• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • 20 More Heat Before Nautpa, Mercury @ 45 Degrees, The Effect Of Dry Winds Of Balochistan Thar Desert Is Reaching With Westerly Winds

लौह पिघलाती गर्मी:नौतपा से पहले ही 20 ज्यादा तपिश, पारा @45डिग्री,  बलूचिस्तान-थार मरुस्थल की शुष्क हवाओं का असर पछुआ हवाओं के साथ पहुंच रहा

रोहतक13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गर्मी का फास्ट ट्रैक, सेक्टर छह में 45 डिग्री तापमान की भीषण गर्मी पड़ने के कारण रेल की पटरी ऐसी दिखी जैसे पिघल रही हैं। फोटो : सुमित कुमार - Dainik Bhaskar
गर्मी का फास्ट ट्रैक, सेक्टर छह में 45 डिग्री तापमान की भीषण गर्मी पड़ने के कारण रेल की पटरी ऐसी दिखी जैसे पिघल रही हैं। फोटो : सुमित कुमार

नौतपा में तापमान 46 से 47 डिग्री तक जाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन ऐसा पहली बार हो रहा है कि नौतपा से पहले ही इस बार गर्मी ने रिकॉर्ड तोड़ने शुरू कर दिए हैं। नौतपा 25 मई को प्रवेश के साथ ही सूर्य रोहिणी नक्षत्र में 15 दिन रहेगा। इस दौरान धरती पर सूर्य की लंबवत किरणें पड़ेगी। सूर्य के रोहिणी नक्षत्र में जाने से भीषण धरती तपेगी। वहीं अभी से चल रही पछुआ हवाओं के चलते दो दिन और पछुआ हवाओं के साथ तेज धूप पड़ेगी। तापमान 45-46 डिग्री तक रहेगा। शनिवार को अधिकतम तापमान में 6 डिग्री की बढ़त बनी रही और तापमान 45.5 डिग्री रहा। इसके अलावा न्यूनतम तापमान 24.8 डिग्री रहा।

25 मई से 3 जून तक रहेगा नौतपा
जिले में भीषण गर्मी और प्रचंड लू चरम पर है। नौतपा से पहले ही क्षेत्र 2 डिग्री ज्यादा तापमान की बढ़ोतरी से तप रहा है। जबकि सामान्य दिनों में 2 से 43 डिग्री के बीच ही तापमान दर्ज किया जाता है। नौतपा 25 मई से 3 जून तक रहेगा, लेकिन इस बार पहले ही सूर्यदेव की तपिश आग बरसा रही है। विशेषज्ञों के मुताबिक आने वाले दो दिन में और तेज गर्मी पड़ेगी।

फिलहाल बलूचिस्तान और थार मरुस्थल की गर्म और शुष्क हवाओं का असर उत्तर भारत में पछुआ हवाओं के साथ आ रहा है। साथ ही एक नया पश्चिमी विक्षोभ बन रहा है। इसी की वजह से तेज लू भी चल रही है। वर्तमान में चल रही तेज लू का दौर अभी भी अगले 48 घंटों तक जारी रहेगा। इसके बाद 16 मई को तेज धूलभरी हवाएं 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चलने की संभावना है। मौसम में अस्थिरता की वजह से आंशिक बादलवाई के साथ धूल भरी हवाएं चलने की संभावनाएं हैं।

एक्सपर्ट व्यू: एक नया पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय
मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक अब 16 मई से तापमान में हल्की गिरावट होने की संभावना है। एक नया पश्चिमी विक्षोभ आगे बढ़ रहा है। इसके प्रभाव से एक चक्रवाती वायुदाब बन सकता है। इसकी वजह से प्रति चक्रवाती वायुदाब कमजोर पड़ने और हवाओं की दिशा दक्षिणी-पूर्वी नमी वाली हो जाएगी। इसकी वजह से 16 मई से अधिकतर स्थानों के तापमान में दो से 30 की गिरावट होगी। अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से नीचे जा सकता है व लू से 16 मई की रात से गर्मी से राहत मिलने की संभावना है।

खबरें और भी हैं...