खतरा अभी टला नहीं / 4 दिन बाद फिर जिले में घुसा टिड्डी दल, फसल को नुकसान नहीं

X

  • डीसी दिन भर लेते रहे अपडेट दल रात को ठहरा तो होगा दवाई का छिड़काव

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 07:56 AM IST

नारनौल. टिड्डी दल का खतरा अभी टला नहीं है। जिला में 4 दिन बाद एक बार फिर मंगलवार शाम को रेवाड़ी की ओर से राजस्थान की सीमा से टिड्डी दल ने जिले में प्रवेश किया। इससे पहले वह कभी गोदबलाहा तो कभी सतनाली के आसपास सीमावर्ती क्षेत्रों में मंडराता रहा। इसके चलते उपायुक्त आरके सिंह दिनभर अधिकारियों से इस बारे में पल-पल की जानकारी लेकर आवश्यक दिशा-निर्देश देते रहे। वहीं डीसी ने सुबह लघु सचिवालय में एक बैठक लेकर सभी बीडीपीओ व कृषि विभाग के अधिकारियों को दिनभर अलर्ट रहने के निर्देश दिए।

कृषि उपनिदेशक डाॅ. जसविंद्र सिंह सैनी ने बताया कि टिड्डियों का एक दल जो यूपी की तरफ 3 दिन पहले गया था, वही दिल्ली से वापस रेवाड़ी होते हुए कांटी-खेड़ी व कुंजपुरा व राजस्थान के आसपास के गांव में दिखाई दे रहा है। एक दल भूषण शोभापुर मंडलाना नीरपुर होते हुए नारनौल से निकलने के बाद इसके आसपास के गांव में मंडरा रहा है। फिलहाल इन सभी गांव के किसान कृषि विभाग के अधिकारियों के साथ मिलकर इन्हें यहां से भगाने में जुटे हुए हैं।

अगर यह दल रात को यहां पर ठहरता है तो उस पर दवाई का छिड़काव किया जाएगा। जिला में सभी प्रकार की तैयारियां पूरी हैं। उन्होंने कहा कि कृषि विभाग का प्रयास है कि किसान लगातार इसी प्रकार जागरूक होकर विभिन्न यंत्रों के माध्यम से शोर मचाकर इन्हें भगाते रहें ताकि यह दल जिला में न ठहर पाए।

दूसरी ओर सहायक पौधा संरक्षण अधिकारी डॉ. हरपाल सिंह ने बताया कि बताया कि दूसरा दल झुंझुनूं के गांव हसलसर व भड़ौदा कलां की तरफ दोपहर बाद तक मंडरा रहा था। यह दल भी गोद बलाहा की साइड शाम तक आ सकता है। कृषि विभाग के अधिकारी लगातार बॉर्डर पर साथ लगने वाले गांव के किसानों के संपर्क में हैं तथा उन्हें टिड्डी दल से बचाव के उपाय भी बताए जा रहे हैं।

नहींं टला खतरा, सीमावर्ती क्षेत्र में ही घूम रहा है ट्डिडी दल
टिड्डी दल का खतरा अभी बरकरार है। टिड्डियों के दो दल जिले की सीमा के साथ लगते राजस्थान के जिलों में घूम रहे हैं। एक दल ने मंगलवार सुबह राजस्थान के अलवर की तरफ से रेवाड़ी के बावल क्षेत्र की ओर रुख किया था। इसी दौरान हवा मंद होने के साथ ही उस दल ने फिर वापस अलवर की तरफ रुख कर लिया।

इस दल पर कृषि विभाग रेवाड़ी तथा महेंद्रगढ़ के अधिकारी लगातार नजर रखे हुए थे तथा सीमावर्ती क्षेत्रों में ही आवश्यक संसाधनों के साथ डटे रहे। टिड्डी दल के वापस रुख बदलने के बाद ही अधिकारियों की टीम ने राहत की सांस ली। हालांकि देर शाम तक अधिकारी मौके पर ही डटे रहे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना