पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रस्ताव पर असहमति:अटेली नगरपालिका में बैठक तो हुई, मगर असहमति के बाद बजट नामंजूर

मंडी अटेली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अटेली नगरपालिका की बजट बैठक में विरोध जताते पूर्व प्रधान विकास यादव। - Dainik Bhaskar
अटेली नगरपालिका की बजट बैठक में विरोध जताते पूर्व प्रधान विकास यादव।
  • प्रधान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने वाले पार्षदों ने बैठक में जताया विरोध, नगर आयुक्त के पास भेजेंगे प्रस्ताव

अटेली नगरपालिका मेंं शुक्रवार बजट बैठक हुई। इसमें सभी 6 पार्षदों ने हिस्सा लिया। प्रधान जितिन अग्रवाल की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में उन 4 पार्षदों ने बजट प्रस्ताव पर अपनी असहमति जताई, जो दो दिन पहले ही उपायुक्त को शपथ पत्र देकर प्रधान के खिलाफ अविश्वास बैठक बुलाने की मांग करके आए थे। अटेली पलिका के सदन में बजट प्रस्ताव के नामंजूर होने के बाद इसे अब जिला नगर आयुक्त के पास स्वीकृति के लिए भेजा जाएगा।

बजट बैठक शुक्रवार दोपहर 3 बजे बाद हुई। इसकी वीडियो रिकॉर्डिंग भी करवाई गई। सबसे पहले पालिका सचिव प्रदीप कुमार ने हाउस में 2021-22 का बजट वाला प्रस्ताव रखा, लेकिन पूर्व चेयरमैन विकास व अन्य तीन पार्षदों ने बजट प्रस्ताव को बिना देखा ही उसे अस्वीकार कर दिया। बजट बैठक में उपप्रधान स्नेहलता के पति व नपा के कर्मी बाबू अजीत सिंह पर सफाई कर्मी द्वारा मामला दर्ज कराने वाले पर ज्यादा चर्चा हुई।

विपक्षी भूमिका निभाने वाले चारों पार्षदों ने कहा कि इस बजट बैठक का हम विरोध करते है तथा बजट पर कोई चर्चा नहीं करना चाहते। उनका कहना था कि नपा के गठन के बाद 3 सितंबर 2021 को बजट बैठक हुई। उसमें स्वीकृत हुए एजेंडों पर कार्यों पर नहीं हुुआ, लेकिन सेक्शन 35 के तहत स्ट्रीट लाइट खरीद गई।

सेक्शन 35 में कोई भी कार्य प्राकृतिक आपदा के तहत विकास कार्य करवाये जाते है, लेकिन चेयरमैन ने इस एक्ट का दुरुपयोग किया। उपप्रधान स्नेहलता ने कहा कि उसके पति पर राजनीतिक दबाब के चलते नपा की एक महिला कर्मी ने झूठा मामला दर्ज करवाया हैं।

नपा के अधिकतर कर्मियों ने कार्यालय में ऐसी घटना का ना होना बताया था। फिर भी पार्षदों के जिला उपायुक्त के पास अविश्वास का शपथ पत्र सौंपने के अगले दिन ही मुकदमा दर्ज हो जाता हैं। इससे स्पष्ट है कि है कि यह मामला राजनीति से प्रेरित हैं। इस मामले को नपा के कर्मी थाने में अपने बयान देकर इसे निरस्त कराएं।

पूर्व चेयरमैन विकास यादव ने कहा कि जब 6 पार्षदों में 4 ने जिला उपायुक्त को अविश्वास लाने के लिए शपथ पत्र दिया हुआ है, ऐसे में यह बजट बैठक बुलाना अलोकतांत्रिक हैं। बैठक में वर्ष 2021-22 की अनुमानित आय 2 करोड़ 7 लाख 70 हजार रुपए तथा 2 करोड़ 97 हजार 500 रुपए का व्यय का बजट रखा गया।

खबरें और भी हैं...