पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

परेशानी:दूसरे दिन भी ठीक नहीं हुई एक्स-रे मशीन, मरीजों को बहादुरगढ़ और बेरी किया रेफर

झज्जर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

नागरिक अस्पताल की एक्स-रे मशीन दूसरे दिन गुरुवार को भी ठीक नहीं हो सकी है। लिहाजा डॉक्टरों ने मरीजों के ही कहने पर उन्हें बहादुरगढ़ या बेरी नागरिक अस्पताल में एक्स-रे कराने के लिए रेफर किया। इसके अलावा ओपीडी टाइमिंग में डॉक्टरों के द्वारा बीच-बीच में ही ओपीडी छोड़कर चले जाने से भी मरीज दुखी हैं।

गुरुवार को यह नजारा ओपीडी ब्लॉक में कमोवेश हर ओपीडी में दिखाई दिया। 100 बेड के नागरिक अस्पताल की एक्स-रे मशीन 3 महीने बाद ठीक हुई थी और यह 20 दिन भी नहीं चल सकी कि 3 दिन से फिर खराब पड़ी है। इंजीनियर को लगातार फोन लगाए जा रहे हैं लेकिन कंपनी की ओर से यही आश्वासन दिया जा रहा है कि मेंटेनेंस कराने के लिए टीम रवाना कर दी गई है जो गुडगांव से झज्जर के 50 किलोमीटर के सफर में 3 दिन बाद भी नहीं पहुंच पाई है। बताया गया कि एक्स-रे मशीन जिस कंपनी की है उसका एक लाख रुपए का बकाया पहले ही नागरिक अस्पताल को देना है।

समझा जाता है कि पुराना बकाया का भुगतान न होने के कारण कंपनी एक्स-रे मशीन ठीक करने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई जा रही है, ऐसा पिछले 3 महीने पहले भी हुआ था। हालांकि नागरिक अस्पताल के प्रशासनिक अधिकारी डॉ. चंद्रभान ने भरोसा दिया है कि इसके लिए बायोमेडिकल इंजीनियर को कहा गया है और वह मशीन ठीक कराने का प्रयास कर रही हैं। लेकिन जमीनी हकीकत यह है कि 3 दिन के बाद भी मशीन चालू नहीं हुई है। और गुरुवार को भी मरीज एक्स-रे न होने पाने के कारण दुखी हुए।

गुरुवार को मरीजों का दुख उस समय और देखने को मिला जब ओपीडी ब्लॉक की तमाम ओपीडी में दोपहर 1:30 बजे से 2:30 बजे ंके बीच में कोई भी डॉ. मौजूद नहीं रहा और ओपीडी के बाहर मरीजों की भीड़ जुटी रही। खासतौर से सर्जन, फिजीशियन और हड्डी विभाग की ओपीडी में रोगी स्लिप के कारण बड़ी संख्या में मौजूद रहे और डॉक्टरों के आने का इंतजार करते रहे, जबकि गायनी, शिशु की ओपीडी में रोगी सेवा देखी गई।

यहां रायपुर गांव से अपने पैरों का इलाज कराने आए सन्नी ने कहा कि ऐसा नागरिक अस्पताल में पहली बार देखने को नहीं मिल रहा जब भी लाइन में लगकर सबसे पहले रोगी स्लिप बनवाते हैं और फिर ओपीडी डॉक्टर इलाज के लिए लाइन में लगते हैं तभी यह पता चलता है कि डॉक्टर बीच में ही मरीजों को छोड़कर चले गए हैं और गुरुवार को भी यही हुआ और वह करीब 45 मिनट तक खड़ा रहा इसके बाद ओपीडी में डॉ. आए और उसे चेक किया। इसी तरह हड्डी रोग के बाहर डॉक्टर का इंतजार करके थक हार कर जमीन पर बैठे मारोत गांव के दया किशन ने बताया कि वह 45 मिनट से डॉक्टर का इंतजार कर रहा है और उसे अपने पैर को चेक कराना है।

सर्जन की ओपीडी में भी डॉक्टर नहीं थे, जबकि ओपीडी की तरह सुबह के समय भी इस ओपीडी में मरीजों को बड़ी संख्या में देखा गया लेकिन बीच में डॉक्टर एकाएक उठ कर चले गए, मरीजों ने पूछा तो अटेंडेंट ने कहा कि डॉ. ऑपरेशन थिएटर में गए हुए हैं वहीं फिजिशियन की ओपीडी के मरीज भी दोपहर 1:30 से 2:00 बजे तक डॉक्टर का इंतजार करते रहे और 2 : 10 मिनट के बाद ही यहां डॉक्टर आए और मरीजों को ओपीडी टाइमिंग 3 बजे तक चेक किया। अब यह मरीजों को कोई बताने वाला नहीं था कि डॉक्टर बीच-बीच में आकर कहां चले जाते हैं।

कहा गया कि यह कोई पहला दिन नहीं है जब सुबह 9 से लेकर 3 बजे तक की ओपीडी में कोई भी चिकित्सक पूरे ओपीडी समय तक लगातार ओपीडी में बैठा हो, काफी दिनों से यही सिलसिला चला आ रहा है जब डॉक्टर बीच-बीच में से उठ कर चले जाते हैं और मरीजों को इंतजार करना पड़ता है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपकी प्रतिभा और व्यक्तित्व खुलकर लोगों के सामने आएंगे और आप अपने कार्यों को बेहतरीन तरीके से संपन्न करेंगे। आपके विरोधी आपके समक्ष टिक नहीं पाएंगे। समाज में भी मान-सम्मान बना रहेगा। नेग...

    और पढ़ें