पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

औघड़ पीर मठ विवाद में महापंचायत:प्रशासन को 1 दिन का अल्टीमेटम, एसडीएम के सामने आज दोनों पक्षों की सुनवाई

रोहतकएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राेहतक.अंबेडकर चाैक पर दलित महापंचायत काे संबाेधित करते पूर्व सांसद अशाेक तंवर व माैजूद पूर्व सांसद व परिसघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष डाॅ.उदित राज व अन्य। - Dainik Bhaskar
राेहतक.अंबेडकर चाैक पर दलित महापंचायत काे संबाेधित करते पूर्व सांसद अशाेक तंवर व माैजूद पूर्व सांसद व परिसघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष डाॅ.उदित राज व अन्य।
  • धार्मिक स्थल से जुड़ा विवाद नहीं हो रहा कम, दोनों पक्ष अपने दावों को बता रहे सही, बोहर में भी हुई पंचायत

औघड़ पीर मठ के विवाद को लेकर हुई महापंचायत ने प्रशासन को एक दिन का अल्टीमेटम दिया है। मिशन एकता समिति के आह्वान पर बुलाई गई महापंचायत ने निर्णय लिया है कि अगर न्याय नहीं मिला तो पूरे देश में आंदोलन किया जाएगा।

इसके अलावा महापंचायत में पूर्व सांसद व परिसंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष डाॅ. उदित राज, पूर्व सांसद व अपना भारत मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अशोक तंवर सहित काफी लोगों ने शिरकत की और कहा कि देश में दलितों का अपमान किया जा रहा है, जिसे बर्दाशत नहीं किया जाएगा।

अंबेडकर चौक पर हुई महापंचायत को लेकर पुलिस प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट रहा। इस दाैरान सोनीपत स्टैंड से लेकर अंबेडकर चाैक तक जाम की स्थिति भी बनी रही। अब बुधवार को एसडीएम कोर्ट में दोनों पक्षों की बैठक बुलाई गई है। मंगलवार को मिशन एकता समिति की ओर से औघड़ पीर मठ मामले को लेकर अंबेडकर चौक पर महापंचायत को बुलाई गई।

महापंचायत में पूर्व सांसद व परिसंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. उदित राज ने कहा कि सरकार की मनमर्जी चल रही है और दलित समाज को दबाने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने केंद्र सरकार पर निशाना साधा और कहा कि आरएसएस और भाजपा मिलकर देश में एकछत्र राज चला रहे हैं और सीबीआई व ईडी का दुरुपयोग किया जा रहा है।

मिशन एकता समिति की प्रदेशाध्यक्ष बोलीं- न्याय नहीं मिला तो होगा आंदोलन

तुरंत केस दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार करें : तंवर : पचांयत में पहुंचे पूर्व सांसद व अपना भारत मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अशोक तंवर ने कहा कि जिस तरह से दलित समाज के साथ अन्याय किया जा रहा है, उसका जवाब देने का समय आ गया है। डरने की जरूरत नहीं है, समाज के हकों पर किसी प्रकार का कुठाराघात नहीं होने दिया जाएगा। प्रशासन समय रहते औघड़ पीर मठ का विवाद हल करें और गुंडागर्दी करने वालों के खिलाफ तुरंत केस दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार करें। साथ ही उन्होंने कहा कि कितने शर्म की बात है कि प्रशासन के सामने पवित्र डेरे पर इस तरह से गुंडागर्दी की गई और प्रशासन मूक दर्शक बना रहा।

दबंगाें के इशारे पर मठ पर कब्जा किया : कांता

मिशन एकता समिति की प्रदेशाध्यक्ष कांता आलडिय़ा ने कहा कि प्रशासन को न्याय करना पड़ेगा, नहीं तो दलित समाज पूरे देश में इस मामले को लेकर आंदोलन करेगा। महापंचायत के बाद इस बारे में एक मिशन एकता समिति की बैठक भी हुई और आगामी रणनीति पर विचार-विर्मश किया गया। दरअसल, विवाद के चलते प्रशासन ने मठ को धारा 145 के कब्जे में ले लिया था और मिशन एकता समिति की प्रदेशाध्यक्ष कांता आलड़िया का आरोप है कि दबंगों के इशारे पर औघड़ पीर मठ पर कब्जा किया गया है।

औघड़ पीर विवाद को लेकर गांव बोहर में पंचायत :

औघड़ पीर मठ विवाद को लेकर गांव बोहर में एक पंचायत की गई। इसमें महंत जयनाथ ने कहा कि बाबा शीशराम नाथ ने 29 अप्रैल, 2016 को इस डेरे को ट्रस्ट का रूप दिया जो तहसीलदार रोहतक से पंजीकृत है। क्योंकि उचित उत्तराधिकारी ना होने के कारण उनको ये डर था कि डेरे की सम्पत्ति का दुरुपयोग हो सकता है, इसलिए उन्होंने इस ट्रस्ट की स्थापना की।

ट्रस्ट में यह साफ लिखा हुआ है कि महंत ही अगले महंत को मनोनीत करेगा। अब अठगामा सर्व समाज दोषियों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई व गोलमाल की उच्चस्तरीय जांच प्रशासन से करवाना चाहता है। प्रशासन से मांग की जाएगी कि इस मामले में अति शीघ्र ठोस कार्रवाई करें।

आज दोनों पक्षों की एसडीएम करेंगे सुनवाई

बोहर के औघड़ पीर मठ मामले में बुधवार को दोनों पक्षों की एसडीएम रोहतक के सामने सुनवाई होनी है। दोनों पक्ष अपनी ओर से दस्तावेज पेश कर सकेंगे। विवाद के चलते ही प्रशासन की ओर से कोर्ट में धारा 145 लगाई गई है। जब तक कोई हल नहीं निकलता, तब तक यह धारा रहेगी। उम्मीद है कि सुनवाई के बाद कोई ना कोई हल निकल आएगा। तब तक दोनों पक्षों से शांति बनाए रखने की अपील की गई है।
- गोरखपाल, डीएसपी हेडक्वार्टर।

भाजपा पर लगाया संविधान बदलने के प्रयास का आरोप : उदित राज ने किसान आंदोलन को लेकर भी कहा कि भाजपा संविधान तक बदलने के प्रयास में है, लेकिन जो किसान आंदोलन चल रहा है, उससे आगे सरकार की हिम्मत नहीं है। औघड़ पीर विवाद को लेकर उदित राज ने कहा कि सरकार को न्याय करना पड़ेगा, अन्यथा बड़े स्तर पर आंदोलन चलाया जाएगा, इसके लिए हम सभी को एक होकर लड़ना पड़ेगा। महापंचायत में करनैल सिंह औडा, मनीराम बहलान, महेन्द्र बागड़ी, किसान नेता अशोक जसिया, विमल मनाेचा, मनजीत मोखरा, राजपाल प्रजापति, अठगामा प्रधान बलबीर सरपंच, विक्रम डूमोलिया, सुनील बोहर, सुरेन्द्र सिंधु, मनीषा बहाेत, मोनू तपस्या, डाॅ. निशा जसिया, सोमबीर बागड़ी, रामप्रकाश, प्रिंस मल्होत्रा, नवीन मेहरा, सुनील राठी, कृष्ण मुंडे आदि उपस्थित रहें।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

    और पढ़ें