• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • 100% Interest Waived From OTS Scheme, Women Borrowers Should Return The Amount In Lump Sum Or In 6 Installments, Time Till December 1

OTS स्कीम से सौ फीसदी ब्याज होगा माफ:रोहतक DC बोले- कर्जदार महिलाएं एकमुश्त या 6 किस्तों में लौटाएं राशि, 1 दिसंबर तक समय

रोहतक2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
 DC यशपाल - Dainik Bhaskar
 DC यशपाल

हरियाणा की कर्जदार महिलाओं के लिए एक अच्छी खबर आई है, जिसके तहत वे 100 प्रतिशत ब्याज माफ करवाकर कर्ज की मूल राशि लौटा सकती हैं। इसके लिए सरकार ने वन टाइम सेटलमेंट (OTS) योजना शुरू की है। जिसके तहत 1 दिसंबर तक लोन चुकाना होगा। एकमुश्त या 6 किस्त में पूरा लोन चुकाने पर ही ब्याज माफी का लाभ मिल पाएगा। हालांकि 31 मार्च 2019 से पहले डिफॉल्टर हो चुकी महिलाओं को इसका लाभ मिलेगा।

रोहत के DC यशपाल ने कहा कि हरियाणा सरकार ने महिलाओं के लिए महिला विकास निगम के लोन के बकाया ब्याज को माफ करने के लिए वन टाइम सेटलमेंट (OTS) योजना शुरू की है। योजना के तहत महिला लाभार्थी लोन की पूरी बकाया राशि का भुगतान एकमुश्त या 6 किस्तों में 1 दिसंबर तक लौटाती है तो उसका सारा ब्याज माफ कर दिया जाएगा।

यह योजना उन महिलाओं को कवर करेगी, जिनका ब्याज 31 मार्च 2019 से निगम को भुगतान के लिए बकाया है। 31 मार्च 2019 को डिफॉल्ट की राशि पर यह योजना लागू होगी। ऋण लेने वालों को 6 महीने के भीतर इसका लाभ उठाने की अनुमति दी जाएगी। यदि बकाया मूल राशि को एकमुश्त या किश्तों में 6 महीने के भीतर चुका दिया जाता है तो वह लाभार्थी महिला ब्याज की 100 प्रतिशत छूट के लिए पात्र होगी।

अंतिम किस्त के साथ मिलेगा ब्याज माफी का लाभ

उन्होंने यह भी स्पष्ट किया की छूट का लाभ ऋणी को बकाया मूलधन की अंतिम किस्त के भुगतान के समय दिया जाएगा। ब्याज में छूट केवल उन्हीं कर्जदारों को दी जाएगी जो 6 माह के भीतर पूरी बकाया मूल का भुगतान कर देंगे। योजना के लाभार्थी कम से कम एक वर्ष के अन्तराल के बाद ही भविष्य में एक और ऋण अग्रिम कर सकते हैं। सरकार की योजना 6 महीने तक मान्य होगी और किसी भी आधार पर या किसी न्यायालय के मामले या मध्यस्थता के बहाने योजना की मान्यता अवधि समाप्त होने के बाद किसी भी दावे पर विचार नहीं किया जाएगा।

महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए फैसला

DC यशपाल ने बताया की हरियाणा महिला विकास निगम की कर्जदार लाभार्थियों को लाभ देने की इस प्रकिया में राज्य सरकार को आर्थिक हानि उठानी पड़ेगी, लेकिन महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार ने यह फैसला लिया है। लाभार्थियों से आह्वान किया कि वे इस योजना का लाभ उठाएं। योजना सीमित समय के लिए है, इसलिए बिना देरी किए 100 प्रतिशत ब्याज माफ करवा सकते हैं।

खबरें और भी हैं...