• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • AAP Party Under The Leadership Of Rajya Sabha MP Sushil Gupta Conducted Kisan Mazdoor Khet Bachao Yatra In Rohtak

रोहतक में 'आप' की किसान मजदूर, खेत बचाओ यात्रा:पार्टी के राज्यसभा सदस्य डॉ. सुशील गुप्ता ने की अगुवाई, बोले- मनोहर लाल सरकार ने रचा है किसानों की जमीन छीनने का षड्यंत्र

रोहतक5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रोहतक में किसान खेत मजदूर बचाओ यात्रा निकालते आप कार्यकर्ता। - Dainik Bhaskar
रोहतक में किसान खेत मजदूर बचाओ यात्रा निकालते आप कार्यकर्ता।

आम आदमी पार्टी की ओर से रविवार को रोहतक में किसान खेत मजदूर बचाओ यात्रा निकाली, जिसकी अगुवाई पार्टी के राज्यसभा सदस्य डॉ. सुशील गुप्ता ने की। इसमें मध्यम जोन की महिला अध्यक्ष डॉ. माला शर्मा ने भी शिरकत की। प्रदेश प्रवक्ता लवलीन टूटेजा भी मौजूद रहे। आम आदमी पार्टी की ओर से किसान मजदूर खेत बचाओ यात्रा की शुरुआत जाट कॉलेज से की गई, जो मेडिकल कॉलेज, अशोका चौक होते हुए शहर से गुजरी। इस दौरान डॉ. सुशील गुप्ता ने बताया कि 8 दिन की उनकी यह यात्रा 13 सितंबर को पलवल में संपन्न होगी और प्रदेश के सभी जिलों व विधानसभा क्षेत्रों को कवर किया जाएगा।

रोहतक शहर में यात्रा निकालते आप कार्यकर्ता।
रोहतक शहर में यात्रा निकालते आप कार्यकर्ता।

सभी जिलों व विधानसभा क्षेत्रों को करेंगे कवर

डॉ. सुशील गुप्ता ने आरोप लगाया कि राज्य की भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार ने किसानों की जमीन छीनने का षड्यंत्र रचा है। भूमि अधिग्रहण कानून में किया गया संशोधन सीधे तौर पर अडानी, अंबानी जैसे बड़े पूंजीपतियों के लिए फायदेमंद होगा। दिल्ली बॉर्डर पर पिछले 9 माह से किसान शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन कर रहे हैं। 600 के करीब किसानों की आंदोलन के दौरान मौत हो चुकी है, लेकिन सरकार की नींद नहीं खुल रही।

यात्रा की अगुवाई करते राज्यसभा सांसद डॉ. सुशील गुप्ता।
यात्रा की अगुवाई करते राज्यसभा सांसद डॉ. सुशील गुप्ता।

भाजपा और कांग्रेस पर जड़े आरोप

डॉ. सुशील गुप्ता ने कहा कि भाजपा और कांग्रेस दोनों पार्टियां किसानों की दुश्मन हैं। जिस कानून के खिलाफ किसान आंदोलन हो रहा है, उनकी नींव कांग्रेस ने रखी थी। वहीं प्रदेश सरकार ने करनाल में किसानों पर जिस तरह कार्रवाई की और उन पर लाठीचार्ज किया, वह दुर्भाग्यपूर्ण था। यह एक सोची समझी साजिश के तहत किया गया था। जब हरियाणा सरकार का इससे भी मन नहीं भरा तो 24 अगस्त को सरकार ने विधानसभा में भूमि अधिग्रहण बिल पास कर दिया, जिसके तहत सरकार किसी भी किसान की भूमि का अधिग्रहण कर सकती है। सरकार को इन कानूनों को जल्द से जल्द वापस लेना चाहिए।

खबरें और भी हैं...