पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हरियाली का हनन:5 फिट मिट्टी उठाने वाली परमिशन की आड़ में 20 फिट गहरा बजरी खनन करवा रहे हैं खेत मालिक

नांगल चौधरीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एक खेत का खनन करके दूसरे मालिक को पानी कटाव का डर दिखाने का खेल शुरू, बाढ़ का खतरा मंडराया

अरावली जोन तथा निजी खेतों में बजरी खनन की इजाजत नहीं है। विशेष परिस्थितियों में किसानों को 5 फिट तक मिट्टी उठाने की परमिशन मिल सकती है। कई शातिर लोगों ने इसी परमिशन को बजरी खनन का कवच बना लिया। मिट्टी उठाने वाली परमिशन की आड़ में ढाणी बाठोठा नदी के आसपास खेतों में बजरी खनन धड़ल्ले से हो रहा है, जिससे कई गांवों को बाढ़ की समस्या झेलनी पड़ सकती है।

आपको बता दें कि ढाणी बाठोठा गांव कृष्णावती नदी से करीब 500 मीटर दूर है। गांव की अधिकतर जमीन नदी के साथ लगती है, जिनमें 8-10 फिट की गहराई पर बजरी का भंडार मिलना आरंभ हो गया। दूसरी ओर गांव के साथ लगती कृष्णावती नदी अरावली जोन में शामिल है, जिसमें बीते 8-10 साल से अवैध बजरी खनन हो रहा है।

अब लगभग पूरी नदी को छलनी कर दिया गया, कहीं भी बजरी नहीं मिल रही। इसलिए माफिया ने किसानों के खेतों पर नजर टिका दी। सबसे पहले उन्होंने खेतों के साथ लगती नदी में 20-30 फिट गहराई तक मिट्टी और बजरी का खनन किया। इससे किसानों को बरसात के दिनों में पानी कटाव का खतरा हो गया। इस मौके का फायदा उठाते हुए माफिया ने दलालों की मार्फत किसानों से संपर्क करने की योजना बनाई। उन्हें बरसात होते ही खेत खराब होने का डर तथा पैसों का लालच दिखाया गया, जिससे प्रभावित होकर कई किसान बजरी खनन के लिए तैयार हो गए।

प्रशासन को चकमा देने की लिए पांच फिट मिट्टी उठाने की परमिशन लेने की चर्चाएं हैं। इसकी आड़ में 20 फिट गहराई तक खनन हो रहा है। इतना ही नहीं, कई खेत मालिकों ने बिना विभागीय इजाजत लिए मिट्टी और खेतों का खनन करवा दिया। अवैध खनन होने से पौधों का सर्वाधिक नुकसान हो रहा है। नदी में लगभग सभी पौधों की कटाई हो चुकी है। अब खेतों में हरियाली पर कुल्हाड़ी चलनी शुरू हो गई। समस्या से जिला उपायुक्त व विभागीय अधिकारियों को लिखित शिकायत भेज दी गई है, किंतु कार्रवाई के नाम पर अधिकारियों ने अभी तक एक भी माफिया को नहीं पकड़ा है। कभी-कभार चेकिंग करते हैं तो उससे पहले माफिया को सूचना मिल जाती है। इसलिए उन्हें खनन के सबूत मिटाने तथा संसाधनों समेत भागने का मौका मिल जाता है।

ग्रामीणों ने बताया कि फोरेस्ट विभाग ने कृष्णावती नदी में 60 हजार जट्रोपा नामक पौधे लगाए थे, जोकि सुंदर होने के साथ तेल की पैदावार देते हैं। यह तेल आयुर्वेदिक दवाइयों में इस्तेमाल होता है, लेकिन खनन माफिया ने इन पौधों को पेड़ बनने से पहले उजाड़ दिया। वर्तमान मौका रिपोर्ट के अनुसार नदी में एक भी जट्रोपा पेड़ दिखाई नहीं देते। इससे सरकार को आर्थिक नुकसान के साथ आयुर्वेदिक दवा उत्पादन की योजना फेल हो गई।

नदी में पानी आया तो बाढ़ के संकट में फंस सकते हैं ग्रामीण
ग्रामीणों के मुताबिक नदी और खेतों पर अवैध बजरी खनन गांवों की तरफ बढ़ रहा है। ढाणी त्रियाला, तोताहेड़ी, ढाणी बाठोठा, सिलारपुर, ढाणी ठाकरान, नांगल पीपा गांव के करीब तक खनन पहुंच चुका है। कभी नदी में पानी आया तो संबंधित ग्रामीणों को बाढ़ का खतरा झेलना पड़ सकता है। साथ ही कृषि योग्य जमीन का रकबा घटने से पशुचारा व अनाज की किल्लत रहने के आसार हैं।

निजी जमीनों पर बजरी का स्टॉक करने में जुटे माफिया
जानकारी के मुताबिक खनन माफिया ने वाहनों में बजरी सप्लाई के साथ सुरक्षित जगह पर स्टॉक भी किया है। उनका तर्क है कि बरसात के दिनों में रास्ता बंद होने या प्रशासनिक सख्ती बढ़ने पर बजरी सप्लाई सुचारू रहे। स्टॉक वाली बजरी पर उन्हें मुंह मांगा रेट मिलता है। जानकारी होने के बावजूद विभागीय टीम ने निरीक्षण करने तक की जहमत नहीं उठाई है।

झाड़ियां डालकर खनन छुपाने के प्रयास, रास्तों पर खोदे गड्ढे : अवैध खनन का मामला उजागर होने पर माफिया में हड़कंप मचा हुआ है। उन्होंने झाड़ियां डालकर खनन को छुपाना शुरू कर दिया है। कई खेत मालिकों ने पानी का छिड़काव कर दिया, ताकि प्रशासनिक टीम को पुराना मिट्टी खनन होने का तर्क देकर बरगलाया जा सके। नदी के किनारे तथा लिंक रास्तों पर माफिया के गुप्तचर तैनात देखे गए हैं।

अनुमति लेकर 5 फिट तक मिट्टी उठा सकते हैं, लेकिन ढाणी बाठोठा में बजरी खनन माफिया सक्रिय होने की शिकायतें मिल रही हैं। छापेमारी को टीम गठित कर दी है। सरपंच से भी संपर्क किया है। जल्द ही कार्रवाई करने में सफलता मिलेगी। जिले में कहीं भी अवैध खनन को पनपने नहीं दिया जाएगा। -अनिल कुमार, जिला माइनिंग अधिकारी, नारनौल।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर के बड़े बुजुर्गों की देखभाल व उनका मान-सम्मान करना, आपके भाग्य में वृद्धि करेगा। राजनीतिक संपर्क आपके लिए शुभ अवसर प्रदान करेंगे। आज का दिन विशेष तौर पर महिलाओं के लिए बहुत ही शुभ है। उनकी ...

और पढ़ें