्क में औपचारिकता की बजाए हर छोटे-बड़े गड्ढे को पाटने का प्रयास किया जा रहा है। इस काम के लिए मार्केट कमेटी का स्टाफ लगातार सुपरविजन पर तैनात है। इससे पहले यहां पर बिजली की व्यवस्था का ट्रायल लिया था। मंडी की सफाई के नियमित तौर पर श्रमिकों को लगाया गया है, ताकि आसपास का परिसर सौंदर्यीकरण की लिहाज से भी अच्छा लगे।

इस बार बाजरे की पैदावार में कमी आने के संकेत

पिछले कई वर्षों के मुकाबले इस बार बाजरे की पैदावार कम हो सकती है। सितंबर में हुई बारिश के बाद कुछ क्षेत्रों में फसलें खराब हुई है। वहीं दूसरी ओर, इस बार फसल पंजीकरण के दौरान काफी एहतियात बरती जा रही है। पहले जिस भूमि पर ईंट भट्ठे लगे हुए हैं। या फिर सरकार की ओर से अधिग्रहण हो चुकी है।

ऐसी भूमि पर भी फसलों का पंजीकरण होता रहा है, लेकिन इस बार इस प्रकार की भूमि को पहले ही चिह्नित कर लिया है। मंडी में किसानों की उसी फसल को खरीदा जाएगा, जिसका ऑनलाइन पंजीकरण हो चुका है। ऐसे में किसानों को ऑनलाइन व्यवस्था के जरिए मंडी में बुलाया जाएगा।

खरीद सीजन को देखते हुए मंडी में साफ-सफाई के काम के अलावा सड़क के गड्ढे भरने का काम शुरू करा दिया है। इससे पहले लाइटों को भी दुरुस्त कराया गया है। उपज लेकर आने वाले किसानों को किसी प्रकार की दिक्कत ना हो, इसके लिए यहां पर पानी की व्यवस्था भी की जा रही है।

-सविता सैनी, सचिव, मार्केट कमेटी झज्जर।

खबरें और भी हैं...