पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पानी निकासी की व्यवस्था का जायजा:एडीसी और एसडीएम ने ड्रेनों का किया निरीक्षण, ड्रेन-8 से मिट्टी 1 सप्ताह में उठे, माेटर चलवाकर देखी

रोहतक19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ड्रेन की सफाई का निरीक्षण करते हुए एडीसी व एसडीएम। - Dainik Bhaskar
ड्रेन की सफाई का निरीक्षण करते हुए एडीसी व एसडीएम।

मानसूनी सीजन के मद्देनजर बरसाती पानी निकासी की व्यवस्था का जायजा लेने के लिए शनिवार को एडीसी महेंद्रपाल व एसडीएम राकेश कुमार ने ड्रेनों का निरीक्षण किया। उन्होंने तय समय के अंदर हर हाल में सफाई कार्य पूरा करने का आदेश दिए।

एडीसी ने सर्व प्रथम पीरबोधी स्थित पंप हाउस पहुंचकर निरीक्षण किया और वहां चल रहे कार्यों में गति लाने के लिए निर्देश देने के निर्देश दिए। साथ निर्माण कार्य के कारण ड्रेन नंबर 8 में गिरी हुई मिट्टी को एक सप्ताह के अंदर उठाने के निर्देश दिए।

उन्होंने सिंचाई विभाग की तकनीकी विंग की वर्कशॉप का दौरा करते हुए आपात स्थिति के लिए रखे गए पंपों, जनरेटर सेटों व पानी निकासी में काम आने वाली बिजली की मोटरों काे चलवाकर देखा। इस दौरान एसडीएम महम मेजर गायत्री अहलावत, जिला राजस्व अधिकारी पूनम बब्बर, एसई सुनील हुड्डा, एसई राजीव गुप्ता, एक्सईएन रामनिवास, तहसीलदार कलानौर मदनलाल, एक्सईएन मनदीप गुलिया, एक्सईएन भानु प्रताप, एक्सईएन रंजीत मलिक व एसडीओ कंचन सहित संबंधित अधिकारी भी मौजूद रहे।

निर्माण कार्य में अनियमितता मिलने पर ठेकेदार पर केस

बिजली निगम की ओर से ड्रेन और रेन वाटर हार्वेस्टिंग समेत कई अन्य निर्माण कार्य करने वाले ठेकेदार के खिलाफ पुलिस काे शिकायत देकर केस दर्ज करवाया है। उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम के एक्सईएन दर्शन सिंह ने शिकायत में बताया कि रूड़की गांव निवासी मंजीत सिंह की प्रगति ग्रुप के नाम से सेक्टर 2-3 में जाट भवन के पास फर्म है।

मंजीत सिंह की फर्म को ड्रेन, रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम और अन्य कार्यों के लिए टेंडर दिया था। फर्म की तरफ से किए गए कार्य में अनियमितता दिखाई दी। स्टेट विजिलेंस ब्यूरो की जांच में निर्माण कार्य में अनियमितता मिली। इसके लिए फर्म पर 59 लाख 63 हजार 907 रुपए जुर्माना लगाया। जुर्माना राशि को वसूलने के लिए कई बार फर्म को नोटिस भेजा गया, लेकिन हर बार नोटिस को यह कहकर वापस कर दिया कि यह फर्म अब यहां पर नहीं है।

खबरें और भी हैं...