पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चामुंडा मंदिर विवाद:पूर्व ट्रस्टी बोले-चढ़ावे में आई चांदी का पूरा रिकॉर्ड उपलब्ध, हेराफेरी नहीं हुई, कुछ मंदिर में लगाई, 40 किलो अभी भी मौजूद

नारनौलएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शहर के प्राचीन मां चामुंडा देवी मंदिर विवाद मामले में सोमवार को मंदिर की भंग ट्रस्ट के प्रधान सूरज बौहरा ने पूर्व सचिव के बेटे आकाश चौधरी व उसके परिवार पर मंदिर के नाम से लाखों रुपए की चांदी एकत्रित करने के आरोपों को निराधार एवं झूठा बताया है।

उन्होंने पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि मंदिर के विकास के लिए शहर के जिन दानदाताओं ने जो चांदी दान की है, उन्हें बाकायदा मंदिर ट्रस्ट की रसीद दी गई है। मंदिर के रोकड़ के एक-एक पैसे के हिसाब की रसीद ट्रस्ट के पास है। कोई भी व्यक्ति मंदिर के संदर्भ में उनके हिसाब-किताब ले सकता है।

मंदिर का ट्रस्ट भंग करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि बैंक में मंदिर ट्रस्ट का कोई खाता न खोलना उनकी गलती रह गई है। जिसके चलते ट्रस्ट पर अनियमितता के आरोप लगे हैं। इसके अलावा कोई भी व्यक्ति ट्रस्ट की कोई गलती निकाल दे तो वे उसका हर्जाना भुगतने को तैयार हैं।

उन्होंने बताया कि वर्ष 1985 तक नाते में उनके ताऊ लगने वाले रामकिशन शाखटन मां चामुंडा मंदिर में पुजारी थे। उनके देहांत के बाद रूपचंद शर्मा को मंदिर का पुजारी नियुक्त किया गया था। पंडित रूपचंद वर्तमान में भंग ट्रस्ट के पुजारी सत्यनारायण शर्मा के पिता थे। वर्तमान पुजारी के परिवार के लोगों द्वारा पांच पीढियों से पीढ़ी दर पीढ़ी पुजारी वाली सरासर झूठ है।

उन्होंने बताया कि 2011 में मंदिर ट्रस्ट का पुनर्गठन किया गया था। जिसमें उन्हें ट्रस्ट का प्रधान चुना गया था। तब से लेकर 2020 तक वे मां चामुंडा देवी मंदिर ट्रस्ट के प्रधान रहे हैं। इस मंदिर ट्रस्ट में 16 ट्रस्टी शामिल थे, परंतु कुछ ट्रस्टी लंबे समय से मंदिर में नहीं आ रहे थे।

उनके प्रधान रहते हुए ट्रस्ट के सदस्य व पूर्व सचिव के बेटे ने कोई गलत कार्य नहीं किया। इसके बावजूद वे मंदिर विवाद मामले में हाईकोर्ट के फैसले का सम्मान करते हैं। मंदिर हित में आगे भी हाईकोर्ट जो फैसला करेगा, उन्हें मंजूर होगा। वे इस मामले में कोई विरोध नहीं करेंगे। दूसरी ओर पूर्व सचिव के बेटे आकाश चौधरी ने कहा है कि उस पर लगाए जा रहे आरोप बेबुनियाद और झूठे हैं। हां, मंदिर के जीर्णोद्धार के लिए जो चांदी इकट्ठी की गई थी वो उसने पूर्व ट्रस्टी नरेंद्र सोनी के साथ ही की थी। जिसमें किसी भी प्रकार की कोई गड़बड़ी नहीं है।

चौधरी ने कहा कि नरेंद्र सोनी उसका घनिष्ठ साथी था और दोनों ने ही मंदिर के लिए चांदी इकट्ठी करके माता मंदिर का जीर्णोद्धार के उद्देश्य से इस कार्य को अंजाम दिया था और पूरी निष्ठा व ईमानदार से सारा हिसाब पदाधिकारियों को दिया गया था। जब उसके साथ किसी बात को लेकर उनकी अनबन हो गई तो नरेंद्र सोनी इस प्रकार की घटिया हरकत करके उन पर झूठे आरोप लगा रहा है।

आकाश चौधरी ने यह भी कहा कि यदि उसने एक भी ग्राम चांदी में हेराफेरी की हो तो माता चामुंडा उसका सर्वनाश कर दें। उन्होंने बताया कि मंदिर के जीर्णोद्धार में एक बार करीब 45 किलोग्राम, दूसरी बार करीब 60 किलोग्राम चांदी लगा चुके हैं। इसके अलावा करीब 40 किलोग्राम चांदी अभी उनके पास उपलब्ध है। जिसे मंदिर के जीर्णोद्धार के लिए लॉकडाउन के कारण लगाने में देरी हुई है। उन्होंने प्लाॅट खरीदकर नरेंद्र सोनी के नाम कराने के सवाल के जवाब में बताया कि यह सही बात है कि उसने एक प्लाट खरीदा था, जिसे नरेंद्र सोनी के नाम करवाया है।

इस प्लाॅट के खरीदने में लगी राशि उसकी निजी है। वह इस प्लाॅट को बेचकर उसके पैसे मंदिर में लगाना चाहता था। इसके चलते उसने इस प्लाॅट को अपने किसी परिवार के सदस्य के नाम नहीं किया। अब इस प्लाॅट को कब्जाने के लिए ही नरेंद्र सोनी उस पर झूठे आरोप लगा रहा है।

उन्होंने कहा कि यदि नरेंद्र सोनी मां चामुंडा देवी मंदिर में अपने पुत्र के सिर पर हाथ रखकर यह कह दे कि वह प्लाॅट उसका है तो वह इस मामले में दर्ज करवाया गया अपना केस वापस ले लेगा तथा प्लाॅट उसे दे देगा। इस मौके पर पूर्व ट्रस्टी कैलाश शुक्ल, देवेंद्र दीवान व विनोद महत्ता भी उनके साथ मौजूद थे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें