धान न बोने का फैसला:मलिकपुर में धान न बोने का लिया निर्णय

झज्जर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पंचायत के फैसले का उल्लंघन करने वाले किसानों को भी समझाने का निर्णय लिया

गांव मलिकपुर में रविवार को हुई पंचायत में ग्रामीणों ने एकमत से पानी व भूमि को बंजर होने से बचाने के लिए धान न बोने का फैसला लिया है। पंचायत के फैसले का उल्लंघन करने वाले किसानों को भी समझाने का निर्णय लिया है। गांव मलिकपुर के मंदिर में हुई इस पंचायत में सर्वसम्मति से यह फैसला लिया गया कि गांव मलिकपुर की जमीन में कोई भी किसान धान नहीं लगाएगा। क्योंकि धान लगाने से अन्य कोई भी फसल पैदा नहीं होती है। ज्वार, बाजरा, कपास, तिलहन आदि की फसल नहीं होती हैं।

धान से जमीन खराब होती है। इसलिए गांव मलिकपुर में कोई भी धान नहीं लगाएगा। सरपंच प्रतिनिधि अजय बेनीवाल ने कहा कि ने एकमत होकर धान न लगाने का फैसला किया है और जवार, बाजरा, ग्वार आदि की खेती करेंगे। जेएलएन व लोहारू फीडर में जिस भी किसान ने पाइपलाइन या सुंडवा लगाने के लिए पाइप दबा रखे हैं, उखाड़ लेंगे ताकि गांव की जमीन बंजर होने से बच सके। पंचायत में मुख्य रूप से सरपंच फूलपति पत्नी अजय बेनीवाल, पंच सुधीर, पंच रामकुमार, पंच अनिल, उमेद, पंच हरीश, मनदीप, सूबेदार ओमप्रकाश, सुरेंद्र, विजय पाल शामिल रहे।

खबरें और भी हैं...