पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सख्ती:नाबालिग को तंबाकू उत्पाद बेचने पर 7 वर्ष कैद, 1 लाख जुर्माना

रोहतक8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शिक्षण संस्थानों के 100 गज के घेरे में तंबाकू उत्पाद बेचना भी प्रतिबंधित
  • तम्बाकू बेचने वाले स्थान पर डिस्पले बोर्ड लगाना अनिवार्य

सार्वजनिक स्थानों पर ऐश-ट्रे लाइटर व माचिस इत्यादि मिलना धूम्रपान का प्रमाण माना जाएगा। सार्वजनिक स्थलों पर ये सामान मिलने पर माना जाएगा कि यहां पर धूम्रपान किया जाता है। डीसी कैप्टन मनोज कुमार ने कहा कि सार्वजनिक स्थानों पर सिगरेट, बीड़ी व किसी अन्य ढंग से धूम्रपान पर प्रतिबंध किया है। होटल, रेलवे स्टेशन, राजकीय एवं राजकीय कार्यालय, बस अड्डे, सिनेमा हॉल, विद्यालय व महाविद्यालय आदि सभी सार्वजनिक स्थानों की श्रेणी में आते हैं।

नियम का उल्लंघन करने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। डीसी कहा कि शिक्षण संस्थानों के 100 गज के घेरे के भीतर कोई भी तंबाकू उत्पाद बेचना प्रतिबंधित है। नाबालिग को तंबाकू या तंबाकू युक्त पदार्थ बेचना बाल न्याय (बच्चों की देखभाल एवं सुरक्षा) अधिनियम 2015 की धारा 77 का उल्लंघन है। इसके जरिए 7 वर्ष तक की कैद और एक लाख रुपए तक के जुर्माने का प्रावधान किया है।

एक्ट का सख्ती से पालन करें

तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम को लेकर बुधवार को एडीसी महेंद्र पाल की अध्यक्षता में प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक की गई। इसमें एडीसी ने तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम को लेकर सख्त दिशा-निर्देश व हिदायत जारी की। बैठक में नगराधीश सुरेन्द्र सिंह, सिविल सर्जन डॉ. अनिल बिरला, जीएम रोडवेज जोगेन्द्र रावल, डीईओ विजय लक्ष्मी नांदल, जिला नोडल अधिकारी डॉ. दिनेश गर्ग, जिला कार्यक्रम अधिकारी बिमलेश कुमारी, राजेश खेड़ा, भानू प्रताप, जितेन्द्र सिंह, मनप्रीत सिंह उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...