अब टीमें गलियों में घूमेंगी:मुख्य मार्गों पर भवन निर्माण का काम बंद पर वार्ड के अंदर चल रहा

झज्जर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए एनजीटी ने शहर में भवन निर्माण कार्य पर आगामी आदेशों तक लगाया प्रतिबंध, पालन न करने पर होगी कार्रवाई

हवा में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए एनजीटी ने शहरी इलाकों में भवन निर्माण कार्य पर आगामी आदेश तक प्रतिबंध लगा दिया है। झज्जर नगर परिषद क्षेत्र की बात करें तो मुख्य रोड पर भवन निर्माण कार्य बंद है ।यहां भवन सामग्री को भी तिरपाल से ढक कर रखा गया है, लेकिन वार्ड के अंदर के हालात आदेश के उल्लंघन वाले नजर आ रहे हैं।

यहां 50 प्रतिशत भवन निर्माण का कार्य जारी है। इस स्थिति को देखते हुए अब नगर परिषद की टीम वार्ड की गलियों का दौरा करेगी। दरअसल नगर परिषद की टीम ने एटीपी के साथ मिलकर एक मॉनिटरिंग टीम का गठन किया है। यह टीम शहर के मुख्य इलाकों में ही दौरा कर रही है, जिनमें विभिन्न सड़क, चौराहों से लेकर नेशनल और स्टेट हाईवे से जुड़े मार्ग शामिल हैं। यहां पूरी तरीके से भवन निर्माण कार्य बंद है।

अब वार्ड के अंदरूनी हिस्से की बात करें तो कई जगह छोटे से लेकर बड़े भवनों का निर्माण कार्य जारी है। कहीं नींव खुदाई चल रही है तो कहीं लेंटर डालने का काम हो रहा है। यही नहीं कच्चा बेरी रोड और बादली रोड के बिल्डिंग मटेरियल साइटों से बिल्डिंग मटेरियल की ढुलाई भी जारी है। हालांकि कई अंदरूनी इलाकों में निर्माण कार्य बंद भी हैं, लोग नियमों की पालना कर रहे हैं। झज्जर एरिया का एक्यूआई सोमवार को जो 135 था वह मंगलवार को 152 नजर आया। एक्यूआई की 50 रेटिंग सबसे अच्छी और 500 रेटिंग सबसे खराब मानी जाती है।पिछले 1 सप्ताह में 30 चालान किए जा चुके हैं: भवन निर्माण कार्य को देखते हुए नगर परिषद की टीम पिछले 1 सप्ताह में 30 स्थानों पर चालान कर चुकी है। जहां भवन निर्माण कार्य रोक के बाद भी चल रहे थे इन लोगों पर 2 से 5 हजार रुपए तक का जुर्माना भी नगर परिषद वसूल कर चुकी है।

मंगलवार को नगर परिषद ने एक भी चालान नहीं किया जबकि सोमवार को 3 निर्माण कार्यों को रोका गया था और तहसील रोड पर एक जेनरेटर सेट को बंद कराया था। इस पर एक हजार का जुर्माना भी लगाया गया।^सभी सरकारी और गैर-सरकारी स्थलों पर भवन निर्माण और मेंटेनेंस कार्य पर आगामी आदेश तक पूरी तरह बंद है। पिछले सप्ताह तक हमने शहर के मेन रोड के ऊपर जांच करके भवन निर्माण कार्य को रुकवाया था अब हमारी टीम वार्ड की गलियों का भी दौरा करेंगी। - विपिन बूरा, एटीपी नप झज्जर

हवा की स्पीड हुई कम, प्रदूषण से अभी मुक्ति नहीं, AQI@ 300 बहादुरगढ़| ठंड, कोहरे और हवा की रफ्तार कम होने से अगले तीन दिनों में प्रदूषण में फिर से इजाफा होने की संभावना बढ़ गई है। वायु गुणवत्ता सूचकांक मंंगलवार को करीब 300 पर रहा। इस स्तर की हवा को बेहद खराब श्रेणी में रखा जाता है। इस बार प्रदूषण का स्तर कम होने का नाम नहीं ले रहा है। पूरा नवंबर माह प्रदूषण से भरा रहा व एक भी दिन वायु गुणवत्ता सूचकांक 200 अंक से नीचे नहीं अाया। पूरे समय हवा खराब, बेहद खराब या गंभीर श्रेणी में रही। इसी तरह से दिसंबर माह शुरू होने के साथ ही वायु गुणवत्ता का यही रुख है।

अगले तीन दिनों के बीच हवा की गति आमतौर पर चार किलोमीटर प्रति घंटे तक रहने के आसार हैं। इसके चलते प्रदूषक कणों का बिखराव धीमा होगा। साथ ही ठंड और सुबह हल्के कोहरे के चलते भी प्रदूषण के स्तर में इजाफा हो सकता है। अभी बहादुरगढ़ को प्रदूषण से मुक्ति मिलने की कोई संभावना नहीं है।

खबरें और भी हैं...