पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परेशानी:तोबड़ा में सामान्य से 0.9 पीपीएम अधिक मिली फ्लोरोइड की मात्रा हार्डनेस भी 200 की बजाय 628.6 पहुंची, दांतों के लिए हानिकारक

नारनौल21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जल जीवन मिशन के तहत चलाई गई मोबाइल वैन बुधवार को ग्राम पंचायत फतेहपुर, तोबड़ा, खोड़, राजपुरा, तिगरा, सैदपुर व अटेली नांगल पहुंची और यहां के ग्राउंड वाटर की जांच की। केमिस्ट साहिल परूथी ने बताया कि गांव तोबड़ा के पानी की जांच करने पर पाया कि तोबड़ा के ट्यूबवेल नंबर 1 के पानी के 9 तत्वों की केमिकल जांच की गई।

इसमें पीएच, आयरन व जिंक का मान सामान्य पाया गया। वहीं टीडीएस, टरबिडिटी, नाइट्रेट, सल्फेट का मान सामान्य से अधिक रहा जो उपयोग करने योग्य है, लेकिन फ्लोराइड व हार्डनेस के मामले में सैंपल सामान्य से अधिक होने व उपयोग से अधिक पाया गया।

फ्लोरोइड जहां 1 (एमजी/प्रति लीटर या पीपीएम) तक होना चाहिए लेकिन यहां 1.9 मात्रा रही व हार्डनेस 200 की बजाय 628.6 मात्रा रही। बता दें यदि पानी में फ्लोराइड की मात्रा ज्यादा हो तो उससे पनपने वाला फ्लोरोसिस रोग दांतों के लिए हानिकारक साबित होता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि यदि पेयजल में सुधार हो तो फ्लोरोसिस पर काबू पाया जा सकता है।

केमिस्ट ने बताया कि गांव-गांव जाकर पानी की जांच कर पानी की गुणवत्ता का पता लगाया जा रहा है, ताकि उसमें सुधार कराया जा सके। इससे पहले तोबड़ा के सरपंच रामसिंह ने वाटर टेस्टिंग मोबाइल लैब को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। रामसिंह ने कहा कि गांव में हरियाणा सरकार द्वारा पानी की जांच के लिए जो मोबाइल वैन से पानी की केमिकल जांच की जा रही है।

उससे ग्रामीणों में विभाग के प्रति विश्वास भी पैदा होता है, वहीं जल संरक्षण व पानी की गुणवत्ता के बारे में भी जानने का मौका मिला है। उन्होंने कहा कि दरअसल बहुत से ग्रामीणों को ये तक नहीं पता होता कि पानी में कौन सा तत्व कितना होना चाहिए। जल एवं स्वच्छता सहायक संगठन की टीम लगातार मोबाइल वैन के माध्यम से लोगों को जागरूक करने का कार्य कर रही है।

बीआरसी विक्रम सिंह ने बताया कि पानी की बूंद-बूंद कीमती है इसे बचाने के साथ-साथ इसकी गुणवत्ता का भी विशेष ध्यान रखना चाहिए। इस अवसर पर लैब अटेंडेंट सन्नी कुमार, जेई दुर्गेश, जेई राजबीर, बीआरसी विक्रम सिंह यादव, सरपंच रामसिंह, बिजेन्द्र कुमार, मनोज कुमार आदि उपस्थित रहे।

आज वैन अटेली के 7 ग्राम पंचायतों के पानी की करेगी जांच

जिला सलाहकार मंगतुराम सरसवा ने बताया कि वाटर टेस्टिंग मोबाइल वैन 30 जुलाई तक जिले के गांव.गांव जाकर पानी की जांच करेगी। इसी कड़ी में 8 जुलाई को अटेली खंड के ग्राम पंचायत धनौंदा, उनिंदा, चंदपुरा, बजाड़, गिरधरपुर, बौचडिया व सलीपुर गांव में मौके पर ही जाकर पानी की कैमिकल जांच करेगी व ग्रामीणों को पीने के पानी के प्रति सचेत भी करेगी।

खबरें और भी हैं...