पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

यूनिक आईडी:पाेर्टल पर जल्द देख सकेंगे एक-एक दुधारू पशु की खूबी-खामियां

नारनौल15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • आधार कार्ड की तर्ज पर प्रदेश के सभी दुधारु पशुओं की यूनिक आईडी बनाने का काम शुरू, घर-घर जाकर डाटा जुटा रही टीम
  • जिले के 2.14 लाख पशुओं को यूआईडी टैग लगाए जाएंगे, प्रथम चरण मेंं गाय-भैंस और दूसरे चरण में भेड़-बकरियों को दिए जाएंगे यूआईडी नंबर

हरियाणवी मुर्राह भैंस तथा देसी गाय सहित किसी भी दुधारू पशु के बारे में संपूर्ण जानकारी अब कोई भी पशुपालक ऑनलाइन देख सकेगा।

इसके लिए आधार की तरह अब पशुओं को भी यूनिक आईडी नंबर दिए जा रहे हैं। यह यूनिक आईडी नंबर 12 अंकों का होगा। प्रदेशभर में यह कार्य आरंभ हो चुका है तथा जनवरी माह के अंत तक इसको पूरा करने का लक्ष्य है। इस अभियान के प्रथम चरण में गाय व भैंस को ही यूआईडी नंबर दिए जाएंगे। दूसरे चरण में भेड़ व बकरियों को शामिल किया जाएगा।

यूनिक आईडी नंबर देने का कार्य पशुपालन विभाग की ओर से की जा रहा है। इसके लिए पशु चिकित्सकों के नेतृत्व में पशुधन विकास सहायकों व पशु परिचरों की टीमों का गठन किया गया है। जो घर-घर जाकर यह कार्य कर रही हैं। ये टीमें पशुओं को यूआईडी टैग लगाने के साथ साथ उसके बारे में संपूर्ण जानकारी जुटा रही हैं। यह जानकारी उसके यूआईडी नंबर के साथ इनाफ (आइएनएपीएच) पोर्टल पर अपलोड की जा रही है।

आईडी एक, इसके फायदे अनेक

सभी पशुओं को यूनिक आईडी नंबर मिलने व उनका डाटा इनाफ पोर्टर पर अपलोड होने के बाद किसी भी राज्य का कोई भी पशु पालक किसी भी पशु के बारे में घर बैठे जानकारी ले सकेगा। इसके लिए उसको इनाफ (आइएनएपीएच) पोर्टल पर उस पशु का यूनिक आईडी नंबर डालना होगा।

नंबर डालते ही उस पशु का पूरा विवरण पोर्टल पर दिख जाएगा। कब उसका जन्म हुआ, पहले ब्यांत में कितना दूध दिया और अब कितना दे रहे हैं, वैक्सीनेशन हुआ है या नहीं, हुआ है तो कब हुआ और कौन कौन सी बीमारी के टीके लगे, बीमा है या नहीं, खान-पान क्या है, कृत्रिम गर्भाधान कब और कहां हुआ तथा किस बुल का सीमन था, मिल्क कंपीटीशन में भाग लिया या नहीं, लिया तो कितना दूध दिया आदि जानकारी उसके समक्ष होगी, क्योंकि यह संपूर्ण जानकारी पशु चिकित्सकों द्वारा डाली जाएगी, जो सत्यापित भी होगी। जो पशु मालिक व खरीददार के बीच मोलभाव में विश्वास का काम करेगी। इससे पशुओं की वास्तविक कीमत का पता लग जाएगा, हेरफेर की गुंजाइश नहीं रहेगी।

सरकारी स्कीमों के लिए भी जरूरी यूआईडी नंबर

यूनिक आईडी नंबर इसलिए भी जरूरी होगा कि आने वाले समय में सभी सरकारी योजनाओं मसलन; कृत्रिम गृभादान, दुग्ध प्रतियोगिता, बीमा, वैक्सीनेशन आदि का लाभ पशु के यूआईडी नंबर से ही मिलेगा। खोने या टूटने की स्थिति में रिप्लेस होगा टैगयूनिक आईडी नंबर एक टैग पर अंकित होगा। यह टैग पशु के कान पर लगाया जाएगा। इसके टूटने या खो जाने की स्थिति में दुबारा टैग लगाने या दूसरा नंबर देने की व्यवस्था होगी।

65 टीमों का किया गया गठन

प्रदेश के साथ महेंद्रगढ़ जिले में भी गाय-भैंस को यूआईडी नंबर देने का कार्य आरंभ हो चुका है। इसके लिए 65 टीमों का गठन किया गया है। प्रथम चरण में जिले में 2.14 लाख पशुओं को यूआईडी टैग लगाए जाएंगे।
-डॉ. नसीब सिंह, उपनिदेशक पशुपालन एवं डेयरिंग विभाग, नारनौल।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- जिस काम के लिए आप पिछले कुछ समय से प्रयासरत थे, उस कार्य के लिए कोई उचित संपर्क मिल जाएगा। बातचीत के माध्यम से आप कई मसलों का हल व समाधान खोज लेंगे। किसी जरूरतमंद मित्र की सहायता करने से आपको...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser