निजीकरण का विरोध:महानिदेशक को ज्ञापन भेज की मांग, निजीकरण पर लगाएं रोक

नारनौलएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा रोडवेज कर्मचारी यूनियन डिपो, नारनौल ने सोमवार को निजीकरण के विरोध में प्रधान अनिल भीलवाड़ा के नेतृत्व में महाप्रबंधक के मार्फत परिवहन विभाग के महानिदेशक को ज्ञापन प्रेषित कर रोष जताया। इस मौके पर यूनियन ने सरकार व महानिदेशक से निजीकरण पर तुरंत रोक लगाने की मांग की तथा उनकी मांगों को अनसुना करने पर डट कर विरोध करने की चेतावनी दी। हरियाणा रोडवेज कर्मचारी यूनियन ने अपने ज्ञापन में बताया कि सरकार स्टेज कैरीज स्कीम के तहत मुख्य मार्गों पर प्राइवेट परमिट जारी कर रही है। जो मोटर व्हीकल एक्ट का उल्लंघन है। ऐसा कर सरकार रोडवेज का निजीकरण करना चाहती है। हरियाणा रोडवेज कर्मचारी यूनियन इसका कड़ा विरोध करती है।

यूनियन ने बताया कि रोडवेज जनता की सबसे सस्ती एवं लोकप्रिय परिवहन सेवा है। रोडवेज की प्रति बस प्रति माह 40 हजार से 60 हजार रुपए टैक्स दे रही है, जबकि प्राइवेट बस 12 हजार रुपए टैक्स दे रही है। इसके बावजूद सरकार स्टेज स्कीम को लागू कर रोडवेज का निजीकरण करना चाहती है। इससे स्पष्ट है कि रोडवेज को लेकर सरकार की नीयत ठीक नहीं है।

खबरें और भी हैं...