पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

महम में व्यापारी से रंगदारी मांगने का मामला:आज महम बंद नहीं करेंगे, पुलिस को बदमाशों की गिरफ्तारी लिए एक सप्ताह का दिया समय

महम6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
महम की महाजन धर्मशाला में बैठक में व्यापारियों को समझाते महम थाना प्रभारी शमशेर सिंह। - Dainik Bhaskar
महम की महाजन धर्मशाला में बैठक में व्यापारियों को समझाते महम थाना प्रभारी शमशेर सिंह।
  • बैठक में पुलिस के समझाने पर माने व्यापारी

बांके बिहारी मशीनरी स्टोर व स्पेयर पार्ट्स की दुकान के मालिक पवन उर्फ पाैनी से 25 लाख की रंगदारी मांगने के मामले में व्यापारियों ने साेमवार काे बाजार बंद का निर्णय स्थगित कर दिया है। ऐसे में सोमवार को शहर की दुकानें बंद नहीं होंगी। पुलिस प्रशासन ने बदमाशों काे पकड़ने के लिए एक सप्ताह का समय और मांगा है, जिस पर व्यापारियों ने सर्वसम्मति से रविवार को बैठक कर यह फैसला लिया।

महम बार एसोसिएशन के प्रधान प्रदीप ढाका का कहना है कि रविवार दोपहर कमेटी सदस्यों की बैठक महाजन धर्मशाला में हुई थी। इसमें महम थाना प्रभारी व सीआईए के कर्मचारियों ने अपनी बात रखते हुए बदमाशों को पकड़ने के लिए 1 सप्ताह का समय दिए जाने की बात कही। पुलिस व व्यापारियों में चर्चा के बाद पुलिस प्रशासन को एक सप्ताह का समय दे दिया है। यदि एक सप्ताह में बदमाशों की गिरफ्तार नहीं हुई तो दोबारा बैठक कर महम बंद या प्रदर्शन करने का निर्णय लिया जाएगा।

व्यापारियों को समझा दिया है बाजार बंद नहीं करेंगे: थाना प्रभारी
महम थाना प्रभारी शमशेर सिंह ने बताया कि वे व्यापारियों के पास गए थे। उन्हें सोमवार को बाजार बंद न करने बारे समझाया गया, जिस पर वे सहमत हो गए। अब सोमवार को बाजार बंद नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पुलिस की टीमें रंगदारी मांगने वालों की गंभीरता से तलाश कर रही हैं। बदमाशों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

ट्रेड यूनियन ने कमेटी प्रधान को हटाया
शहर के व्यापारियों ने सभी ट्रेड यूनियन के प्रधानों की 22 सदस्य कमेटी बनाई हुई है, जो रंगदारी मांगने के मामले में समय-समय पर बैठक कर निर्णय लेती है। इस कमेटी का अध्यक्ष अग्रवाल सभा के पूर्व प्रधान विजय मित्तल को नियुक्त किया था, लेकिन रविवार को कमेटी सदस्यों ने विजय मित्तल को हटाकर उनकी जगह कांग्रेस के ब्लाॅक प्रधान जगत सिंह काला को अध्यक्ष मनोनीत कर दिया।

इसके अलावा, विजय मित्तल को 22 सदस्यों की कमेटी से भी बाहर कर दिया। अधिवक्ता प्रदीप ढाका ने बताया कि विजय मित्तल की तबीयत ठीक नहीं है। इसलिए उसे कमेटी से बाहर कर दिया। अग्रवाल सभा के पूर्व प्रधान विजय मित्तल का कहना है कि बैठक के दौरान उनकी तबीयत खराब हो गई थी। उन्हें अस्पताल में भर्ती होना पड़ा। उन्हें अध्यक्ष पद से क्यों हटाया गया इस बारे में वे कुछ नहीं कह सकते।

खबरें और भी हैं...