निगाना गांव से ग्राउंड रिपोर्ट:झोलाछाप से इलाज ले रहे ग्रामीण, 1 माह में 24 मौत, सरकारी आंकड़ों में जीरो

कलानौर5 महीने पहलेलेखक: कमलजीत सिंह
  • कॉपी लिंक
कलानौर के निगाना गांव में कोरोना के बढ़ते केस के बीच दुकान के अंदर बैठकर ताश खेलते युवा। - Dainik Bhaskar
कलानौर के निगाना गांव में कोरोना के बढ़ते केस के बीच दुकान के अंदर बैठकर ताश खेलते युवा।
  • 5 हजार की आबादी वाले गांव में 851 ने लगवाई वैक्सीन, 165 ने ही कोरोना टेस्ट करवाया

कोरोना की रोकथाम के लिए एकमात्र उपाय समय पर जांच करवाना, वैक्सीनेशन व मुंह पर मास्क लगाना है। लेकिन ग्रामीण तबके में ग्रामीण लापरवाही बरतते नजर आ रहे हैं। कस्बे के गांव निगाना की लगभग 5 हजार की आबादी है। गांव में लगभग 3 हजार आबादी 18 वर्ष की आयु से ऊपर है।

ग्रामीण काेराेना की जांच के लिए आगे नहीं आ रहे हैं। साथ ही खांसी जुकाम व अन्य लक्षण मिलने पर झोलाछाप डॉक्टरों से जांच करवा रहे हैं। अब तक 165 लाेगाें ने काेराेना की जांच करवाई है। जिसमें से 19 मरीज काेरोना पॉजिटिव मिले, जो घर पर होम आइसोलेट है। इस पर स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों का कहना है कि गांव के लोग टेस्टिंग के लिए आगे नहीं आ रहे है।

वहीं पिछले 1 महीने की बात करे ताे गांव में 24 लोगों की मौत हो चुकी है, जिनमें 7 युवा व अन्य अधेड़ उम्र के थे। जबकि सरकारी आंकड़ों में काेराेना के संक्रमण से एक भी मौत शामिल नहीं है। कोविड-19 काेरोना की रोकथाम के लिए गांव की तरफ से कोई ठोस कदम नहीं उठाए जा रहे है। गांव में सारा दिन चहल-पहल रहती है साथ ही गलियों में बुजुर्ग बैठे रहते हैं। बुजुर्ग-युवा इकट्ठे बैठकर ताश खेलते रहते हैं।

वैक्सीनेशन में बुजुर्ग आगे युवा पीछे

गांव में वैक्सीनेशन को लेकर बुजुर्ग आगे आ रहे है जबकि युवा पीछे छूट रहे हैं। स्वास्थ्य विभयाग के आंकड़ों के अनुसार अभी तक गांव के 45+ से ऊपर के 771 लोगों ने वैक्सीनेशन करवाया है। जबकि अभी तक 18+ में लगभग 80 युवाओं ने टीका लगवाया है। युवाओं का कहना है कि वैक्सीनेशन के लिए पोर्टल पर सीट बुकिंग नहीं हो रही है। कुछ ने दूसरे जिले में को-वैक्सीन बुकिंग करवा कर टीकाकरण करवाया है।

टेस्टिंग न करवाने से गांव में काेरोना के केस ज्यादा मिल रहे : निगाना

कलानाैर से जेजेपी युवा अध्यक्ष सोनू निगाना ने बताया की गांव में मृत्यु दर बढ़ने का कारण बुखार, मोतीझरा, निमोनिया जैसी बीमारियों को हल्के में लेकर झोलाछाप डॉक्टरों से इलाज करवाना महंगा पड़ रहा है। काेरोना के हल्के लक्षण दिखने पर टेस्टिंग नहीं करवाने से गांव में काेरोना ज्यादा फैल रहा है।

धूनी मंत्र; घर में ही रमाएं मन

कलानौर के निगाना गांव में हवन-यज्ञ की धुनी देते ग्रामीण।
कलानौर के निगाना गांव में हवन-यज्ञ की धुनी देते ग्रामीण।

काेरोना महामारी को देखते हुए निगाना गांव की पूर्व सरपंच मोनिका सिक्का ने गांव की सुख समृद्धि के लिए हवन करवाया। जिसके बाद पूरे गांव में ट्रैक्टर-ट्राली द्वारा धुनी दी गई। मोनिका सिक्का का कहना है कि गांव में टेस्टिंग प्रक्रिया को तेज कर दिया गया है। गांव में मुनादी करवा सभी को घरों में रहने की अपील भी की गई है।

खबरें और भी हैं...