समीक्षा बैठक:महम के साईं हॉस्टल में बनाएंगे 50 बेड का कोविड केयर सेंटर

महम6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एसडीएम व अधिकारियों की बैठक लेते सांसद रामचंद्र जांगड़ा। - Dainik Bhaskar
एसडीएम व अधिकारियों की बैठक लेते सांसद रामचंद्र जांगड़ा।
  • सांसद रामचंद्र जांगड़ा ने काेविड­­ केयर सेंटर खोलने के लिए बैठक की

राज्यसभा सांसद रामचंद्र जांगड़ा ने एसडीएम मेजर गायत्री अहलावत की अध्यक्षता में काेविड­­ केयर सेंटर खोलने के लिए समीक्षा बैठक ली। उन्होंने कोरोना महामारी से संक्रमित मरीजों के आइसोलेशन के लिए खेल स्टेडियम के पास बनाए गए साईं हॉस्टल को 50 बेड का काेविड­­ केयर सेंटर बनाने की बात कही।

सांसद ने कहा कि जिन संक्रमित लोगों के घरों में अलग से आइसोलेशन के लिए कोई जगह नहीं है वे व्यक्ति इस काेविड केयर सेंटर में भर्ती हो सकते हैं। वहीं महम सामान्य अस्पताल में शुक्रवार से अब सुबह 8 से 11 बजे तक ही ओपीडी चलेगी। सांसद ने बताया कि काेविड­­ केयर सेंटर को बनाने के लिए बिजली, पानी, कूलर, पंखे, ऑक्सीजन इत्यादि का प्रबंध करने बारे काम शुरू कर दिया गया है। एसडीएम ने बताया कि काेविड­­ केयर सेंटर में 30 बेड पुरुषों एवं 20 बेड महिलाओं के होंगे।

350 स्वस्थ्य हो चुके, 50 क्वॉरेंटाइन

महम के सामान्य अस्पताल में वेंटिलेटर व आईसीयू की इस समय कोई सुविधा नहीं है। गंभीर मरीजों को निरंतर रोहतक पीजीआई में रेफर किया जा रहा है। काेरोना मरीजों के लिए 10 बेड निर्धारित किए गए हैं जिन में से मात्र 4 पर ऑक्सीजन की सुविधा है। अस्पताल में इस समय कोई भी करोना मरीज दाखिल नहीं है।

महम, भैणी महाराजपुर, भैणी भैरो, किशनगढ़, सीसर व महम में 400 के लगभग व्यक्ति टेस्ट के दौरान कोरोना पॉजिटिव पाए जा चुके हैं, जिनमें से 350 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। करीब 50 लोग इस समय अपने अपने घर क्वॉरेंटाइन होकर अपना इलाज करा रहे हैं।

89 को कोरोना वैक्सीन लगाई

सामान्य अस्पताल में वीरवार को 89 महिला पुरुषों को कोरोना वैक्सीन लगाई गई। बुधवार को वैक्सीन खत्म होने की वजह से किसी को टीका नहीं लगाया जा सका था। अब टीकाकरण का यह कार्य निरंतर रूप से चलेगा। कोरोना की रिपोर्ट लेने आए कई लोगों ने बताया कि वे सप्ताह पहले टेस्ट करवा कर गए थे लेकिन अभी तक उनकी रिपोर्ट नहीं आई। उन्हें मालूम नहीं हो पा रहा कि वे पॉजिटिव हैं या नेगेटिव।

ओपीडी में 8 से 11 बजे तक देखेंगे डॉक्टर

सामान्य अस्पताल में आने वाले मरीजों को केवल सुबह 8 से 11 बजे तक ही चिकित्सकों द्वारा देखा जाएगा। उसके बाद ओपीडी बंद कर दी जाएगी। केवल कोरोना का टेस्ट मरीज 2 बजे तक करवा सकते हैं। वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी डॉ. शिवानी ने बताया कि कोरोना के गंभीर मरीजों को रोहतक रेफर कर दिया जाता है। सामान्य लक्षण वाले घर पर ही इलाज लेकर सही हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि 3 घंटे ही ओपीडी है। अभी तक 3319 लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है।

खबरें और भी हैं...