134-ए:सीबीएसई में पंजीकरण की अंतिम तिथि निकली; दाखिले से वंचित रह गए 35 छात्र

नारनौल8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • भविष्य का सवाल! विद्यार्थियों को अब पंजीकरण के लिए दोबारा पोर्टल ओपन हाेने का इंतजार

प्राइवेट स्कूल संचालकों द्वारा नियम-134ए के तहत मूल्यांकन परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले विद्यार्थियों को दाखिला न देने की मनमानी के चलते केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) में शिक्षा सत्र 2021-22 में 9वीं तथा 11वीं कक्षा के बच्चों का पंजीकरण करने की अंतिम तिथि निकल जाने से जिले के करीब 35 विद्यार्थी वंचित रह गए। बोर्ड में पंजीकरण की अंतिम तिथि निकल जाने के कारण प्राइवेट स्कूल संचालकों ने अब इन 9वीं तथा 11वीं कक्षा में विद्यार्थियों को दाखिला देने से मना कर दिया है। परेशान विद्यार्थी एवं उनके अभिभावक स्कूलों एवं शिक्षा विभाग के अधिकारियों के कार्यालयों के चक्कर लगा-लगा कर थक चुके हैं, लेकिन उन्हें कहीं कोई आशा की किरण दिखाई नहीं दे रही हैं, क्योंकि सीबीएसई बोर्ड में पंजीकरण के लिए दोबारा पोर्टल ओपन करवाना आसान बात नहीं है।

बता दें कि सीबीएसई बोर्ड ने शिक्षा सत्र 2021-22 में कक्षा 9वीं तथा 11वीं कक्षाओं के पंजीकरण के लिए 31 दिसंबर 2021 अंतिम तिथि निर्धारित की थी। परंतु प्रदेश में नियम-134ए के तहत प्राइवेट स्कूलों द्वारा विद्यार्थियों को दाखिला न देने की मनमानी की जा रही थी। ऐसे में प्रदेश में बड़ी संख्या में तथा जिले में करीब 35 विद्यार्थी सीबीएसई बोर्ड में अपना पंजीकरण करवाने से वंचित रह गए थे।

विद्यार्थियों की इस बड़ी समस्या को देखते हुए सीबीएसई बोर्ड ने पंजीकरण की तिथि 6 जनवरी तक बढ़ा दी थी, पर प्राइवेट स्कूल संचालकों ने 6 जनवरी तक भी विद्यार्थियों को दाखिला देने को राजी नहीं हुए थे। इसके चलते 6 जनवरी की अंतिम तिथि भी निकल गई। सात जनवरी दोपहर बाद शिक्षा विभाग के एसीएस महावीर सिंह ने ऑनलाइन शिक्षा विभाग के अधिकारियों की मीटिंग लेकर प्राइवेट स्कूल संचालकों की बकाया फीस का जल्द भुगतान करने तथा इस सत्र से फीस बढ़ाने की बात कही थी।

इसके बाद जिले के प्राइवेट स्कूल संचालक 10 जनवरी से विद्यार्थियों को दाखिला देने पर राजी हुए थे। इसके बाद स्कूल संचालकों ने कक्षा दूसरी से 8वीं तक के विद्यार्थियों को तो अपने यहां दाखिला दे दिया, लेकिन कक्षा 9वीं तथा 11वीं के विद्यार्थियों को सीबीएसई बोर्ड में पंजीकरण की तिथि निकल जाने की बात कह दाखिला देने में असमर्थता जताई। इस प्रकार नियम-134ए के तहत जिले में 1214 विद्यार्थियों में से 1179 को तो दाखिला मिल गया, लेकिन कक्षा 9वीं तथा 11वीं के 35 विद्यार्थी दाखिले से वंचित रह गए हैं।

खबरें और भी हैं...