पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

समीक्षा बैठक:डीसी ने ली बैठक बोले- महेंद्रगढ़ को पर्यटन केंद्र बनाने की तैयारी, भू-रिकार्ड अपडेट रखें

नारनौल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ऐतिहासिक इमारतों के संरक्षण के लिए बैठक लेते उपायुक्त। - Dainik Bhaskar
ऐतिहासिक इमारतों के संरक्षण के लिए बैठक लेते उपायुक्त।
  • ऐतिहासिक स्थलों के संरक्षण व नवीनीकरण को लेकर गंभीरता से काम कर रहा प्रशासन

जिला प्रशासन जिला के सभी ऐतिहासिक स्थलों के संरक्षण व नवीनीकरण को लेकर लगातार कार्य कर रहा है। जिला आने वाले समय मेंं पर्यटक का बड़ा केंद्र बनेगा। ऐसे में जरूरी है कि इन स्थलों व इनके आसपास की जमीनों पर किसी भी प्रकार का अवैध कब्जा न होने दिया जाए। अधिकारी इस दिशा मेंं कोई ढिलाई नहीं बरतें।

ये निर्देश डीसी अजय कुमार ने शुक्रवार अपने कार्यालय में ऐतिहासिक स्थलों को लेकर हुई बैठक में अधिकारियों को दिए। इसमें डीसी ने राजस्व विभाग को निर्देश दिए कि भूमि से जुड़े हर रिकार्ड को अपडेट रखें। भूमि रिकार्ड सही होगा तभी इनके नवीनीकरण का कार्य सही तरीके से हो पाएगा।

कुछ स्थलोंं का प्रपोजल बीएंडआर विभाग द्वारा भेजा जा चुका है। जल महल की दीवार के संबंध में बीएंडआर ने नया डिजाइन भेजा है। इस काम को जल्द शुरू करवाया जाएगा। जलमहल में लाइट एंड साउंड शो का कार्य विचाराधीन है। इस मौके पर रेडियो अरावली की ओर से ऐतिहासिक स्थलों पर बनाई जा रही डाक्यूमेंट्री फिल्म की रफ कॉपी देखी।

डीसी ने अब तक हुए कार्य की सराहना करते हुए कहा कि इसको जल्द से जल्द फाइनल किया जाए ताकि इसके माध्यम से यहां पर पर्यटकों को लुभाया जा सके। इस बैठक में सीएमजीजीए कौस्तुभ विराट, जिला राजस्व अधिकारी अभिषेक कुमार, एक्सईएन बीएंडआर सज्जन कुमार, नगर परिषद ईओ अभयसिंह यादव, एएसआई से गौरव, इनटेक कन्वीनर रतनलाल सैनी, पुरातत्व से सुरेेंद्र सैनी व रेडियो अरावली से मनीष विद्यार्थी मौजूद थे।

सीएम देख रहे हैं ऐतिहासिक स्थलों के संरक्षण का कार्य

जिला में ऐतिहासिक स्थलों के संरक्षण का कार्य मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी कौस्तुभ विराट कर रहे हैं। शोध करने वाले छात्रों की सहायता से वे लगातार इन स्थलों के संबंध मेंं कार्य आर स्थलों की निगरानी भी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में जिला से गुजरने वाले सभी हाईवे के निर्माण के बाद यहां पर पर्यटकों की भारी संख्या मेंं आगमन होने की उम्मीद है। इसी हिसाब से भविष्य की जरूरतों के हिसाब के अनुसार सुविधाएं मुहैया करवाने की रणनीति बनाई जा रही है।

खबरें और भी हैं...