जिला स्तरीय एडोलसेंस एजुकेशन प्रयोगशाला आयाेजित:53% बच्चों का यौन शोषण होता है, समस्या तब और भयावह जब इस बारे 40% किसी को बता भी नहीं पाते

रोहतक2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा स्कूल शिक्षा निदेशालय ने मंगलवार को सेक्टर-3 के द लिटिल श्री स्कूल में एक दिवसीय जिला स्तरीय एडोलसेंस एजुकेशन प्रयोगशाला करवाई। इसमें जिले के लगभग 160 विद्यालय से शिक्षकों ने ट्रेनिंग ली। इसमें निदेशालय से मास्टर ट्रेनर भारत भूषण ने एडोलसेंस एजुकेशन पर ट्रेनिंग दी।

उन्होंने बताया कि 53% बच्चों का यौन शोषण होता है। इसे 40% बच्चे किसी से बता भी नहीं पाते है, जोकि बड़ी समस्या है। अपने स्कूल में आने वाले बच्चों को कैसे बचना है, कैसे शिक्षित करना है, क्या उपाय है और एक अध्यापक इसमें क्या रोल अदा कर सकता है। इस समस्या से विद्यार्थियों को कैसे परिचित करवाया जाए, ताकि वो अपने परिवार और अपने समुदाय को जागरूक कर सकें। अपने आसपास होने वाली घरेलू हिंसा, यौन उत्पीड़न, बाल अवांछित और अवैध प्रथाओं को समाप्त करने में सहयोग दें।

जिला शिक्षा अधिकारी डॉ. विजयलक्ष्मी, बीईओ महम बिजेंद्र हुड्डा, बीईओ सांपला जितेंद्र खत्री, बीईओ रोहतक रंजना दलाल, एईओ अनिल हुड्डा, प्राचार्य सविता दलाल, विजय बाला, राकेश सिवाच ने कार्यक्रम समन्वयक की भूमिका निभाई। संचालन का कार्यभार डॉ. ऋतु मालिक ने किया। प्रदीप दहिया व सुरेंद्र लाकड़ा ने टीम के साथ ट्रेनर के सर्टिफिकेट उपलब्ध करवाए। इस दौरान अंजू विज, सविता, पावेल, सुजीत, पवन, राजेश, अरुण, जयदीप, गीता, मीनाक्षी, अमरपाल मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...