पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

अनाज मंडी:महेंद्रगढ़ मंडी में तय शेड्यूल में नहीं हो पा रही पंजीकृत किसानों के बाजरे की खरीद

महेंद्रगढ़12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
महेंद्रगढ़ स्थित मंडी में बाजरा खरीद के दौरान छलनी से बाजरे को छानकर जांच करते परचेजर हरपाल सिंह।
  • फड पर जगह नहीं होगी तो खरीद में पारदर्शिता बनाना मुश्किल, एक पखवाड़े में करीब 1500 किसानों से 41 हजार क्विंटल बाजरे की खरीद

(मुकेश सैनी) जिस शेड्यूल के हिसाब से महेंद्रगढ़ अनाज मंडी में बाजरे की खरीद चल रही है, उससे लगता है कि क्षेत्र के सभी पंजीकृत किसानों का बाजरा खरीदने के लिए सरकार को खरीद प्रक्रिया दिसंबर माह तक बढ़ानी होगी। अक्टूबर का एक पखवाड़ा बीत चुका है। माना जा रहा है कि बीते पखवाड़े में क्षेत्र के करीब 1500 से 2 हजार के बीच किसानों का बाजरा खरीदा गया है।

जबकि पंजीकृत किसानों की संख्या 13 हजार से भी अधिक है। ऐसे में सरकार व विभाग को महेंद्रगढ़ में बाजरे की खरीद निर्धारित समय पर संपन्न करने के लिए एक अस्थाई खरीद केन्द्र बनाना होगा। क्योंकि महेंद्रगढ़ मंडी में यदि टोकनों की संख्या बढ़ती है तो मंडी की क्षमता को देखते हुए अव्यवस्था बनना तय है।

पोर्टल पर क्षेत्र के 13500 किसान हैं पंजीकृत
बता दें कि बाजरा बिक्री के लिए पोर्टल पर क्षेत्र के 13500 किसान पंजीकृत है। बाजरे की खरीद के लिए शुरु में आकोदा व पाली में भी अस्थाई खरीद केन्द्र बनाए जाने की बात सामने आई थी परंतु किन्ही कारणों के चलते वे सेंटर नहीं बने ऐसे में अब सभी किसानों का बाजरा खरीद करने के लिए महेंद्रगढ़ मंडी ही निर्धारित है।

एक अक्टूबर से शुरु हुई खरीद के तहत आज तक मंडी में खरीद एजेंसी द्वारा करीब 1500 किसानों का 41 हजार क्विंटल के करीब बाजरा खरीदा गया है।बता दें कि महेंद्रगढ़ की अनाज मंडी पुराने समय की मंडी हैं। इसकी फड पर एक दिन में 150 से 200 किसानों की फसल मुश्किल से खरीदी जा सकती है।

अब किसानों की मांग पर धीरे-धीरे मंडी में टोकनों की संख्या बढ़ानी शुरु कर दी है। शुरू के एक सप्ताह 100 से 125, इसके बाद 150 से 200 के करीब किसानों को टोकन दिए जाने लगे। बीते शुक्रवार को इनकी संख्या बढ़ाकर 260 कर दी गई है।

यूं समझे आंकड़ा
क्षेत्र के करीब 13500 पंजीकृत किसान है। अभी तक करीब 1500 किसानों का बाजरा बिका है तथा 12 हजार के लगभग किसान बाजरा बेचने को लेकर विभाग के मैसेज के इंतजार में हैं। यदि इन किसानों में 2 हजार सरसों की तरह बोगस मान लें तो भी एक पखवाड़ा बीतने के बाद 10 हजार किसानों का बाजरा अभी तक नहीं बिका है।

15 नवंबर तक बाजरा खरीद का शेड्यूल है। ऐसे में खरीद के लिए तय समय में आठ अवकाश निकाल दें तो विभाग के पास मात्र 22 दिन ही बचेंगे जिनमें 10 हजार किसानों का बाजरा खरीदा जाना है। एक दिन में करीब 450 किसानों को प्रतिदिन टोकन जारी करना होगा जो इस मंडी में संभव नहीं हैं। इसके लिए दो ही रास्ते हैं एक खरीद के लिए समय बढ़ाना या फिर दूसरा एक अन्य अस्थाई खरीद केन्द्र शुरु करना है।

अब परचेर एजेंसी खुद की छालनी से जांचेगी बाजरे की क्वालिटी
नगर की अनाज मंडी में शनिवार को बाजरा बिक्री के लिए केवल रि-शेड्यूल के 9 किसानों को मैसेज मिले जिनमें से खरीद एजेंसी हैफेड द्वारा 7 किसानों का बाजरा खरीदा गया। एक किसान का टोकन जनरेट नहीं हो पाया, नहीं एक अन्य किसान करीब साढे चार बजे तक मंडी में फसल लेकर नहीं पहुंचा।

इस दौरान परचेज एजेंसी के अधिकारी हाथों में छलनी लेकर मंडी में लगी ढेरियों के बाजरे को छानकर जांचते नजर आए। हैफेड मैनेजर हरपाल के अनुसार शनिवार को अवकाश था। परंतु रि-शेड्यूल में आए 7 किसानों का 190 क्वींटल बाजरा खरीदा गया।

उन्होंने बताया कि ट्रांसपोर्ट की अच्छी सुविधा के चलते उठान गति काफी अच्छी चल रही है। अब तक 80 हजार के करीब कट्टों का उठान हो चुका है। मंडी में मुश्किल से 1000 से 1500 कट्‌टे होंगे।सभी सही किसानों का एक-एक दाना ख्ररीदा जाएगा। आवश्यकता के अनुसार खरीद को लेकर जो भी व्यवस्था करनी पड़ेगी की जाएगी।
आरके सिंह, डीसी, महेंद्रगढ़

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपनी दिनचर्या को संतुलित तथा व्यवस्थित बनाकर रखें, जिससे अधिकतर काम समय पर पूरे होते जाएंगे। विद्यार्थियों तथा युवाओं को इंटरव्यू व करियर संबंधी परीक्षा में सफलता की पूरी संभावना है। इसलिए...

और पढ़ें