पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

योजना:जलस्तर सुधारने काे बोरवेल व गड्ढों से जमीन में छाेड़ेंगे बरसाती पानी

महम19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
महम बीडीपीओ कार्यालय में जल स्तर बढ़ाने के लिए खोदे गए गड्ढे तथा उसमें लगा पाइप। - Dainik Bhaskar
महम बीडीपीओ कार्यालय में जल स्तर बढ़ाने के लिए खोदे गए गड्ढे तथा उसमें लगा पाइप।
  • जल शक्ति अभियान योजना के तहत महम में कार्य शुरू, बीडीपीओ कार्यालय में 3 जगहों पर गड्ढे बनवाकर तैयार करवाए

ब्लाॅक के अंतर्गत आने वाले उन सभी गांवों में बोरवेल व गड्ढों का निर्माण कर पानी को जमीन के अंदर छोड़ा जाएगा जहां जमीनी जलस्तर काफी नीचे है। बोरवेल व गड्ढों की खुदाई का कार्य शुरू कर दिया गया है। इन गांवों में प्रत्येक आंगनबाड़ी, चौपाल व सभी सरकारी बिल्डिंग के साथ बोरवेल व गड्ढे खोदकर बारिश के दौरान छतों पर एकत्रित होने वाले पानी को पाइपों से जोड़कर जमीन में नीचे छोड़ा जाएगा। महम बीडीपीओ कार्यालय में योजना के तहत 3 जगहों पर गड्ढे बनवाकर तैयार करवा दिए हैं।

इन गांवाें में योजना अमल में लाई जा रही : खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी राजकुमार शर्मा का कहना है कि सरकार की ओर से बनाई गई जल शक्ति अभियान योजना के तहत महम ब्लॉक के फरमाणा, खेड़ी, सैमाण, बहलंबा, भैणी भैरो, गिरावड़, खरकड़ा, भैणी महाराजपुर व निंदाना गांव में यह योजना अमल में लाई जा रही है। पानी को जमीन में छोड़ने से खारे पानी में भी सुधार होने की संभावना है।

छत से पाइप द्वारा गड्ढों में पानी लाया जाएगा: जेई महेश सहारण ने बताया कि 500 स्क्वेयर फीट से कम जगहों पर सरकारी बिल्डिंग, आंगनबाड़ी केंद्रों के पास 6*6 फीट चौड़ा गड्ढा खोदकर उसमें 7 फीट नीचे जमीन तक पाइप लगाया जाएगा। जिस पर 20 हजार रुपए तक खर्च आएगा। बिल्डिंग की छत से पाइप द्वारा गड्ढों में बारिश का पानी लाया जाएगा।

यह पानी गड्ढे में लगे पाइप के माध्यम से जमीन के अंदर जाकर जल स्तर को बढ़ाने का काम करेगा। उन्होंने बताया कि 500 स्क्वेयर फीट से अधिक जगहों की बिल्डिंग के पास 70-80 फीट जमीन में नीचे तक बोरवेल कर पाइप के द्वारा पानी छोड़ा जाएगा। उन्होंने कहा कि जमीन में लगने वाले पाइपों के चारों तरफ छिद्र होंगे जिससे पानी धीरे-धीरे जमीन के अंदर जा सके।

खबरें और भी हैं...