सीएम के नाम ज्ञापन सौंपा:बाजरे की सरकारी खरीद शुरू करने और बारिश से फसलों में नुकसान का मुआवजा देने की मांग

कनीना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सरकार द्वारा बाजरे की सरकारी खरीद शुरू न करने व बरसात की वजह से खराब फसल का मुआवजा दिए जाने को लेकर क्षेत्र के किसानों ने सर्वजन युवा वाहिनी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नानकराम भारद्वाज की अध्यक्षता में नायब तहसीलदार सतपाल सिंह के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में किसानों ने बताया कि इस वर्ष खरीफ फसल ज्यादा बरसात होने की वजह से खराब हो गई है।

जिससे सभी किसानों को काफी नुकसान हुआ है और अब प्रदेश सरकार किसानों का बाजरा भी नहीं खरीद रही है। जिसके कारण किसानों को दोहरी मार का सामना करना पड़ रहा है। किसानों ने बताया कि दक्षिण हरियाणा में बाजरा खरीफ की मुख्य फसल है ओर इसको किसान की जीवन रेखा कहा जाता है। किसान का जीवन निर्वाह पूर्णतः इसी फसल से होता है।

अगर सरकार द्वारा किसानों की खरीफ फसल बाजरा को नहीं खरीदा गया तो किसानों को अपना जीवन निर्वाह करना मुश्किल हो जाएगा। किसानों के कर्ज का बोझ भी बढ़ जाएगा। इसके अलावा कपास की फसल भी ज्यादा बरसात की वजह से खराब हो गई है। किसानों ने बताया कि पहले कपास की फसल प्रति एकड़ 8 से 10 क्विंटल तक हो जाती थी लेकिन इस वर्ष बरसात की वजह से करीब एक क्विंटल कपास ही मुश्किल से उतर रही है।

किसानों ने बाजरे की फसल की सरकारी खरीद शुरू किए जाने व बरसात की वजह से फसलों में हुए नुकसान की भरपाई किए जाने की मांग की है।

इस अवसर पर नानकराम भारद्वाज झाड़ली, वेद प्रचार मंडल के अध्यक्ष इंद्रपाल शर्मा पाथेड़ा, जजपा के युवा वरिष्ठ उपाध्यक्ष अनुज कौशिक, मनफूल यादव कनीना, उमेद सिंह प्रधान पाथेड़ा, डालू सिंह नम्बरदार पाथेड़ा, गोपी राम पाथेड़ा, बिजेंद्र सिंह तलवाना, रघुबीर शर्मा भड़फ, राजेश तंवर, पूर्ण सिंह नम्बरदार खेड़ी, रोशन सिंह तलवाना, पवन ककराला, संजय तलवाना सहित अन्य किसान उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...