पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मौसम:आसमान में छाए रहे बादल, सूर्यदेव के नहीं हुए दर्शन, शीत लहर ने किया परेशान, घरों में ही बीता वीकेंड

महेंद्रगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मौसम में बदलाव से किसानों के चेहरे खिले, फसलों को मिलेगा लाभ
  • अभी 5 जनवरी तक हल्की बरसात व ओलावृष्टि की बन रही है संभावना

क्षेत्र में रविवार को दिनभर आसमान में बादल छाए रहे तथा शीत लहर व कड़ाके की ठंड ने लोगों को घरों में दुबकने पर मजबूर कर दिया। मौसम के बदलाव से किसानों के चेहरे पर खुशी है परंतु ओलावृष्टि का भय भी उन्हें सता रहा है। मौसम विशेषज्ञ डॉ. दिवेश चौधरी ने बताया कि रविवार महेंद्रगढ़ जिले में दिन सबसे गर्म रहा।

क्षेत्र का अधिकतम तापमान जहां 20.0 डिग्री सेल्सियस जो सामान्य रहा तथा न्यूनतम तापमान 9.5 डिग्री सेल्सियस जो सामान्य से 5 डिग्री सेल्सियस अधिक रहा। अधिकतम आद्रता 94 प्रतिशत व न्यूनतम आद्रता 88 प्रतिशत रही। 3 से 5 जनवरी तक मौसम परिवर्तनशील रहेगा तथा हल्की बरसात और, ओलावृष्टि की भी संभावना है। 6 व 7 जनवरी को धुंध सम्भावित है।

मौसम बना फसलों के अनुकूल

कृषि विज्ञान केन्द्र के विशेषज्ञ डॉ. रमेश कुमार के अनुसार फिलहाल मौसम फसलों के अनुकूल हैं। अभी फसलों में कोई रोग नहीं हैं। बीते दिवस हुई हल्की बरसात से भी फसलों को लाभ है। यदि 5 से 10 एमएम बरसात हो जाती है तो वह गेहूं, चना, जौ व सरसों सभी के लिए लाभप्रद रहेगी।

यदि ओलावृष्टि होती है तो फसलों में नुकसान की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता। अभी गेहूं में फुटाव चल रहा है। पहला पानी लग चुका है। यदि अच्छी बरसात होती है तो दूसरे की ज़रुरत नहीं रहेगी। बरसात नहीं होने की अवस्था में किसान दूसरा पानी लगाए।

बरानी भूमि की फसल को बरसात की जरूरत

कृषि विशेषज्ञों के अनुसार अच्छी भूमि में सरसों की फसल में पकने तक दो पानी काफी है परंतु रेतीली भूमि में बरसात नहीं होने की अवस्था में तीन पानी देने चाहिए। जिले में कुल एक लाख 56 हजार हेक्टेयर के लगभग कृषि योग्य भूमि है। इसमें से करीब 40 से 45 हजार हेक्टेयर पर गेंहू, 90 से 1 लाख हेक्टेयर तक सरसों, करीब 6 हजार हेक्टेयर पर चना तथा 3 से 4 पर जौ की फसल बिजाई की हुई है। जिले में अधिकांश नांगल चौधरी में करीब 15 से 20 हजार हेक्टेयर बरानी भूमि है जिस पर कम पानी में पैदा होने वाली चना व सरसों फसल की ही बीजाई होती है। यहां की फसल बरसात पर ही निर्भर रहती है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप प्रत्येक कार्य को उचित तथा सुचारु रूप से करने में सक्षम रहेंगे। सिर्फ कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा अवश्य बना लें। आपके इन गुणों की वजह से आज आपको कोई विशेष उपलब्धि भी हासिल होगी।...

    और पढ़ें