पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बैठक:लॉजिस्टिक हब पर शीघ्र होगा काम प्रारंभ; बिजली पानी और सड़क निर्माण को लेकर किया गया मंथन

नारनौल8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नांगल चौधरी के विधायक डॉ. अभय सिंह यादव ने मंगलवार लॉजिस्टिक हब पर कार्य प्रारंभ करने के सिलसिले में सिंचाई विभाग के विश्राम गृह में विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ लंबी चर्चा की। चंडीगढ़ से आए लॉजिस्टिक हब के लिए बनाई गई एसपीवी के कन्वीनर संजीत सिंह समेत पीडब्ल्यूडी, जन स्वास्थ्य विभाग एवं बिजली विभाग के अधिकारियों के साथ आगे किए जाने वाले कामों की रूपरेखा पर विस्तृत चर्चा की गई।

इसमें प्रमुख रूप से एनएच-148बी से लॉजिस्टिक हब तक बनने वाली सड़क का निर्माण, घाटासेर से छिलरो तक सड़क निर्माण, नारनौल से एनडी-2 पंपहाउस से लॉजिस्टिक हब तक पानी की लाइन डालने का कार्य तथा लॉजिस्टिक हब में बनने वाले वाटर वर्क्स का निर्माण एवं बिजली विभाग द्वारा लॉजिस्टिक हब तक विशेष बिजली की सप्लाई की लाइन डालने पर चर्चा की गई।

इस मौके पर सभी संबंधित विभागों ने अपने विभाग द्वारा किए जाने वाले कार्य का एस्टीमेट बनाकर एसपीवी को दे दिया गया है तथा उस एस्टीमेट के मुताबिक इन विभागों को एसपीवी द्वारा अगले एक पखवाड़े में मांगी गई राशि जमा करवा दी जाएगी। उम्मीद है कि नए साल के प्रारंभ तक इन सभी कामों पर कार्य प्रारंभ हो जाएगा। लॉजिस्टिक हब के अंदर दूसरे विकास कार्यों के बारे में अलग से टेंडर किया जा रहा है तथा वह कार्य भी साथ साथ ही प्रारंभ होगा।

सरकार का प्रयास है कि हब के प्रथम फेज का निर्माण अगले 2 साल के अंदर पूर्ण कर लिया जाए ताकि दिल्ली मुंबई रेलवे फ्रेट कॉरिडोर के प्रारंभ होने के साथ ही इस लॉजिस्टिक हब पर भी कार्य पूर्ण कर लिया जाए। डॉ. यादव ने अधिकारियों से कहा कि सड़क, बिजली व पानी आदि की मूलभूत सुविधाएं इस तरीके से तैयार की जाए कि लॉजिस्टिक हब के आसपास भविष्य में होने वाले औद्योगिक विकास के लिए भी यह सेवाएं पर्याप्त रूप से उपलब्ध हों।

उन्होंने कहा क्षेत्र में नेशनल हाईवे का जो विस्तृत नेटवर्क तैयार हो रहा है, उसके साथ ही जब रेलवे का काॅरिडोर शुरू हो जाएगा तो इस क्षेत्र की भविष्य में लॉजिस्टिक हब के आसपास एक औद्योगिक केंद्र के रूप में विकसित होने की प्रबल संभावनाएं हैं। मीटिंग में उपस्थित अधिकारियों ने यह बताया कि यह सभी सुविधाएं उच्च मानकों के साथ बनाई जा रही हैं तथा क्षेत्र में होने वाले औद्योगिक विकास के लिए किसी भी तरह की सेवाओं से संबंधित भविष्य में कोई कठिनाई नहीं आएगी।

खबरें और भी हैं...