पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मॉनसून सीजन की विदाई नजदीक:पौधगिरी के तहत स्कूलों में 60% पौधे भी नहीं लग पाए

नारनौल12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कुछ कोरोना की मार से स्कूल बंद रहे तथा कुछ विभाग की लापरवाही ने थामी रफ्तार
  • नारनौल खंड के स्कूलों में अब तक 55 हजार पौधे लगाए गए
  • वन विभाग ने स्कूलों में बच्चों से 7 लाख पौधे लगवाने का रखा था लक्ष्य

वन विभाग ने मॉनसून के इस सीजन में जिले के स्कूलों में हरियाली को बढ़ावा देने को पौधगिरी के तहत विद्यार्थियों से 55684 पौधे लगवाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। जिले में कार्यरत 700 से अधिक स्कूलों के लिए 55 हजार पौधे लगाने का लक्ष्य कोई ज्यादा नहीं है, लेकिन कोरोना के संक्रमण के कारण स्कूलों के देरी से खुलने तथा स्कूलों में आने वाले विद्यार्थियों की संख्या कम होने के कारण वन विभाग को यह लक्ष्य पूरा करने में बारिश के मौसम में भी पसीने आ रहे हैं।

वन विभाग के रिकार्ड के अनुसार जिले में पौधगिरी के तहत स्कूलों में अभी तक 31665 पौधे लगाए गए हैं। इस प्रकार वन विभाग के पौधारोपण अभियान के दो महीने बीत जाने के बावजूद अभी तक केवल 60 प्रतिशत से भी कम लक्ष्य पूरा हो पाया है, जबकि मॉनसून का सीजन समापन की ओर है।

वन विभाग के रिकार्ड के अनुसार मॉनसून के इस सीजन में जिले हरियाली को बढ़ावा देने के लिए पौधगिरी, जलशक्ति अभियान व वन महोत्सव अभियान के तहत 7 लाख से अधिक पौधे लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इनमें पौधगिरी के तहत पौधरोपण का कार्य सरकारी स्कूलों में अध्ययनरत विद्यार्थियों को दिया गया है।

शिक्षा विभाग के रिकार्ड के अनुसार जिले के सरकारी स्कूलों में पहली से 12वीं तक तक करीब 67 हजार विद्यार्थी अध्ययनरत हैं। परंतु पौधगिरी के तहत कक्षा तीसरी से 12वीं तक के विद्यार्थियों को शामिल किया गया है। इस प्रकार जिले में पौधगिरी के तहत तीसरी से 12वीं तक के विद्यार्थियों को प्रत्येक बच्चे से एक पौधा लगवाने के तहत 55684 पौधे लगाने का लक्ष्य दिया गया है।

पौधगिरी के तहत विद्यार्थियों को यह पौधे मॉनसून सीजन में 10 जुलाई से 10 सितंबर तक लगाने थे। क्योंकि 10 सितंबर बाद प्रदेश में मॉनसून वापस लौटने लगता है। इस बार कोरोना के संक्रमण के कारण जिले में स्कूल देरी से खोले गए। चौथी व पांचवीं की कक्षाएं तो स्कूलों में 1 सितंबर से ही लगाई गई हैं, जबकि तीसरी की कक्षाएं तो अभी तक नहीं लगाई गई है।

ऐसे में स्कूल देरी से खोलने तथा स्कूल खोलने के बाद भी स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति 50 से 60 प्रतिशत रहने के कारण पौधगिरी पर विपरीत असर पड़ रहा है। यही कारण है कि जिले में 13 सितंबर तक पौधगिरी के तहत 31665 पौधे ही लगाए जा सके हैं। इस प्रकार 60 प्रतिशत लक्ष्य भी पूरा नहीं हो पाया है।

पौधगिरी के तहत अभी तक जिले में 31665 पौधे लगाए जा चुके

जिले में हरियाली को बढ़ावा देने के लिए बारिश के इस सीजन में पौधगिरी अभियान के तहत स्कूलों में 55684 पौधे लगवाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। पौधगिरी के तहत अभी तक जिले में 31665 पौधे लगाए जा चुके हैं। पौधरोपण के इस लक्ष्य को आगे बढ़ाने के लिए पौधरोपण का कार्य जारी रहेगा।

-तरुण कुमार, सुपरींटेंडेंट, वन विभाग कार्यालय महेंद्रगढ़।

खबरें और भी हैं...