पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

टेंडर प्रक्रिया जारी:जिले में स्थापित होगी आरटी-पीसीआर टेस्ट लैब, 24 घंटे में मिल जाएगी जांच रिपोर्ट

नारनौलएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सिविल वर्क के लिए एस्टीमेट मुख्यालय भेजा

आरटी पीसीआर टेस्ट की रिपोर्ट के लिए अब जिलेवासियों को ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ेगा। सैंपल कलेक्शन के बाद महज 24 घंटे में मरीज को रिपोर्ट मिल जाएगी, इसके लिए राज्य सरकार ने महेंद्रगढ़ जिले में लैब स्थापित करने का निर्णय लिया है।

यह जानकारी देते हुए उपायुक्त अजय कुमार ने बताया कि बढ़ते मामलों को देखते हुए यह जरूरी था कि जिले में आरटी पीसीआर लैब को स्थापित किया जाए। इस संबंध में उन्होंने मुख्यमंत्री के साथ विगत दिनों हुई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में चर्चा की थी। उन्होंने कहा कि पिछले एक सप्ताह से जिले में बहुत अधिक कोविड-19 के मामले आ रहे हैं। ऐसे में रिपोर्ट आने में कई-कई दिन लग जाते हैं। इस दौरान वह संक्रमित कई लोगों के संपर्क में आ चुका होता है। उपायुक्त ने बताया कि जल्द ही एक लैब को स्थापित कर दिया जाएगा। पूरे राज्य में इस तरह की सात नई लैब स्थापित करने के लिए राज्य सरकार ने मंजूरी दी है। हरियाणा में पलवल, कुरुक्षेत्र, कैथल, फतेहाबाद, चरखी दादरी, नारनौल तथा झज्जर में यह लैब स्थापित की जाएगी।

ई-प्रोक्योरमेंट सिस्टम के तहत राज्यस्तर पर होगी खरीद

सीएमओ डॉ. अशोक कुमार ने बताया कि यहां पर जिला में लैब स्थापित होने के बाद हर रोज शुरुआत में 500 टेस्ट संभव हो सकेंगे। इसके बाद धीरे-धीरे टेस्टिंग बढ़ा दी जाएगी। उन्होंने लोगों से भी आह्वान किया कि जब भी स्वास्थ्य कर्मी पहुंचे तो उनका सहयोग करें तथा सैंपल में कोई आनाकानी ना करें, यह उनकी भलाई के लिए है।

फिलहाल गुड़गांव-मेवात से रिपोर्ट आने में लग रहा 2 से 3 दिन का समय

प्रदेश के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री ओमप्रकाश यादव ने कहा कि कोविड-19 के टेस्ट के लिए उनके विधानसभा क्षेत्र के गांव रामपुरा पीएचसी केंद्र में आरटी पीसीआर लैब की स्थापना की जाएगी, जिससे कोविड-19 के टेस्ट की रिपोर्ट 24 घंटे में ही क्षेत्र की जनता को उपलब्ध हो जाएगी। पहले यह रिपोर्ट गुड़गांव और मेवात की लैब में भेजी जाती थी, जिसके आने में 2 से 3 दिन का समय लग जाता था, लेकिन रामपुरा पीएचसी केंद्र में आरटी पीसीआर लैब लगने पर अब लोगों को कोरोना के लक्षण की रिपोर्ट आने में अधिक टाइम नहीं लगेगा। उन्होंने कहा कि वे इस मामले में मुख्यमंत्री मनोहर लाल व स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से पिछले दिनों चंडीगढ़ में मिले थे तथा उनसे महेंद्रगढ़ जिले में कोरोना टेस्टिंग लैब लगाने का अनुरोध किया था। प्रदेश सरकार ने हरियाणा में 7 नई कोरोना टेस्टिंग लैब मंजूर की हैं।

कोरोना की चेन तोड़ने में होगी आसानी : सीएमओ

सीएमओ डॉ. अशोक कुमार ने बताया कि आरटी-पीसीआर लैब में प्रयोग होने वाली मशीन के लिए हरियाणा मेडिकल सर्विस कॉरपोरेशन लिमिटेड द्वारा हरियाणा सरकार की वेबसाइट पर टेंडर डाल दिया गया है। ई-प्रोक्योरमेंट सिस्टम के तहत यह खरीद राज्य स्तर पर की जाएगी। हमने भी यहां से सिविल वर्क के लिए एस्टीमेट मुख्यालय भेज दिया है। उन्होंने बताया कि यह लैब स्थापित होने के बाद हम कोविड-19 के संक्रमण की चेन को तोड़ने में जल्द ही कामयाब हो जाएंगे।

नॉलेज... आरटी पीसीआर टेस्ट की प्रक्रिया

फिलहाल कोरोना संक्रमण का पता लगाने का सबसे भरोसेमंद तरीका है ‘आरटी-पीसीआर टेस्ट’। इस आरटी-पीसीआर टेस्ट की प्रक्रिया का अहम हिस्सा है सीटी वैल्यू। ये वैल्यू ही तय करती है कि व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव है या नहीं। आरटी-पीसीआर यानी रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन पोलीमरेज चेन रिएक्शन टेस्ट। इस टेस्ट के जरिए किसी वायरस के जेनेटिक मेटेरियल को टेस्ट किया जाता है। कोरोना एक आरएनए वायरस है। टेस्ट के लिए इस्तेमाल होने वाला आरएनए मरीज के स्वाब से निकाला जाता है, लेकिन आरटी-पीसीआर टेस्ट से पहले इस आरएनए को आर्टिफिशियल तरीके से डीएनए में बदला जाता है, फिर इस डीएनए में चेन रिएक्शन करवाई जाती है। यानी एक तरह से इसकी कॉपी बनाई जाती है।

खबरें और भी हैं...