प्रदर्शन:टूटी सड़क सुधारने की मांग पर जाम लगाने वालों पर केस दर्ज, पेशी के लिए बुलाने पर विरोध में उतरे लोग

नारनौल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • दो दिन पहले सीआईए रोड पर जाम लगाने के आरोप में 21 नामजद लोगों को पूछताछ के लिए किया है तलब
  • बोले- केस दर्ज करने से पहले समस्या का भी तो समाधान किया जाना चाहिए

शहर के लोगों द्वारा रोड जाम कर प्रशासन तथा जनप्रतिनिधियों का ध्यान टूटी एवं गड्ढ़ों में तब्दील हो चुकी सड़क की ओर दिलाने के बावजूद सड़क का निर्माण कार्य तो शुरू नहीं हो पाया, परंतु पुलिस ने रोड जाम कर इस जनसमस्या को उठाने वाले करीब 21 लोगों पर जरूर मुकदमे दर्ज कर दिए हैं।

पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए नामजद लोगों के सम्मन भेज कर आगामी कार्रवाई के लिए बुधवार को अस्पताल पुलिस चौकी में बुलाया। जिन लोगों को मंगलवार को सम्मन मिल गए थे, वे लोग बुधवार सुबह पुलिस चौकी में उपस्थित हुए, उन्होंने इस बात का विरोध किया कि प्रशासन को टूटी सडके सुधारने पर ध्यान देना चाहिए था।

जो काम उन्होंने नहीं किया, उस ओर प्रशासन को जगाने के लिए लोग सड़कों पर उतरे, अब ऐसे लोगों को ही दोषी ठहराया जा रहा है। लोगों के विरोध का देखते हुए उन्हें वापस भेज दिया गया, वह बात अलग है कि पुलिस का कहना था कि इसके लिए सभी लोगों के न आने के कारण यह कदम उठाया गया।

दरअसल जनस्वास्थ्य विभाग ने कई माह पहले शहर के महिला थाने के गेट से अग्रसेन चौक, लोहा मंडी, नारनौल अस्पताल, जिला क्षय रोग अस्पताल, बहरोड चौक व सीआईए मोड होकर किला रोड तक सड़क को तोड़ा था। परंतु सीवर लाइन डालने के बाद भी प्रशासन इस टूटी सड़क के न गड्ढ़े भर रहा है और न ही इस सड़क का निर्माण करवा रहा है।

इसके चलते नागरिक अस्पताल, अनाज मंडी, लोहा मंडी, रेलवे स्टेशन, मॉडल संस्कृति स्कूल, महिला काॅलेज, पीजी कालेज व मुख्य बाजार आजाद चौक का रास्ता बंद हो गया है। इस गड्ढेयुक्त व फिसलन भरे रास्ते के कारण अनेक लोग गिर कर जख्मी हो चुके हैं, लेकिन प्रशासन व जनप्रतिनिधि समस्या का समाधान करने की बजाय झूठे आश्वासन दे रहे हैं।

रोज-रोज के झूठे आश्वासन से परेशान होकर शहर के लोगों ने सोमवार को सीआईए मोड के निकट रोड जाम कर प्रशासन व जनप्रतिनिधियों का ध्यान इस ओर दिलाया था। परंतु तीन दिन बीत जाने के बावजूद सड़क का निर्माण कार्य तो शुरू नहीं हो पाया, लेकिन पुलिस ने सोमवार शाम को ही जाम लगा रहे लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज जरूर कर दिया।

इतना ही नहीं, पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए मंगलवार को ही नामजद लोगों को समन भेजकर उन्हें बुधवार को पुलिस चौकी में उपस्थित होने के फरमान जारी कर दिए। इसके चलते बुधवार को 10 से अधिक लोग पुलिस चौकी में पहुंचे थे, परंतु सभी लोगों के न पहुंचने पर पुलिस ने उन्हें वापस भेज दिया।

खबरें और भी हैं...