प्रदर्शन:विवि की कार्यप्रणाली को लेकर केंविवि के सामने ग्रामीणाें का अनिश्चितकालीन धरना शुरू

नारनौलएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • ग्रामीणाें का आराेप, स्थानीय लाेगाें काे विवि में नहीं मिल रहा राेजगार

केंद्रीय विश्वविद्यालय के गेट नंबर एक के सामने मंगलवार ग्रामीणाें को ने धरना दिया। विश्वविद्यालय की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए गांव पाली निवासी विष्णु तंवर की अगुवाई में ग्रामीणों ने धरने के दाैरान दावा किया कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं हाेगी तब तक वाे अपना धरना जारी रखेंगे।  धरने पर बैठे ग्रामीण विष्णु पाली, विनाेद तंवर पाली, अशाेक पाली, विजेंद्र, हनुमान यादव आदि ने केंविवि में हुई भर्तियाें में भाई भतीजावाद का आराेप लगाते हुए क्षेत्र के युवाओं काे राेजगार देने की मांग की। उन्हाेंने कहा कि वाे लंबे समय से विश्वविद्यालय प्रबंधन ने क्षेत्र के युवाओं काे राेजगार देने की बात कह रहे हैं, लेकिन ऐसा नहीं हाे रहा। साथ ही जाे स्थानीय युवा अाउट साेर्सिंग के लगे हुए हैं, उनका शाेषण हाे रहा है। उन्हाेंने कहा कि बार-बार मांग करने के बाद भी जब विवि प्रबंधन ने उनकी मांग पर ध्यान नहीं दिया ताे वाे धरना देने पर मजबूर हुए हैं।

अब उनका यह धरना जब तक जारी रहेगा, जब तक उनकी मांग पूरी ना हाे जाए। उन्हाेंने बताया कि विश्वविद्यालय में एक व्यक्ति पर  क्रिमिनल धाराएं लगे हाेने बाद नियुक्त किया गया है। उसे हटाया जाए। गांव जाट और पाली व स्थानीय लोगों को नियुक्ति किया जाए, स्थानीय लोगों का शोषण बंद हाे, जाति विशेष की नियुक्ति बंद हाे, चहेतों का प्रमोशन बंद हाे, नई शिक्षक भर्ती की जांच सीबीआई से हाे, विश्वविद्यालय के भ्रष्टाचार की सीबीआई द्वारा जांच हो व भवन निर्माण, अन्य समान की खरीद फरोक्त आदि सभी मुद्दों की जांच सीबीआई से कराई जाए।

ग्रामीणाें काे आराेप है कि इस विषय में बहुत बार मौखिक और लिखित शिकायत के बाद भी कोई समाधान नहीं हो पाया है। कोरोना महामारी में भी अब अनिश्चितकालीन धरना करने के लिए विवश हैं। अनिश्चितकालीन धरना के दौरान हरियाणा सरकार के द्वारा निर्देशित सभी सावधानियां जैसे मास्क, सोशल डिस्टंेस, सेनिटाइजज का विशेष ध्यान रखा जाएगा।

खबरें और भी हैं...